न्यायाधीश क्या होता है? Judge कैसे बने? जानिए Judge बनने से जुड़ी सभी जानकारी हिंदी में

आज हम जानेंगे न्यायाधीश (Judge) कैसे बने पूरी जानकारी (How To Become Judge In Hindi) के बारे में क्यों की आज भारत में students को career बनाने के लिए काफी सारे options है। हर career में अलग अलग scope होते है। सभी students अपने अपने रुचि के हिसाब से अलग अलग career के option को चुन रहे है। Career का option जो भी हो लेकिन बिना मेहनत किए कोई भी students अपने career को नहीं बना सकता।

ऐसे ही कई सारे career के option में बहुत सारे students अपने career को Law के क्षेत्र में बनाने की कोशिश कर रहे है।  जज Law के सर्वश्रेष्ठ पदों में से एक है। आज के इस आर्टिकल में जानेंगे कि न्यायाधीश क्या होता हैं, जज के कार्य, जज कैसे बने, Judge बनने के लिए Qualifications, Judge बनने के लिए Entrance Exam, जज बनने के लिए तैयारी कैसे करें, जज के लिए Skills, जज की Job Career, Judge की Salary आदि की सारी जानकारियां हिंदी में। –

न्यायाधीश क्या होता है? – What is Judge Information in Hindi

How To Become Judge Information In Hindi
How To Become Judge Information In Hindi

Judge से हम सभी लोग यह समझते है कि जो व्यक्ति Court Room में दो पक्षों के बीच हुए विवादों या अन्य किसी कानूनी गुनाहों के ऊपर फैसला सुनाता है। यह job काफी जिम्मेदारी वाली होती है। इनके एक फैसले से किसी निर्दोष को भी सजा हो सकती हैं। इसके लिए काफी practice की जरूरत होती है।

न्यायाधीश का कार्य – Work of Judge 

जज कई तरह के होते है और उनके role के हिसाब से एक Judge का अलग अलग कार्य होता है। जैसे – 

  • Judge या Magistrate सुनवाई की अध्यक्षता करते हैं। यह आम तौर पर District और State Level पर नियुक्त होते है।
  • एक Judge का कार्य Court में सही फैसले को सुनना है।
  • Local और State Court System में Judge के कई सारे प्रकार होते है जैसे कि Municipal Court Judges, Country Court Judges, Magistrate आदि। इन सभी को एक बार में ही कई सारे cases के सुनवाई करनी होती है
  • एक Supreme Court का Judge किसी भी कानून को लागू करना है या नहीं इसका निर्णय भी ले सकता है।

न्यायाधीश कैसे बनें? – How to Become a Judge ?

सबसे पहले हम यह जानते है कि भारत के अंदर कोई भी व्यक्ति किस किस level पर जज बन सकता है। इसमें सबसे पहले बारी आती है Magistrate या civil judge की। इसके बाद बारी आती है Session या District Judge की जो Magistrate से ऊपर होता है। High Court Judge और उसके बाद सबसे ऊपर होता है Supreme Court Judge.

Candidate अपने law के graduation के बाद Magistrate या Civi Service के परीक्षा के लिए apply कर सकते है।

न्यायाधीश बनने के लिए योग्यता – Qualifications to Become Judge

किसी भी Candidate को जज बनने के लिए उसके पास law की डिग्री होनी चाहिए और साथ ही उसे Court में कई सालो तक practice करने की भी जरूरत होती हैं। Bachelor of Law करने के लिए Candidate को पहले अपनी 12वी की पढ़ाई पूरी करनी होती है। इसके अलावा graduation के बाद भी LLB की degree पूरी कर सकते है। Graduation पूरी हो जाने पर Candidate को केवल 3 साल का समय लगता है LLB करने में।

न्यायाधीश बनने के लिए प्रवेश परीक्षा – Entrance Exam to Become a Judge

भारत में जज बनने के लिए के Candidate को Judicial Service Examination को clear करना होता है। यह exam PCS (Public Service Commission) द्वारा हर एक state level पर कराई जाती है।

उच्च न्यायालय के न्यायाधीश बनने की योग्यता – Qualifications to Become High Court Judge

High Court में judge बनने के लिए Candidate को भारत का नागरिक होना चाहिए। इसके साथ साथ ही candidate को Judicial Office में 10 साल तक का experience होना चाहिए या कोई व्यक्ति 10 साल से High Court में practice कर रहा है तो वो भी High Court में Judge बनने के लिए eligible है।

सर्वोच्च न्यायालय के न्यायाधीश बनने की योग्यता – Qualifications to Become Supreme Court Judge

Supreme Court में judge बनने के लिए किसी भी person को High Court में कम से काम 10 साल तक की experience होनी चाहिए Advocate Level पर या इसके अलावा उसे High Court में कम से कम 5 साल तक जज के level पर होना चाहिए। अगर कोई व्यक्ति Distinguished Jurist भी है तो वह भी Supreme Court में जज बन सकता है।

