प्रेगनेंसी टेस्ट किट क्या है? घर पर प्रेगनेंसी टेस्ट किट का इस्तेमाल कैसे करें? Pregnancy Test Kit के प्रकार और फायदे से जुड़ी जानकारी

आज हम जानेंगे प्रेगनेंसी टेस्ट किट की पूरी जानकारी (Pregnancy Test Kit in Hindi) के बारे में क्योंकि अगर किसी महिला को लगातार पीरियड आ रहा है और किसी महीने में उसे पीरियड नहीं आया तो ऐसा समझा जाता है कि महिला के पेट में बच्चा आ चुका है। पहले के समय में जब महिला के पेट में बच्चा आ जाता था तब उसका पता लगाने के लिए दाई को बुलाया जाता था जिसे सामान्य तौर पर इस बात की जानकारी होती थी कि पेट में बच्चा है या नहीं।

दाई की कन्फर्मेशन मिलने के बाद ही पेट में बच्चा है या नहीं इस बात की पुष्टि होती थी, परंतु अब प्रेगनेंसी टेस्ट किट के जरिए लोग खुद ही प्रेगनेंसी टेस्ट घर पर कर ले रहे हैं और यह जान ले रहे हैं कि वह गर्भवती हैं अथवा नहीं। आज के इस लेख में जानेंगे कि Pregnancy Test Kit Kab Use Kare, प्रेगनेंसी टेस्ट किट के प्रकार, pregnancy test kaise kiya jata hai, आदि की सारी जानकारीयां विस्तार में जानने को मिलेंगी, इसलिये पोस्ट को लास्ट तक जरूर पढे़ं।

प्रेगनेंसी टेस्ट किट क्या है? – What is a Pregnancy Test Kit in Hindi

Contents show
Pregnancy Test Kit In Hindi
Pregnancy Test Kit In Hindi

प्रेगनेंसी टेस्ट किट से सीधा अर्थ यह पता चलता है कि यह एक ऐसी चीज होती है जो सफेद कलर में आती है और इस किट का इस्तेमाल ऐसी महिलाएं अधिक करती हैं, जो यह जानना चाहती हैं कि क्या वाकई उनके पेट में बच्चा है अथवा नहीं। मार्केट में विभिन्न ब्रांड की Pregnancy Test Kit मिलती है जिनके नाम अलग-अलग होते हैं।

प्रेगनेंसी टेस्ट किट के जरिए महिला प्रेग्नेंट है या नहीं इस बात की जानकारी हासिल करने के लिए महिला को अपने पेशाब और ह्यूमन कोरियोनिक गोनाडोट्रोफिन की जांच करनी होती है। इसके बाद यह पता चल जाता है कि वाकई में उनके पेट में उठ रहा दर्द प्रेगनेंसी का है या फिर किसी और वजह से है।

प्रेगनेंसी टेस्ट किट के प्रकार – Types of Pregnancy Test Kit

प्रेग्नेंसी टेस्ट किट दो तरह की होती हैं, जिनकी जानकारी नीचे दी गई है।

1. स्ट्रिप प्रेगनेंसी टेस्ट : इसमें पेशाब का टेस्ट किया जाता है। अगर पेशाब के अंदर एचसीजी हार्मोन होता है तो इसके अंदर जो स्ट्रिप का आखिरी सिरा होता है, वहां का कलर चेंज हो जाता है।

2. कप परीक्षण किट : इसमें पेशाब को इकट्ठा करने के लिए प्रेगनेंसी टेस्ट किट के साथ में ही एक कप जैसा साधन होता है, जो इनबिल्ट होता है।

प्रेगनेंसी टेस्ट किट कैसे काम करती है? – How does Pregnancy Test Kit Work

जब पुरुष का शुक्राणु महिला के गर्भाशय में जाता है, तो धीरे-धीरे महिला के गर्भाशय में अंडा बनना चालू हो जाता है और इसी के साथ ही एचसीजी हार्मोन भी तेजी के साथ बनने लगते हैं और जब महिला के पेट में बच्चा आ जाता है तो काफी तेजी के साथ उसकी बॉडी में एचसीजी हार्मोन बनने लगता है, जो इस बात को बताने का काम करता है कि महिला के पेट में बच्चा आ चुका है। महिलाएं पीरियड आने के 4 से 5 दिन के बाद प्रेगनेंसी टेस्ट किट का इस्तेमाल करके इस बात की इंफॉर्मेशन हासिल कर सकती हैं कि उनके पेशाब में एचसीजी का हार्मोन है या फिर नहीं है।

