सरकारी वकील कौन होता है? Government Lawyer कैसे बने? जानिए Government Lawyer बनने से जुड़ी सभी जानकारी हिंदी में

आज हम जानेंगे सरकारी वकील (Government Lawyer) कैसे बने पूरी जानकारी (How To Become Government Lawyer In Hindi) के बारे में क्योंकि सभी की रुचि अलग अलग होती है और वह अपने इंटरेस्ट के हिसाब से ही अपने कैरियर का सिलेक्शन करते हैं। अगर आप कानून की फील्ड में जाना चाहते हैं, तो आपको इसके बारे में पूरी जानकारी प्राप्त कर लेनी चाहिए। कानून के क्षेत्र में Government Lawyer यानी कि सरकारी वकील की पोस्ट काफी महत्वपूर्ण पोस्ट मानी जाती है, जिसमें व्यक्ति को काफी मान सम्मान और अच्छी सैलरी की प्राप्ति होती है।

एक सरकारी वकील के तौर पर व्यक्ति गवर्नमेंट के पक्ष को कोर्ट में पेश करता है और गवर्नमेंट की नीतियों को सही साबित करता है। आज के इस लेख में जानेंगे कि Government Lawyer Kaise Bane, सरकारी वकील बनने के लिए क्या करे, Government Lawyer Meaning In Hindi, Government Lawyer Kise Kahte Hai, सरकारी वकील बनने का तरीका, Sarkari Vakil Kaise Bante Hain, आदि की सारी जानकारीयां विस्तार में जानने को मिलेंगी, इसलिये पोस्ट को लास्ट तक जरूर पढे़ं।

सरकारी वकील क्या है? – What is Government Lawyer Information in Hindi?

Government Lawyer Kaise Bane
Government Lawyer Kaise Bane

सरकारी वकील अथवा Government Lawyer सरकार की तरफ से प्रतिपादित एक ऐसा व्यक्ति होता है जिसने कानून की डिग्री ली होती है और इनका काम सरकार की तरफ से अदालतों में गवर्नमेंट का पक्ष पेश करना होता है, साथ ही गवर्नमेंट के आदेश पर यह किसी भी व्यक्ति का केस लड़ने का काम भी करते हैं। इनकी नौकरी सरकारी नौकरी होती है और इन्हें सेंट्रल गवर्नमेंट के द्वारा हर महीने अच्छी खासी तनख्वाह दी जाती है। सरकारी वकील को Public Prosecutor भी कहा जाता है।

सरकारी वकील कैसे बने? – How to Become a Government Lawyer?

Sarkari Vakil अथवा Government Lawyer बनने के लिए आपको कानून की डिग्री हासिल करनी होगी। जब आप कानून की डिग्री हासिल कर लेंगे तो आप दो प्रकार से गवर्नमेंट वकील या फिर Government Lawyer बन सकते हैं, जो निम्नानुसार है।

  • एक्सपीरियंस के आधार पर
  • एपीओ की एग्जाम को पास करने पर

1. एक्सपीरियंस के आधार पर

एक्सपीरियंस के आधार पर गवर्नमेंट अथवा सरकारी वकील बनने के लिए व्यक्ति को कम से कम 7 साल का एक्सपीरियंस हासिल करना चाहिए। इसके अलावा व्यक्ति की उम्र कम से कम 35 साल होनी चाहिए। इसके साथ ही उसके अंदर तर्क वितर्क करने की क्षमता काफी अच्छी होनी चाहिए, ताकि वह प्रसिद्धि को प्राप्त कर सके। इसके अलावा व्यक्ति का अगर किसी नेता के साथ पॉलिटिकल कनेक्शन है, तो गवर्नमेंट आपका सिलेक्शन Public Prosecutor के तौर पर कर सकती है।

एक्सपीरियंस के आधार पर सरकारी वकील बनने का एक नुकसान यह है कि इसमें गवर्नमेंट आपका सिलेक्शन करती है। इसी कारण गवर्नमेंट जब तक चाहेगी तब तक ही आप Public Prosecutor के पोस्ट पर रह सकेंगे। जब गवर्नमेंट चाहेगी तो वह आपको इस पोस्ट से हटा भी सकती है या फिर आपकी पोजीशन चेंज कर सकती है।

2. एपीओ की एग्जाम को पास करने पर

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि हर साल Government Lawyer अथवा सरकारी वकील बनने के लिए स्टेट गवर्नमेंट के द्वारा एपीओ की एग्जाम का आयोजन करवाया जाता है। इस एग्जाम में भाग लेने के लिए व्यक्ति के पास कानून की डिग्री होनी चाहिए। अगर उसके पास कानून से संबंधित डिग्री है तो वह इस परीक्षा में शामिल हो सकता है और इस परीक्षा को अगर वह पास कर लेता है तो फिर उसका सिलेक्शन सरकारी वकील अथवा गवर्नमेंट लॉयर के पद पर हो जाता है।

