पटवारी या लेखपाल क्या होता है?, Patwari या Lekhpal कैसे बने? जानिए Patwari और Lekhpal से जुड़ी सभी जानकारी हिंदी में

आज हम जानेंगे पटवारी या लेखपाल कैसे बने पूरी जानकारी (What is patwari or lekhpal In Hindi) के बारे में क्यों की जैसा कि आप जानते होंगे भारत की 70% आबादी ग्रामीण क्षेत्रों में रहती है और भारत की 43% जनसंख्या खेती करती हैग्रामीण क्षेत्रों के लोगों को जब कोई समस्या आता है तो उन्हें अपनी समस्याओं के समाधान के लिए शहर आना पढ़ता था लेकिन अब ऐसा नहीं है। अब ज्यादातर समस्याओं को हल करने के लिए, सरकार ने गाँव में ही सरकारी कर्मचारी की घोषणा की है। और वह ग्रामीण क्षेत्रों में रहने वाले लोगों की समस्या का समाधान करता है।

आज के इस लेख में जानेंगे कि Patwari या Lekhpal Kya Hota Hai, Patwari या Lekhpal के लिए Qualifications/Eligibility, पटवारी या लेखपाल के कार्य, Patwari या Lekhpal Meaning In Hindi, Patwari या Lekhpal Kaise Bane, patwari या lekhpal का syllabus, Patwari या Lekhpal के लिए Admission Process, पटवारी या लेखपाल के लिए तैयारी कैसे करें, Patwari या Lekhpal की Salary कितनी होती है, आदि की सारी जानकारीयां विस्तार में जानने को मिलेंगी, इसलिये पोस्ट को लास्ट तक जरूर पढे़ं।

पटवारी या लेखपाल कौन होता है? – Who is a Patwari or Lekhpal Information in Hindi

विषय-सूची

Patwari या Lekhpal Kaise Bane In Hindi
Patwari या Lekhpal Kaise Bane In Hindi

पटवारी एक सरकारी कर्मचारी है जिसका काम ग्रामीण क्षेत्रों में उगाई गई सभी फसलों और जमीनों का रिकॉर्ड रखते है। पटवारी को विभिन्न स्थानों पर अन्य नामों से भी जाना जाता है जैसे:-  कारनाम अधिकारी, शानबोगरु,लेखपाल(उत्तर प्रदेश)आदि। साथ ही साथ लेखपाल भूमि का सीमांकन, म्यूटेशन, वरासत, हैसियत प्रमाण पत्र, जाति, आय, निवास, आपदा,आदि जैसे अनेको कार्य करते हैं।

पटवारी के अंदर आने वाले सभी क्षेत्रों का विवरण और भूखंड का विवरण रखता है। इस डेटा का उपयोग बाद में देश में गणना करते समय भी किया जाता है। एक पटवारी गाँव के जमीनी विवाद को सुलझाने के लिए भी काम करता है। यदि गाँव में किसी प्रकार का जमीनी विवाद है, तो आप अपने जमीनी विवाद को सुलझाने के लिए लेखपाल या पटवारी से संपर्क कर सकते हैं।

पटवारी के प्रकार – Types of Patwari

  1. Revenue Patwari
  2. Chakbandi Patwari

पटवारी या लेखपाल कैसे बनें? – How to Become a Patwari or Lekhpal?

पटवारी बनने के लिए उम्मीदवार को कंप्यूटर की जानकारी होनी जरूरी है साथ-साथ किसी भी विषय में स्नातक होना आवश्यक है। पटवारी बनने के लिए आपको 12वीं पास होना भी जरूरी है। Patwari या Lekhpal बनने के लिए हिंदी में टाइपिंग और CPCT (Computer Proficiency Certification Test) में पास होना भी जरुरी है। अगर Candidate के पास CPCT का Certificate नहीं है तो पटवारी Join करने के 2 साल के भीतर CPCT का Certificate जमा करना होगा।

पटवारी या लेखपाल बनने के लिए जरूरी योग्यता – Qualification/Eligibility to Become a Patwari or Lekhpal

  • Patwari or Lekhpal बनने के लिए न्यूनतम पात्रता कक्षा 12 या किसी मान्यता प्राप्त बोर्ड या विश्वविद्यालय से पास होना अनिवार्य है।
  • पटवारी या लेखपाल बनने के लिए कम से कम आपकी आयु 18 से 30 वर्ष होना चाहिए।
  • आपकी राष्ट्रीयता Indian होनी चाहिए
  • Hindi/Sanskrit/Urdu आना चाहिए और गाँव की संस्कृति का ज्ञान होना चाहिए।
  • Patwari or Lekhpal के पद के लिए Candidate शारीरिक और मानसिक रूप से स्वस्थ होना चाहिए।

अन्य मानदंड

  • SC/ST candidates को 5 साल की छूट प्रदान की जाती है
  • General category के Women candidates को 5 साल की छूट प्रदान की जाती है
  • SC/ST/OBC categories के Women candidates को 10 साल की छूट प्रदान की जाती है
  • नेपाली और भूटानी नागरिक भी आवेदन कर सकते हैं

भारत में पटवारी प्रणाली की शुरुआत किसने की? – Who introduced the Patwari System in India?