प्रेगनेंसी टेस्ट कब और कैसे करें? – When and How to do Pregnancy Test in Hindi

जिन भी महिला को यह कंफर्मेशन करनी है कि वह पेट से है या फिर नहीं, उन्हें इसके लिए जब उनका पीरियड आ करके खत्म हो जाए, तो उसके चौथे दिन के बाद प्रेगनेंसी टेस्ट करना चाहिए। पुरुष का शुक्राणु जब महिला के गर्भाशय में जाकर के अंडे का निर्माण करना चालू करता है, तो इसी के साथ एचसीजी हार्मोन भी बनने की प्रक्रिया चालू हो जाती है, जो तकरीबन 14 दिनों के बाद संभावित गर्भवती महिला की पेशाब में भी पाया जाने लगता है।

ये भी पढ़ें : सोनोग्राफी क्या है? सोनोग्राफी के प्रकार, टेस्ट और नुकसान क्या है? सोनोग्राफी टेस्ट क्यों और कैसे किया जाता है?

इसलिए ऐसा कहा जाता है कि पीरियड खत्म हो जाने के 14 दिनों के बाद प्रेगनेंसी टेस्ट किट का इस्तेमाल करना चाहिए। मार्केट में आपको बहुत सारे अलग-अलग ब्रांड के Pregnancy Test Kit मिल जाएंगे जिसका इस्तेमाल आप गर्भवती है या नहीं, इसका टेस्ट करने के लिए कर सकती हैं। इसके अलावा कुछ ऐसी अन्य चीजें भी है, जो आपके घर में पाई जाती हैं जिसके जरिए आप प्रेगनेंसी टेस्ट कर सकती हैं, साथ ही आप चाहे तो लेबोरेटरी में भी अपनी गर्भवती स्थिति का पता लगा सकती हैं।

प्रेगनेंसी टेस्ट किट का रिजल्ट क्या है? – Pregnancy Test Kit Result in Hindi

Pregnancy Test Kit के द्वारा सही जानकारी प्राप्त करने के लिए आपको बताई गई विधि से ही इसका इस्तेमाल करना चाहिए, वरना थोड़ी सी चूक हो जाने पर आपको गलत जानकारी भी मिल सकती है। नीचे आपको प्रेगनेंसी टेस्ट किट के रिजल्ट की जानकारी दी जा रही है।

1. लाइट पिंक लाइन/डार्क पिंक लाइन

अगर आपको अपने प्रेगनेंसी टेस्ट किट में यह दिखाई देता है कि उसमें गहरी गुलाबी रंग की लाइन आ गई है तो इसका मतलब यह होता है कि आपके पेट में बच्चा आ चुका है और अब आपको अपने बच्चे का अधिक ख्याल रखना है, साथ ही अपना भी ख्याल रखना है।

2. पॉजिटिव फेंट लाइन

पीरियड मिस होने के अगले दिन अगर कोई महिला अपना प्रेगनेंसी टेस्ट करती है तो ऐसी अवस्था में पॉजिटिव फेंट लाइन आए, इसके ज्यादा चांस होते हैं, क्योंकि जब आप ऐसा करते हैं तो इस टाइम आपके पेशाब में एचसीजी की क्वांटिटी कम होती है।

प्रेगनेंसी टेस्ट किट के इस्तेमाल के फायदे – Benefits of using Pregnancy Test Kit in Hindi

जब कोई महिला गर्भवती हो जाती है अथवा उन्हें यह पता करना होता है कि वास्तव में उनके पेट में बच्चा आ चुका है या नहीं, तो उन्हें लेबोरेटरी के चक्कर बार-बार लगाने पड़ते हैं। जहां पर कभी तो उनका नंबर ही नहीं आता है और कभी काफी देर इंतजार करने के बाद उनका नंबर आता है।

ऐसे में अगर कोई महिला प्रेगनेंसी टेस्ट करने के लिए प्रेगनेंसी टेस्ट किट का इस्तेमाल करती है, तो वह लेबोरेटरी में देर तक बैठने की समस्या से भी छुटकारा पा जाएगी और लेबोरेटरी में प्रेगनेंसी टेस्ट करवाने के भारी-भरकम खर्च से भी बच जाएगी, क्योंकि लैबोरेट्री टेस्ट की तुलना में Pregnancy Test Kit के जरिए महिला को प्रेगनेंसी है अथवा नहीं इसका पता काफी सस्ते में लगाया जा सकता है।