इस प्रकार वह सरकारी वकील या फिर गवर्नमेंट वकील बनने में कामयाब हो जाता है। एक्सपीरियंस के आधार पर Public Prosecutor बनने के बाद सरकार जब चाहे तब आपको आपकी पोस्ट से हटा सकती है, परंतु अगर आप एपीओ परीक्षा को पास करके गवर्नमेंट वकील बनते हैं, तो आपको स्टेट गवर्नमेंट के द्वारा पद मुक्त नहीं किया जा सकता। यानी कि प्रदेश में चाहे कोई भी सरकार क्यों ना हो, आपकी नौकरी इससे प्रभावित नहीं होगी। आप अपनी पोस्ट पर बने रहेंगे।

सरकारी वकील की क्या आवश्यकता है?

आपको बता दें कि हर स्टेट की हाई कोर्ट या फिर उच्च कोर्ट में सेंट्रल गवर्नमेंट या फिर स्टेट गवर्नमेंट के द्वारा अदालतों में अपील या फिर कानूनी प्रोसीजर करने के लिए प्रोविजन ऑफ सेक्शन 24 की सीआरपीसी 1972 के अंतर्गत किसी Public Prosecutor का सिलेक्शन किया जाता है।

हर जिले में स्टेट गवर्नमेंट के द्वारा एक Public Prosecutor यानि Sarkari Vakil को नियुक्त किया जाता है। स्टेट गवर्नमेंट कानूनी प्रोसेस को स्ट्रांग बनाने के लिए एक से ज्यादा सरकारी वकील या फिर Public Prosecutor को पोस्ट कर सकती है अथवा उन्हें नियुक्त कर सकती है।

एपीओ की परीक्षा – APO Exam

एपीओ की परीक्षा का मुख्य तौर पर 3 भागों में बांटा गया है, जो निम्नानुसार है।

  • प्रारंभिक परीक्षा
  • मुख्य परीक्षा
  • इंटरव्यू

1. प्रारंभिक परीक्षा : इसमें एक पेपर होता है, जो वैकल्पिक वाले होते हैं और इसका टोटल अंक 150 होता है।

2. मुख्य परीक्षा : यह लिखित परीक्षा होती है। इसमें 4 पेपर होते हैं और इनका अंक 400 होता है।

3. पर्सनैलिटी टेस्ट : इसमें इंटरव्यू होता है, जो 50 अंकों का होता है।

एपीओ प्रारंभिक परीक्षा पैटर्न – APO Preliminary Exam Pattern

  • राष्ट्रीय / अंतर्राष्ट्रीय स्तर की वर्तमान घटना:10 अंक
  • भारतीय राजनीति और अर्थव्यवस्था
  • सामान्य विज्ञान : 8 अंक
  • यूपी पुलिस अधिनियम और विनियम:15 अंक
  • भारतीय दंड संहिता :35 अंक
  • आपराधिक प्रक्रिया संहिता:25 अंक
  • भारतीय राष्ट्रीय आंदोलन: 8 अंक
  • विश्व भूगोल और प्रदूषण :8 अंक
  • भारत का इतिहास: 8 अंक
  • भारतीय साक्ष्य अधिनियम :25 अंक

एपीओ मुख्य परीक्षा का पैटर्न

  • अंग्रेज़ी: 100 अंक
  • साक्ष्य का कानून:100 अंक
  • आपराधिक कानून और प्रक्रिया:100 अंक
  • हिंदी:100 अंक
  • सामान्य ज्ञान:100 अंक

एपीओ परीक्षा का आवेदन शुल्क – Application Fee of APO Exam

union public service commission के द्वारा एपीओ की एग्जाम के लिए भर्ती प्रक्रिया करवाई जाती है। एपीओ की परीक्षा में शामिल होने के लिए सामान्य वर्ग और पिछड़ा वर्ग से संबंध रखने वाले अभ्यर्थियों को ₹125 की फीस भरनी पड़ती है, वहीं अनुसूचित जाति और अनुसूचित जनजाति वर्ग से संबंध रखने वाले अभ्यर्थियों को ₹65 और दिव्यांग अभ्यर्थियों को ₹15 की फीस भरनी पड़ती है।

सरकारी वकील बनने के लिए कौशल – Skills to Become a Government Lawyer

गवर्नमेंट वकील अथवा सरकारी लॉयर बनने के लिए व्यक्ति के अंदर निम्न कौशल होने चाहिए।

  • उसके अंदर वाद-विवाद करने की क्षमता होनी चाहिए।
  • निडरता होनी चाहिए।
  • अदालत में सत्य को कहने का जज्बा होना चाहिए।
  • कम्युनिकेशन स्किल अच्छी होनी चाहिए।
  • प्रॉब्लम सॉल्विंग का गुण होना चाहिए।
  • मामले की अच्छी समझ होनी चाहिए।
  • जिस केस की हैंडलिंग वह करता है उसके बारे में सभी प्रकार की जानकारी को इकट्ठा करने का हुनर होना चाहिए।
  • अपने पक्ष को मजबूती के साथ रखने का गुण भी होना चाहिए।