पटवारी प्रणाली को शेरशाह सूरी के तहत भारत लाया गया था, फिर अकबर के शासन में पटवारी प्रणाली को पहले से बेहतर बनाया गया फिर 1814 में भारत सरकार द्वारा एक कानून लाया गया जिसके तहत पटवारी एजेंट को हर गाँव में अनिवार्य कर दिया गया था। और तब से पटवारी गांव के फसल और भूमि पर नजर रखकर अपना कर्तव्य निभाते हैं और एक पटवारी अपने गांव में सरकार के प्रतिनिधि भी होते हैं।

पटवारी या लेखपाल बनने के लिए कौशल – Skills to Become a Patwari or Lekhpal

Patwari या Lekhpal बनने के लिए निम्नलिखित Skills का होना जरूरी है:

  • एक पटवारी को अपनी टीम का मार्गदर्शन करने और अपने काम में  माहिर होना चाहिए।
  • एक पटवारी की बोलचाल की भाषा नरम और समझदारी भरा होनी चाहिए।
  • पटवारी को अपने चेत्र की भूमि और उसके मालिकी से जुड़ी सभी जानकारी सही सही होनी चाहिए।
  • जमीन से संबंधित कागजात के specialist होने चाहिए और कागजात से संबंधित सभी समस्याओं को हल करने के लिए भी आना चाहिए।
  • पटवारी को सभी Rules पता होना चाहिए ताकि वह गांव की जमीन से जुड़ी सभी समस्याओं का समाधान कर सके।
  • पटवारी का व्यवहार भी अच्छा होनी चाहिए क्योंकि कभी-कभी विवादित जमीन को पटवारी ही सुलझाता है इसलिए, आपका अच्छा स्वभाव और भाषण बहुत अहमियत रखता है।

पटवारी या लेखपाल का वेतन – Salary of Patwari or Lekhpal

7th Pay Commission के बाद पटवारी या लेखपाल का सैलरी नीचे दिया गया है।

S.NoStatesGrade PayPer Month
1.PunjabRs. 3200/-Rs. 10300/- से Rs. 34800/-
2.Himachal PradeshRs. 3200/-Rs. 10300/- से Rs. 34800/-
3.ChhattisgarhRs. 2000/-Rs. 5200/- से Rs. 20200/-
4.Madhya PradeshRs. 2400/-Rs. 5200/- से Rs. 20200/-
5.RajasthanRs. 2400/-Rs. 24380/

पटवारी या लेखपाल का परीक्षा और पैटर्न – Examination and Pattern of Patwari or Lekhpal

लेखपाल के Selection के लिए Written Exams होता हैलिखित परीक्षा Intermediate स्तर पर होता है एग्जाम में आपसे objective question पूछे जाते है, जो कुल 100 अंकों की परीक्षा होती है। Exam में Candidate से टोटल 100 question पूछे जाते हैं जिसमें से उन्हें 90 मिनट यानी 1 घंटा 30 मिनट में सभी प्रश्न का उत्तर लिखना होता है। प्रत्येक गलत विकल्प के लिए 1/3 अंक की कटौती होती है।

Topics/ SubjectsNo. of QuestionsNo. of Questions
General Hindi (सामान्य हिंदी)2525
Maths (गणित)2525
General Knowledge (सामान्य ज्ञान)2525
Rural Development and Rural Society (ग्राम समाज एवं विकास)2525

पटवारी परीक्षा का सिलेबस – Patwari Exam Syllabus

अगर आप पटवारी की परीक्षा के लिए तैयारी करना चाहते हैं तो, आपको पटवारी का एग्जाम सिलेबस पता होना चाहिए जो नीचे दिया गया है।

Hindi – संधि और संधि विच्छेद, उपसर्ग एवं प्रत्यय, मुहावरे और लोकोक्तिया, अंग्रेजी के पारिभाषिक, समानार्थक शब्द, विलोम शब्द, अनुच्छेद, गलतीयों का सुधार, नाम विशेषण, क्रियाविशेषण, विराम चिह्न, सामान्य हिंदी व्याकरण से संबंधित प्रश्नों के बारे पूछा जाता है।

English – Vocabulary, Grammar, Antonyms, Synonyms, Idioms And Phrases, आदि से सम्बंधित प्रश्न आते है।

Mathematics – औसत, सरलीकरण, लाभ हानि, एसआई और सीआई, त्रिकोणमितिय अनुपात, विशेष कोणों के त्रिकोंमितीय अनुपात, ऊंचाई एवं दुरी पर आधारित सरल समस्याए, साझेदारी, प्रतिशत, अनुपात और समाअनुपात आदि से संबंधित प्रश्नों के बारे पूछा जाता है।

Computer Knowledge – Characteristics of Computers, Computer Organization including RAM, ROM, File System Input Devices Computer Software, relationship between Hardware and Software, Operating System, MS-Office (exposure of Word, Excel/ spread sheet, Power Point) आदि से संबंधित प्रश्नों के बारे पूछा जाता है।