ये भी पढ़ें : काढ़ा क्या होता है? काढ़ा कैसे बनाया जाता है? जानिए काढ़ा पीने के फायदे और नुकसान

मार्केट में आपको जो भी प्रेगनेंसी टेस्ट किट मिलती है उनका दाम नॉर्मल ही होता है जो हर किसी के बजट में फिट बैठता है। Pregnancy Test Kit के जरिए वह प्रेग्नेंट है या नहीं इसका पता चल जाता है। इसलिए वह समय रहते हुए अपने बच्चे का विशेष ध्यान देना चालू कर सकती हैं और अगर वह बच्चा नहीं चाहती है, तो वह समय रहते बच्चे का अबॉर्शन भी करवा सकती है।

क्लीनिक में प्रेगनेंसी टेस्ट कैसे किया जाता है? – How is the Pregnancy Test Done in the Clinic

देखा जाए तो महिला गर्भवती है या नहीं, इसका पता लगाने के लिए क्लीनिक में मुख्य तौर पर 3 तरीकों में से किसी भी एक तरीके को अपनाया जाता है। हम नीचे आपको तीनों तरीकों के बारे में जानकारी दे रहे हैं।

1. पेशाब जांच

पेशाब के जरिए महिला गर्भवती है या नहीं इसका पता लगाने के लिए महिला के पेशाब का सैंपल सबसे पहले डॉक्टर इकट्ठा करते हैं और फिर केमिकल प्रक्रिया के द्वारा इस बात की चेकिंग करते हैं कि महिला के पेशाब में एचसीजी का लेवल कितना है और उसके बाद वह आपको रिपोर्ट देते हैं।

2. खून जांच

कुछ डॉक्टर पेशाब की जांच करने के साथ ही साथ खून की जांच भी करते हैं और इसकी रिपोर्ट तैयार करके भी आपको यह बता देते हैं कि आपके पेट में बच्चा है या फिर नहीं।

3. अल्ट्रासाउंड

अल्ट्रासाउंड के बारे में तो अधिकतर लोग जानते ही हैं। अल्ट्रासाउंड के जरिए आपके बच्चे की फोटो भी कंप्यूटर की स्क्रीन पर प्रिंट हो जाती है और उसमें यह आप देख सकते हैं कि, आपके बच्चे का कौन सा अंग बन गया है और कौन सा नहीं, साथ ही यह भी जान सकते हैं कि आपके पेट में बच्चा है या नहीं।

घर पर प्रेगनेंसी टेस्ट कैसे करें? – How to do Pregnancy Test at home in Hindi

सुबह के समय में उठकर के सबसे पहले एक छोटा सा डिस्पोजेबल गिलास ले और उसके अंदर अपनी थोड़ी सी पेशाब निकाले। अब कोई भी सफेद मंजन यानी की टूथपेस्ट 1 चम्मच जितना इस गिलास के अंदर डाल दें और फिर इसे अच्छी तरह से मिक्स करें और इसे छोड़ दें। 5 मिनट के बाद देखें।

ये भी पढ़ें : बवासीर क्या है? घर पर बवासीर की ट्रीटमेंट कैसे करें?

अगर कप के अंदर जो पेस्ट है उसका रंग नीला हो गया है तो इसका मतलब यह होता है कि आपके पेट में बच्चा आ चुका है और अगर कुछ भी नहीं होता है तो समझ लीजिए आपके पेट में बच्चा नहीं है, यानी कि आप गर्भवती नहीं है।

प्रेगनेंसी टेस्ट किट कैसे इस्तेमाल करें? – How to use Pregnancy Test kit?