सरकारी वकील का वेतन – Salary of Government Lawyer

अगर हम हमारे देश में गवर्नमेंट लॉयर यानी कि सरकारी वकील की महीने की सैलरी के बारे में बात करें, तो इनकी महीने की सैलरी तकरीबन ₹46,700 के आसपास होती है। हालांकि स्टेट के अनुसार यह सैलरी अलग-अलग भी हो सकती है। सैलरी के अलावा भी एक सरकारी वकील को सरकार की तरफ से अन्य कई फायदे और भत्ते दिए जाते हैं, जिनमें मुख्य तौर पर पीएफ और ग्रेजुएटी जैसे फायदे हैं।

सरकारी वकील के काम और अधिकार – Work and Power of Government Lawyer

Government Lawyer यानि Public Prosecutor के काम और अधिकार निम्नानुसार है।

  • गवर्नमेंट यानी की सरकारी वकील को स्टेट गवर्नमेंट की तरफ से किसी भी केस की पैरवी करनी होती है।
  • सरकारी वकील यानि Public Prosecutor का काम केस से संबंधित सभी जरूरी पहलुओं को सामने रखना होता है और अदालत के काम में सहयोग करना होता है।
  • किसी भी मामले में इन्वेस्टिगेशन प्रोसेस स्टार्ट होने के साथ ही Public Prosecutor का काम चालू हो जाता है, वह इन्वेस्टिगेशन के दरमियान एविडेंस को इकट्ठा करता है तथा अदालत में एविडेंस को पेश करता है।
  • गवर्नमेंट वकील अदालतों में गवर्नमेंट के आदेश के अनुसार किसी भी केस की कार्यवाही में हिस्सा लेते हैं।
  • अगर कोर्ट में पीड़ित व्यक्ति वकील के खर्च को नहीं दे सकता है, तो कोर्ट उसे वकील की सर्विस प्रदान करती है। उस टाइम गवर्नमेंट वकील यानी की सरकारी वकील उस पीड़ित व्यक्ति के केस की पैरवी करता है, इसके लिए पीड़ित व्यक्ति से किसी भी प्रकार की कोई भी फीस चार्ज नहीं की जा सकती है।
  • गवर्नमेंट यानी कि सरकारी वकील अदालतों के कामों में सपोर्ट देता है।
  • सरकारी वकील यानी कि Public Prosecutor स्टेट के जुडिशरी या फिर कानूनी प्रक्रिया का हिस्सा होता है, जो अदालतों में मुकदमा, अपील तथा कानून से संबंधित अन्य प्रोसेस के लिए प्रभारी का काम करता है।

सरकारी वकील बनने के फायदे – Advantage/Benefits of Becoming a Government Lawyer

Government Lawyer बनने के बाद व्यक्ति को सबसे बड़ा फायदा जो प्राप्त होता है वह यह है कि उसे अच्छी खासी सैलरी प्राप्त होती है, क्योंकि हमारे देश में गवर्नमेंट पोस्ट पर रहने वाले लोगों की सैलरी अच्छी ही होती है। इसके अलावा उसे मान सम्मान की प्राप्ति भी होती है। सरकारी वकील बनने के बाद उसे पीड़ित और मजबूर लोगों के लिए काम करने का मौका मिलता है।

सरकारी वकील बन जाने के बाद व्यक्ति के पास कानून से संबंधित कई बातों का ज्ञान हो जाता है। दूसरे लोगों के केस को भी Government Lawyer लड़ सकता है और अपनी एक्स्ट्रा इनकम कर सकता है। लोगों को कानूनी सलाह देकर भी वह अपनी कमाई कर सकता है।

निष्कर्ष

आशा करते हैं कि आपको Government Lawyer Details In Hindi की पूरी जानकारी प्राप्त हो चुकी होगी। अगर फिर भी आपके मन में Government Lawyer Kaise Bane (How To Become Government Lawyer In Hindi) और सरकारी वकील कैसे बने? को लेकर कोई सवाल हो तो, आप बेझिझक Comment Section में Comment कर पूछ सकते हैं।

अगर यह जानकारी पसंद आया हो तो, जरूर इसे Share कर दीजिए ताकि Government Lawyer Kya Hota Hai बारे में सबको जानकारी प्राप्त हो।

About Ainain

Government Lawyerमैं इस ब्लॉग का संस्थापक और एक पेशेवर ब्लॉगर हूं। यहाँ पर मैं नियमित रूप से अपने पाठकों के लिए उपयोगी और मददगार जानकारी साझा करता हूं। ❤️

Leave a Comment

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.