Tally Kya Hota Hai और Tally Kaise Sikhe? यहाँ जाने Tally Course से जुड़ी सभी जानकारी हिंदी में

आज के लेख में हम बात करेंगे की टैली क्या है(What is Tally in Hindi) और टैली कैसे सीखें? 12वी कॉमर्स के बच्चो को बहुत सारा कन्फ्यूजन होता है कि 12वी के बाद क्या करे जिससे उनका कैरियर अच्छा रहे? यदि आपने भी 12वी कक्षा कॉमर्स स्ट्रीम से कि है और आप अकाउंट में इंटरेस्ट रखते है और अकाउंटिंग में अपना कैरियर बनाना चाहते है तब यह आर्टिकल आपके लिए है।

आज के इस आर्टिकल में आप जानेंगे की टैली क्या है, टैली कोर्स कैसे करें, टैली कोर्स कितने महीने का होता है, टैली कोर्स करने के फायदे, टैली के प्रकार कितने हैं, tally meaning in hindi और टैली कोर्स के बारे में सभी जानकारी जानने वाले है। तो आइए शुरुआत करते हैं….

Tally क्या होता है? – What is Tally in Hindi

Tally in Hindi
Tally in Hindi

Tally एक अकाउंटिंग कोर्स है। साथ ही साथ tally एक अकाउंटिंग सॉफ्टवेयर है, इस सॉफ्टवेयर को भारतीय कंपनी Tally solutions pvt. ltd द्वारा निर्माण किया गया है। इसका उपयोग किसी भी Company या Organization में होने वाले खर्च, लेनदेन और सभी तरह के हिसाब किताब रखने के लिए किया जाता हैं।

आखिर में आसान से शब्दो में बताऊ तो, किसी भी कंपनी, बिजनेस में को रिकॉर्ड तैयार किया जाता है, साथ ही अपने इस डाटा को सुरक्षित सॉफ्टवेयर में रखा जाता है, Tally Software में लेनदेन के काम को संभालने के लिए किया जाता है इसी प्रोसेस को Tally कहा जाता हैं।

tally का सबसे ज्यादा उपयोग भारत में ही होता है। देश में छोटी से लेकर बड़ी कंपनियों में एकाउंटिंग के लिए टैली सॉफ्टवेयर का इस्तेमाल करती है।

टैली कैसे सीखें? – How to learn Tally?

आज के समय में किसी भी Software को सीखना कोई बड़ी बात नहीं है, यदि आपको भी अकाउंट और इससे जुड़ी इंडस्ट्री में इंटरेस्ट है और आप इसमें करियर बनाना चाहते है तो आपको tally सीखना जरूरी है। अब आपके मन में सवाल उठ रहा होगा की “टैली कोर्स कहाँ से करें”, तो मै बता दू की आप tally course Online और Offline दोनों तरीको से सीख सकते है।

यदि आप टैली कोर्स ऑनलाइन करना चाहते हैं तो बहुत सारे प्लेटफॉर्म है जैसे कि udemy और Coursera आदि जैसे और भी Online platform है, जहा से आप टैली का कोर्स खरीद कर सिख सकते है। लेकिन किसी भी कोर्स को खरीदने से पहले आपको उनके Review देखना भी जरूरी है।

यदि आप पैसे खर्च करना नहीं चाहते हैं तो आप यूट्यूब और गूगल के माध्यम से Tally course को कर सकते है। यूट्यूब पर आपको tally से जुड़ी बहुत सारी वीडियो मिल जाएगी जहां से आप आसानी से Tally course को कर सकते है।

ऑनलाइन के अलावा Tally course Offline भी कर सकते है। आपके आसपास ऐसे बहुत से इंस्टीट्यूट मिल जायेगे जो आपको Tally ka course सिखा देगे। आप अपने अनुसार लोकल रिसर्च करके, उनके रिव्यू देखकर आप उन इंस्टीट्यूट से tally का course सीख सकते है।

टैली कितने महीने का कोर्स होता है?

टैली कोर्स 1, 2, या 3 महीनों का भी हो सकता है और इससे ज्यादा के भी कोर्स होते है। टैली का कोर्स का समय आपके उपर और इंस्टीट्यूट के उपर आधारित है कि, बह  कितने समय में सिखा सकते है और आप कितने समय में सीख सकते है|

इसके अलावा यदि आप ऑनलाइन टैली कोर्स करते है तो यह पूरी तरह से आप के उपर निर्भर है कि आप कितने समय में टैली कोर्स में मास्टर बन जाते है।

Tally Course करने के फायदे? – Benefits of Tally Course in Hindi

यदि आपने टैली के कोर्स को करने की सोचा है, लेकिन अभी भी आपके मन में सोच रहे है की आपको यह कोर्स करना चाहिए या नहीं? इस कोर्स के फायदे क्या है?