मार्केट में आपको अलग-अलग वैरायटी की और अलग-अलग आकार की Pregnancy Test Kit मिल जाएंगी, परंतु अधिकतर प्रेगनेंसी टेस्ट किट को इस्तेमाल करने का जो तरीका होता है, वह एक जैसा ही होता है। नीचे आपको प्रेगनेंसी टेस्ट किट को कैसे इस्तेमाल किया जाता है।इसका तरीका बताया गया है।

1. सबसे पहले एक कप में सुबह के समय में अपनी थोड़ी सी पेशाब निकाले।

2. अब प्रेग्नेंसी टेस्ट किट को निकाले और ड्रॉपर की सहायता से कप में रखे हुए अपने पेशाब की कुछ बूंदों को प्रेगनेंसी टेस्ट किट पर डालें और फिर इसे 5 मिनट के लिए कहीं पर रख दें।

3. 5 मिनट के अंदर ही रिजल्ट आ जाएगा कि आप प्रेग्नेंट है या नहीं

4. बता दे कि कुछ Pregnancy Test Kit में प्लस और माइनस के तहत रिजल्ट आता है, तो कुछ मैं कलर चेंज होता है, वही जो डिजिटल प्रेगनेंसी टेस्ट किट होती है उसके अंदर प्रेग्नेंट या फिर नॉट प्रेग्नेंट लिख कर के भी आता है।

प्रेग्नेंसी टेस्ट किट के इस्तेमाल से जुड़ी अहम बातें

  • आपको मार्केट से ऐसी ही प्रेगनेंसी टेस्ट किट खरीदनी चाहिए जो ब्रांडेड कंपनी की हो।
  • प्रेगनेंसी टेस्ट किट को रिजल्ट देने में थोड़ा समय लग सकता है। इसलिए संयम रखें।
  • जो विधि Pregnancy Test Kit के पैकेट के साथ बताई गई है, उसी के अनुसार इस्तेमाल करें अन्यथा परिणाम डिफरेंट हो सकते हैं।
  • जब कभी भी आप प्रेगनेंसी टेस्ट करें, तो यह ध्यान रखें कि आपको सुबह के पेशाब का ही इस्तेमाल करना है।
  • प्रेगनेंसी किट के साथ आपको एक कप भी दिया जाता है उसी में अपना पेशाब निकाले।
  • हर Pregnancy Test Kit के ऊपर टोल फ्री नंबर भी दिया जाता है।आप बिना संकोच के उस पर फोन करके प्रेगनेंसी टेस्ट किट कैसे इस्तेमाल करना है, इसकी जानकारी ले सकती हैं।

प्रेगनेंसी टेस्ट किट के नाम और दाम – Pregnancy Test Kit Names and Prices

एक्यू₹40
प्रेगा न्यूज़₹50
प्रेगा न्यूज़ एडवांस₹50
आई-कैन₹50
प्रगकलर₹70
क्लीयरब्लू₹86
वेलोसिट इजी₹98
वेलोसिट₹130

Pregnancy Test से संबंधित अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न

प्रेगनेंसी टेस्ट किट में हल्की लाइन आने का क्या मतलब है?

इसका मतलब है कि आप पेट से नहीं है।

प्रेगनेंसी रोकने के लिए कौन सी टेबलेट लेनी चाहिए?

यूलिप्रिस्टल

पीरियड के कितने दिन बाद संबंध बनाना चाहिए?

14 दिनों के बाद

प्रेगनेंसी के लक्षण कितने दिनों में दीखते हैं?

14 दिन

क्या नमक से प्रेगनेंसी टेस्ट किया जा सकता है?

जी हां

प्रेगनेंसी कितने दिन में पता चलती है?

14 दिन

प्रेगनेंसी टेस्ट किट का रिजल्ट कितना सही होता है?

अगर सही प्रकार से जांच की जाए तो 99 परसेंट

क्या प्रेग्नेंसी टेस्ट किट का पॉजिटिव रिजल्ट गलत भी हो सकता है?

जी परंतु ऐसा काफी कम ही होता है।

निष्कर्ष

आशा है आपको pregnancy test kit use in hindi के बारे में पूरी जानकारी मिल गई होगी। अगर अभी भी आपके मन में pregnancy test kit kaise use kare (how to use pregnancy test kit at home in Hindi) और घर पर प्रेगनेंसी टेस्ट किट का इस्तेमाल कैसे करें? को लेकर आपका कोई सवाल है तो आप बेझिझक कमेंट सेक्शन में कमेंट करके पूछ सकते हैं। अगर आपको यह जानकारी अच्छी लगी हो तो इसे शेयर जरूर करें ताकि सभी को pregnancy test kit in Hindi में जानकारी मिल सके।

5/5 - (1 vote)

Leave a Comment