IIT Professor क्या होता है? IIT मे Professor कैसे बने? जानिए IIT मे Professor बनने से जुड़ी सभी जानकारी हिंदी में

आज हम जानेंगे आईआईटी में प्रोफेसर (IIT me Professor) कैसे बने पूरी जानकारी (How To Become Professor in IIT In Hindi) के बारे में क्योंकि एजुकेशन हर किसी व्यक्ति की जिंदगी का एक महत्वपूर्ण अंग होता है। कई लोगों को पढ़ाई में बहुत ही ज्यादा इंटरेस्ट होता है जिसके कारण वह Teaching की फील्ड में अपना कैरियर बनाने का डिसीजन लेते हैं। एजुकेशन की फील्ड में विभिन्न प्रकार के पद होते हैं जिनमें से ही एक प्रोफेसर का पद होता है। प्रोफेसर के पद भी विभिन्न प्रकार के होते हैं, जैसे; कॉलेज प्रोफेसर, इंस्टीट्यूट प्रोफेसर, पीएचडी प्रोफेसर और IIT Professor

आईआईटी का प्रोफेसर बनने के लिए आपके अंदर कुछ सब्जेक्ट का गहन ज्ञान होना चाहिए तभी आप एक अच्छे आईआईटी प्रोफेसर बन सकते हैं। आज के इस लेख में जानेंगे कि IIT Professor Kaise Bane, आईआईटी प्रोफेसर बनने के लिए क्या करे, IIT Professor Meaning In Hindi, IIT Professor Kise Kahte Hai, आईआईटी प्रोफेसर बनने का तरीका, IIT Professor Kaise Bante Hain, आदि की सारी जानकारीयां विस्तार में जानने को मिलेंगी, इसलिये पोस्ट को लास्ट तक जरूर पढे़ं।

आईआईटी प्रोफेसर क्या है? What is IIT Professor Information in Hindi?

विषय-सूची

Iit Me Professor Kaise Bane
Iit Me Professor Kaise Bane

IIT प्रोफेसर एक ऐसा व्यक्ति होता है,जिसके पास ज्ञान का भंडार होता है। एक आईआईटी प्रोफेसर बनना आसान काम नहीं है। इसके लिए व्यक्ति को काफी मेहनत करनी होती है। आईआईटी प्रोफेसर के पास लगभग विभिन्न प्रकार के सब्जेक्ट की जिम्मेदारी होती है जिसमें वह निपुण होता है और अपने ज्ञान का इस्तेमाल करके वह आईआईटी में पढ़ने वाले विद्यार्थियों की जिंदगी को रोशन बनाने का काम करता है।

आईआईटी हमारे इंडिया की काफी प्रसिद्ध इंस्टिट्यूट मानी जाती है, जहां पर हाई लेवल की पढ़ाई और कोर्स करवाए जाते हैं। जो व्यक्ति आईआईटी में प्रोफेसर के पद पर होता है उसे काफी मान सम्मान की नजरों से देखा जाता है।

आईआईटी प्रोफेसर बनने के लिए योग्यता – Qualification to Become an IIT Professor

  • आईआईटी प्रोफेसर बनने के लिए व्यक्ति के पास किसी भी विषय में graduation की डिग्री होनी चाहिए।
  • उसके पोस्ट ग्रेजुएशन में कम से कम 50% अंक भी होने चाहिए।

आईआईटी में प्रोफेसर बनने के लिए आयु सीमा – Age Limit to Become Professor in IIT

आईआईटी में प्रोफेसर बनने के लिए किसी भी प्रकार की उम्र सीमा निर्धारित नहीं की गई है। इसी के कारण कई लोग ऐसे होते हैं जो दूसरी जॉब से एक्सपीरियंस प्राप्त करने के बाद इस पेशे को चुनते हैं, हालांकि उन्हें भी आईआईटी प्रोफेसर बनने के लिए यूजीसी नेट की परीक्षा को क्वालीफाई करना होता है।

आईआईटी प्रोफेसर बनने के लिए प्रवेश परीक्षा – Entrance Exam to Become an IIT Professor