इस कोर्स को करने के बहुत फायदे है, यदि आपने 12वी कक्षा को कॉमर्स स्ट्रीम से किया है तो आपको पहले से अकाउंट में इंटरेस्ट होगा! जब आप इस कोर्स को करते है तो आपका करियर और बेहतर बन जाता है क्योंकि टैली को भी अकाउंट ही कहा जाता हैं।

आज के समय में बहुत सारे ऐसे बिजनेस है और बहुत सारे नए Entrepreneur अपने नए बिजनेस के लिए ऐसे लोगो को खोज रहे है जो टैली में एक्सपर्ट हो। आज टैली से जुड़ा काम तो बहुत है, लेकिन इसमें काम करने वाले एक्सपर्ट बहुत कम है। तो आप इसका फायदा उठा सकते है।

जब आप टैली का कोर्स करते है तब कंप्यूटर में एकाउंटिंग की जानकारी रख लेते है। इस कोर्स को करने के बाद किसी भी कंपनी में एक अकाउंटेंट के तौर पर जॉब पा सकते है।

टैली में अकाउंट कितने प्रकार के होते है – Types of Account in Tally in Hindi

बहुत से लोगो के मन में सवाल आता है कि टैली कितने प्रकार के होते है? आपकी जानकारी के लिए बता दू की, Tally के main 3 प्रकार के होते है।

  1. पर्सनल अकाउंट
  2. रियल अकाउंट
  3. नॉमिनल अकाउंट

Personal account: पर्सनल अकाउंट के नाम अनुसार यह अकाउंट किसी एक व्यक्ति या फिर एक कंपनी के नाम से होता है जिसको पर्सनल अकाउंट कहा जाता हैं।

Real Account: रियल अकाउंट में सभी ऐसेट्स और गुड्स अकाउंट शामिल होते है जैसे की फर्नीचर अकाउंट, कार अकाउंट इत्यादि को रियल अकाउंट कहा जाता हैं।

Nominal account: नॉमिनल अकाउंट में आपके बिजनेस से संबंधित सभी इनकम और खर्च को नॉमिनल अकाउन्ट के अंतर्गत आते है जैसे कि सैलरी अकाउंट, लाइटबिल अकाउंट इत्यादि अकाउंट को नॉमिनल अकाउंट कहा जाता हैं।

टैली का इतिहास – History of Tally in Hindi

shyam sunder goenka

टैली के बारे में इतनी सारी जानकारी जानने के बाद, अब आप टैली सॉफ्टवेयर के हिस्ट्री के बारे में जानना चाहेंगे| तो चलिए……

टैली सॉफ्टवेयर का निर्माण भारत में हुआ था और इसके फाउंडर भी एक इंडियन है। सन 1986 में भारत के श्याम सुंदर गोयनका और उनके बेटे “भारत गोयनका” ने tally सॉफ्टवेयर का निर्माण किया था।

इससे पहले श्याम सुंदर गोयनका एक कंपनी चलाते थे, जिसमें वह दूसरे प्लांट्स और टेक्सटाइल मिल्स को मशीन पार्ट्स और कच्चा माल सप्लाई करते थे।

इस बिजनेस के दौरान उनके बिजनेस के अकाउंट को सम्भाल ने के लिए कोई सॉफ्टवेयर नहीं था। उसके बाद उन्होंने अपने बेटे के साथ मिलकर टैली का आविष्कार किया।

साल 1986 मे इस सॉफ्टवेयर को बनाया और इसका नाम Peutronics रखा गया। बाद में 1999 में इस नाम को बदल कर Tally Solutions रखा गया।

निष्कर्ष

आज के इस आर्टिकल में जाना कि टैली क्या है(What is Tally in Hindi) इसका उपयोग क्या है और इसका फायदा क्या है? साथ ही साथ आपने टैली ऐप के हिस्ट्री के बारे में भी जानकारी जनी। उम्मीद है आपको टैली की जानकारी पसंद आई होगी।

इस आर्टिकल मै मैंने अपनी और से पूरी डिटेल में जानकारी देने की कोशिश की है, इसके बावजूद इस आर्टिकल से जुड़े कोई सवाल है तो आप नीचे कॉमेंट बॉक्स में जरूर बताए।

Leave a Comment