GK And Current Affairs – राजस्थान के इतिहास के प्रमुख स्रोत, राजस्थान की प्रमुख सभ्यताओं की जानकारी, राजस्थान के प्रमुख राजवंश एवं उनकी उपलब्धियाँ, मुग़ल -राजपूत का सबंध, राजस्थान की स्तापत्य कला, राजस्थान के किले स्मारक व संरचना, राजस्थान के धार्मिक आंदोलन व लोक देवी देवाता आदि विषय शामिल है।

पटवारी या लेखपाल की नौकरियां और रिक्तियां – Patwari or Lekhpal Jobs & Vacancies

अगर हम पटवारी या लेखपाल के जॉब की बात करें तो थोड़ा सा कठिन जॉब होता है क्योंकि वह अपने क्षेत्रों के सभी जमीन का रिकॉर्ड, फसल का रिकॉर्ड इत्यादि रखना होता है साथी साथ उसे गांव में होने वाले जमीनी विवाद को भी सुलझाना होता है

Patwari या lekhpal vacancy की जानकारी के लिए आपको अपने state के ऑफिशल वेबसाइट पर जाकर पता करना चाहिए। क्यों की अलग-अलग स्टेट की अलग-अलग Vacancy की date निकलती है जो आपको state की उसके Official website पर मिल जाएंगे

Himachal Pradeshhimachal.nic.in
Rajasthanrsmssb.rajasthan.gov.in
Punjabrevenue.punjab.gov.in
Chhattisgarhvyapam.cgstate.gov.in
Madhya Pradeshpeb.mp.gov.in

लेखपाल या पटवारी का काम और जिम्मेदारियां – Work and Responsibilities of a Patwari or Lekhpal

एक Patwari या Lekhpal बनने के लिए निम्नलिखित Work तथा Responsibilities का होना जरुरी है:

  • अपने क्षेत्र में उगाई जाने वाली फसलों का रिकॉर्ड रखना।
  • प्रत्येक पटवारी एक गांव समूह के लिए जिम्मेदार है।
  • अपने क्षेत्र के जमीन का mutations का रिकॉर्ड रखना।
  • पटवारी द्वारा गाँव के जमीं का रिकॉर्ड रखा जाते हैं।
  • पटवारी अपने क्षेत्र में उगाई जाने वाली फसलों की जानकारी सरकार को देता है।

लेखपाल या पटवारी बनने के लिए किताबें – Books to become a Lekhpal or Patwari

पटवारी या Lekhpal बनने के लिए कुछ महत्वपूर्ण किताबें हैं जैसे की Agrawal Examcart का Upsssc Rajasv Lekhpal Samanya Bharti Pariksha, Chakshu Panel of Experts का Chakshu UPSSSC Rajaswa Lekhpal (Samanya Chayan) Bharti Pariksha, Navrang Rai का Rajasthan Patwari Complete Exam Edition (3 Books – Vol 1 , Vol 2 , solved papers) किताबें हैं जो आपको Interior Designer के Syllabus को Cover करने में सहायता करेगी।

अभी तुरंत Lekhpal या Patwari बनने के लिए Online Book ख़रीदे : CHECK BOOK LIST,
BUY BOOK, CHECK PRICE

MORE BOOK : Amazon : Check Now,     Flipkart : Check Now

पटवारी या लेखपाल बनने के फायदे – Benefits of becoming a Patwari or Lekhpal.

जब आप पटवारी के रूप में नियुक्त हो जाते हैं, तो आपको सरकार के वह सभी लाभ मिलते हैं जो वेतनमान के तहत सभी कर्मचारियों को दी जाती है। जो निम्नलिखित है:

  • महंगाई भत्ता पटवारी को मूल वेतन के 113% के रूप में दिया जाता है। यह उन राज्यों में भिन्न है जहां आप पोस्ट किए गए हैं।
  • Patwari को हर महीने HRA (House Rent Allowance) प्रदान किया जाता है।
  • पटवारी को कर्मचारियों और आश्रितों जैसे पति या पत्नी या माता-पिता के इलाज के लिए चिकित्सा भत्ते मिलते हैं।
  • पटवारी को केंद्रीय वेतन आयोग के दिशानिर्देशों के तहत pensions और अन्य लाभ जैसे की medical and Dearness Allowances और अन्य लाभ मिलते हैं।

निष्कर्ष

आशा करते हैं कि आपको Patwari or Lekhpal Details In Hindi की पूरी जानकारी प्राप्त हो चुकी होगी। अगर फिर भी आपके मन में Patwari ya Lekhpal Kya Hota Hai? (What Is Patwari or Lekhpal In Hindi) और पटवारी या लेखपाल कैस बने? को लेकर कोई सवाल हो तो, आप बेझिझक Comment Section में Comment कर पूछ सकते हैं।

अगर यह जानकारी पसंद आया हो तो, जरूर इसे Share कर दीजिए ताकि Patwari or Lekhpal Kaise Bane बारे में सबको जानकारी प्राप्त हो।

यह पोस्ट कितना उपयोगी था?

Average rating / 5. Vote count:

अब तक कोई रेटिंग नहीं! इस लेख को रेट करने वाले पहले व्यक्ति बनें।

Leave a Comment