आईआईटी प्रोफेसर बनने के लिए व्यक्ति को निम्न एंट्रेंस एग्जाम में से कोई भी एग्जाम पास करनी होती है।

  • UGC NET
  • SLET
  • GATE
  • CSIR NET

आईआईटी प्रोफेसर बनने के लिए कौशल – Skills to Become an IIT Professor

आईआईटी में प्रोफेसर बनने के लिए व्यक्ति के अंदर निम्न कौशल होने चाहिए।

  • आईआईटी में प्रोफेसर बनने के लिए व्यक्ति के अंदर एजुकेशन का जुनून होना चाहिए।
  • टाइम मैनेजमेंट आना चाहिए।
  • पॉजिटिव विचारों वाला होना चाहिए।
  • कॉन्फिडेंस वाला होना चाहिए।
  • भीड़ को फेस करने का जज्बा होना चाहिए।
  • उसे रिलेटेड सब्जेक्ट में इंटरेस्ट होना चाहिए।
  • उसके अंदर नई चीजों को सीखने की इच्छा होनी चाहिए।
  • बोलने की Skill अच्छी होनी चाहिए।
  • रिसर्च करने का जज्बा होना चाहिए।
  • प्रॉब्लम सॉल्विंग का गुण होना चाहिए।
  • बिना डरे बोलने का हुनर होना चाहिए।
  • लर्निंग के लिए नए विचारों को ढूंढने के लिए क्रिएटिव दिमाग होना चाहिए।

आईआईटी प्रोफेसर की जिम्मेदारियां और कर्तव्य – Responsibilities and Duties of IIT Professor

एक आईआईटी प्रोफेसर की जिम्मेदारी और कर्तव्य निम्नानुसार होते हैं।

  • IIT Professor अपनी क्लास के लिए सिलेबस, लेक्चर और प्रयोग तैयार करता है।
  • IIT Professor एग्जाम के लिए क्वेश्चन पेपर रेडी करता है।
  • एग्जाम को सही ढंग से करवाता है।
  • क्लास के स्टूडेंट के ग्रेड की कैलकुलेशन करता है।
  • क्लास के बाहर स्टूडेंट को एडवाइस देता है।
  • एजुकेशनल ट्रेवल का नेतृत्व करता है और सेमिनार को अटेंड करता है।
  • स्टूडेंट की काउंसलिंग करता है।
  • स्टूडेंट को मोटिवेट करता है।
  • छात्रों को जिंदगी का मतलब सिखाता है।
  • आईआईटी प्रोफेसर क्लास के असाइनमेंट को चेक करता है।
  • नई टेक्नोलॉजी पर रिसर्च करता है और उन्हें स्टूडेंट के सामने पेश करता है।
  • IIT Professor फंडिंग एजेंसी के लिए प्रपोजल लिखता है।
  • आईआईटी प्रोफेसर एकेडमिक जर्नल पब्लिकेशन के लिए पेपर Write करता है।
  • एजुकेशन में नए डेवलपमेंट के लिए रिसर्च करता है।
  • पब्लिक लेक्चर देता है।

आईआईटी प्रोफेसर का वेतन – IIT Professor Salary

IIT Professor यदि सरकारी आईआईटी में काम करता है तो महीने के तौर पर उसे ₹40,000 से लेकर ₹1,20,000 तक की सैलरी प्राप्त होती है। इसके अलावा आईआईटी प्रोफेसर गेस्ट टीचिंग या फिर स्टूडेंट को कोचिंग देकर एक्स्ट्रा कमाई भी करते हैं। हालांकि कभी-कभी यह आंकड़े भिनन भी हो सकते हैं,क्योंकि आईआईटी प्रोफेसर की सैलरी वह किस जगह पर काम कर रहा है,उसकी ऑर्गेनाइजेशन कैसी है,आईआईटी प्रोफेसर को कितने साल का एक्सपीरियंस है? इस बात पर आधारित होता है। हमारे इंडिया में IITs, AIIMs, IIMs, BITs जैसे इंस्टिट्यूट में आईआईटी प्रोफेसर को अच्छी सैलरी प्राप्त होती है

आईआईटी में प्रोफेसर कैसे बने? – How to Become a Professor in IIT?