जज बनने के लिए तैयारी कैसे करें? – How to start Preparing for Becoming a Judge

अगर कोई भी Candidate Judge बनने की तैयारी कर रहा है तो उसे सबसे पहले यह decide करना होगा कि वह किस राज्य का Judge बनना चाहता है। यह इसीलिए भी जरूरी है क्यूकि हर राज्य के अंदर अलग अलग महीने पर या अलग अलग साल पर जज की post की vacancy निकलती रहती हैं। राज्य चुनने का और एक कारण यह भी है कि हर राज्य का Local कानून अलग होता है जो कि उस राज्य के अंदर होने वाले Judge के exam में पूछे जाते हैं और वह local law किसी दूसरे राज्य के exam में नहीं पूछे जाते। राज्य select कर लेने के बाद Candidate को उस राज्य के पिछले 10 साल के हुए exam के पेपर को solve करना चाहिए जिससे उसे exam के syllabus और subjects अच्छी तरह से समझ आ जाए। 

किसी भी व्यक्ति को किसी भी राज्य में होने वाले जज के exam को crack करने के लिए हर एक subject की Bare Act पढ़ने की सबसे ज्यादा जरूरत होती है। अगर कोई भी व्यक्ति बिना Bare Act को पढ़े exam को crack करने की सोचता है तो उसके लिए बहुत ही मुश्किल होता हैं। किसी भी राज्य में कोई भी नया आने पर उसकी जानकारी Bare Act से ही होती इसीलिए इसको जानना बहुत जरूरी है। Law के exam की तैयारी में revision करना सबसे ज्यादा जरूरी होता है क्योंकि हर एक Law के section को याद रखना होता है। यह तैयारी तो Law के Preliminary Exam के लिए हो गई लेकिन अब इसके बाद  के लिए आपको काफी ध्यान देना होगा।

जज कोर्स की फीस – Judge Course Fees

Judge बनने के लिए Candidate को पहले Law की degree लेनी होती है। भारत में LLB (Bachelor of Law) course की fees लगभग 1 लाख से 3 लाख रुपए प्रति साल के लगते है और LLM (Master of Law) Course के लिए भी लगभग 1 लाख से 2 लाख रुपए प्रति साल के लगते है। Law की degree Complete करने के बाद Candidate को काफी सालो तक practice की जरूरत होती है।

जज बनने के लिए कौशल – Skill to Become a Judge.

एक Judge बनने के लिए Candidate को Law की जानकारी तो होनी ही चाहिए। इसके साथ Candidate में कुछ skills की भी आवश्यकता होती है। जैसे – 

  • Candidate को law के हर एक section की जानकारी होनी चाहिए और Law की अच्छी समझ भी होनी चाहिए। 
  • Candidate की सोचने की शक्ति काफी अच्छी होनी चाहिए।
  • Candidate की communication skills भी काफी अच्छी होनी चाहिए। 
  • Candidate के अंदर decision making skills भी होनी चाहिए। मतलब यह कि किसी भी मामले में सही गलत के फैसले को बताने की। 

Judge की Promotion और Career Growth

Judge के post को लेने के लिए ही Candidate को पहले 7-8 साल तक किसी भी court में practice करना होता है। उसके बाद ही किसी भी Law Graduate Candidate का promotion होता है।  ठीक इसी तरह देश के सबसे बड़े Court यानी Supreme Court में Judge बनने के लिए Candidate को High Court में कम से कम 10 साल तक का experience होना चाहिए।

न्यायाधीश का वेतन – Salary of Judge

भारत में एक जज की salary हर एक Court के हिसाब से अलग अलग होती है।  भारत में High Court के Judge की monthly salary Rs. 225,000 तक हो सकती है और इसके साथ other Allowance भी मिलती है। इसी तरह भारत के Supreme Court के Judge की salary Rs. 250,000 तक हो सकती है और इसमें भी अलग से Other Allowance मिलती है।

अगर आप भी अपने career को law के क्षेत्र में बनाना चाहते है तो आप भी LLB की तैयारी शुरू कर दे। इस बाद ही आपको Judge बनने का मौका मिलता है। 7-8 साल की के बाद ही आप एक जज बनने के लिए eligible हो पाते है।

निष्कर्ष

आशा करते हैं कि आपको Judge Details In Hindi की पूरी जानकारी प्राप्त हो चुकी होगी। अगर फिर भी आपके मन में न्यायाधीश क्या होता है? (What Is Judge In Hindi) और जज कैसे बने? को लेकर कोई सवाल हो तो, आप बेझिझक Comment Section में Comment कर पूछ सकते हैं।

अगर यह जानकारी पसंद आया हो तो, जरूर इसे Share कर दीजिए ताकि Judge Kaise Bane बारे में सबको जानकारी प्राप्त हो।

Leave a Comment