इससे पहले कि हम आपको आईआईटी में प्रोफेसर बनने की प्रक्रिया के बारे में जानकारी दें। हम आपको बता दें कि आपको सबसे पहले तो यह संकल्प लेना है कि आपको आईआईटी में प्रोफेसर की पोस्ट प्राप्त करनी है, क्योंकि इस पोस्ट को प्राप्त करने के लिए आपको हमेशा मेहनत करने के लिए तैयार रहना पड़ेगा।

क्योंकि आईआईटी में प्रोफेसर बनने के लिए आपको विभिन्न चरणों से गुजरना होता है। चलिए नीचे आपको आईआईटी में प्रोफेसर बनने की प्रोसेस के बारे में स्टेप बाय स्टेप जानकारी देते हैं।

1. 12वीं की परीक्षा को पास करें

आईआईटी में प्रोफेसर बनने का आपका सफर 12वीं कक्षा से चालू हो जाता है। इसके लिए आपको 12वीं कक्षा को अच्छे अंको से पास करना चाहिए। आपको 12वीं कक्षा में उसी सब्जेक्ट को लेना चाहिए जिसके अंदर आपको इंटरेस्ट हो। अगर आप अपनी पसंद के सब्जेक्ट का चुनाव नहीं करते हैं, तो आप सही प्रकार से अपनी पढ़ाई नहीं कर पाएंगे, जिसके कारण आपकी परीक्षा में कम अंक आएंगे। इसीलिए आपको जिस सब्जेक्ट में इंटरेस्ट हो, आपको उसी सब्जेक्ट को 12वीं की कक्षा में लेना है और अच्छे अंको से 12वीं की परीक्षा को पास करना है।

2. ग्रेजुएशन को पास आउट करें

12वीं की परीक्षा अच्छे अंको से पास करने के बाद आपको Graduation के कोर्स में एडमिशन लेना होता है। ग्रेजुएशन के कोर्स में आपको उन्ही सब्जेक्ट का चुनाव करना चाहिए, जिसके अंदर आपको इंटरेस्ट हो। ऐसा करने से आपको बेसिक सब्जेक्ट की इनफार्मेशन पहले से ही हो जाएगी और Graduation में आप अच्छे अंक प्राप्त कर पाएंगे। ग्रेजुएशन में अच्छे अंक प्राप्त करने का लक्ष्य धारण करके आपको अच्छे से परीक्षा की तैयारी करनी चाहिए और ग्रेजुएशन को कंप्लीट करना चाहिए।

3. पोस्ट ग्रेजुएशन को पास आउट करें

जब आप अपनी Graduation को कंप्लीट कर ले तो उसके बाद आपको post graduation में एडमिशन लेना चाहिए। पोस्ट ग्रेजुएशन में भी आपको उन्हीं सब्जेक्ट का सिलेक्शन करना चाहिए जो सब्जेक्ट आपके ग्रेजुएशन में थे। ऐसा करने से आपको स्टडी करने में आसानी होगी। आईआईटी प्रोफेसर बनने के लिए आपको post graduation में कम से कम 55% अंक लाना जरूरी है, इसीलिए आपको सब्जेक्ट का काफी गहराई से अध्ययन करना होगा। सब्जेक्ट पर अच्छी पकड़ बनने के बाद ही आप पोस्ट ग्रेजुएशन में 55% या फिर उससे ज्यादा अंक ला सकते हैं।

4. यूजीसी नेट एग्जाम में शामिल हो

post graduation को 55% अंकों के साथ पास करने के बाद आपको यूजीसी नेट की एग्जाम में शामिल होना पड़ेगा। आप यूजीसी नेट की परीक्षा को तभी पास कर पाएंगे जब आपको सब्जेक्ट की अच्छी इंफॉर्मेशन होगी। यूजीसी नेट की परीक्षा हर साल में दो बार करवाई जाती है, जिसका फायदा आप उठा सकते हैं। बिना यूजीसी नेट की परीक्षा को पास किए आप आईआईटी कॉलेज में प्रोफेसर की पोस्ट नहीं प्राप्त कर सकते।

इसीलिए आपको इस परीक्षा की अच्छे से तैयारी करनी होगी और इस परीक्षा को क्लियर करना होगा। इस परीक्षा को पास करने के लिए आप विभिन्न प्रकार के क्वेश्चन बैंक, यूट्यूब चैनल अथवा कोचिंग इंस्टिट्यूट का सहारा ले सकते हैं, ताकि आपकी तैयारी अच्छे से हो जाए और आप इस परीक्षा को पास कर ले।

5. PHD अथवा M.Phil करें

पोस्ट ग्रेजुएशन को कंप्लीट करने के बाद आपको आईआईटी कॉलेज में प्रोफेसर बनने के लिए एमफिल या फिर पीएचडी की डिग्री हासिल करनी होगी। किसी भी विषय पर रिसर्च करने के लिए आप पीएचडी का कोर्स कर सकते हैं। अगर आप पीएचडी का कोर्स कर लेते हैं तो पीएचडी के कोर्स को पूरा कर लेने के बाद आपके नाम के पहले डॉक्टर शब्द ऐड हो जाएगा। इस प्रकार आप उस सब्जेक्ट के मास्टर हो जाएंगे, जिसमें आपने पीएचडी की है।

6. आईआईटी कॉलेज में अप्लाई करें

ऊपर बताई गई सभी प्रक्रिया और उपलब्धियों को जब आप हासिल कर लेते हैं, तब आपके अंदर एक प्रोफेसर के गुण आ जाते हैं। इसके बाद आपका अगला कदम होता है किसी भी आईआईटी कॉलेज में नौकरी के लिए आवेदन करना। इसके लिए जब कभी भी आईआईटी कॉलेज में प्रोफेसर के पद के लिए नोटिफिकेशन जारी हो तो आपको उस नोटिफिकेशन के हिसाब से आईआईटी कॉलेज में प्रोफेसर की पोस्ट के लिए अप्लाई करना होता है।

अप्लाई करने के बाद आईआईटी कमेटी के द्वारा आपकी सभी प्रकार से जांच की जाती है और अगर आप एलिजिबल पाए जाते हैं, तो आपको आईआईटी कॉलेज में प्रोफेसर का पद प्रदान किया जाता है। इस प्रकार आप आईआईटी कॉलेज में प्रोफेसर बन जाते हैं।

आईआईटी प्रोफेसर का करियर और स्कोप – Career & Scope of IIT Professor

अगर आईआईटी प्रोफेसर के कैरियर स्कोप के बारे में बात की जाए तो एक आईआईटी प्रोफेसर धीरे-धीरे तरक्की कर के किसी यूनिवर्सिटी का चांसलर यानी कि कुलाधिपति बन सकता है। इसके अलावा रिटायरमेंट होने के बाद भी वह अन्य स्टूडेंट को कोचिंग दे सकता है और अपने ज्ञान को बांट सकता है तथा इनकम भी कर सकता है।

निष्कर्ष

आशा करते हैं कि आपको IIT Professor Details In Hindi की पूरी जानकारी प्राप्त हो चुकी होगी। अगर फिर भी आपके मन में IIT me Professor Kaise Bane (How To Become IIT Professor In Hindi) और IIT मे Professor कैसे बने? को लेकर कोई सवाल हो तो, आप बेझिझक Comment Section में Comment कर पूछ सकते हैं।

अगर यह जानकारी पसंद आया हो तो, जरूर इसे Share कर दीजिए ताकि IIT Professor Kise Kahte Hai बारे में सबको जानकारी प्राप्त हो।

About Ainain

Professorमैं इस ब्लॉग का संस्थापक और एक पेशेवर ब्लॉगर हूं। यहाँ पर मैं नियमित रूप से अपने पाठकों के लिए उपयोगी और मददगार जानकारी साझा करता हूं। ❤️

Leave a Comment

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.