ब्लैक फंगस क्या है और कैसे होता है? जानिए क्या हैं ब्लैक फंगस के लक्षण, इलाज, कारण और बचने के उपाय

आज हम जानेंगे ब्लैक फंगस क्या है और कैसे होता है की पूरी जानकारी (Black Fungus in Hindi) के बारे में क्योंकि एक तो वैसे ही कोरोनावायरस पूरी दुनिया में कहर मचा रहा है और दुनियाभर के देश इस वायरस से निजात पाने में पूरी ताकत झोंक दे रहे हैं। दुनिया के बड़े-बड़े मेडिकल इंस्टिट्यूट इस वायरस की वैक्सीन बनाने में लगे हुए हैं, वहीं दूसरी तरफ जो लोग कोरोनावायरस की चपेट से बाहर आ चुके हैं, उनमें एक नई समस्या देखी जा रही है जिसे ब्लैक फंगस का नाम दिया गया है।

बात करे ब्लैक फंगस बीमारी की तो यह पूरी बॉडी को छोड़कर के सीधा व्यक्ति की आंखों पर हमला करती है और व्यक्ति की आंखों को डैमेज करने का काम करती है। यह बीमारी चिंता का विषय इसलिए बन गई है क्योंकि जो पेसेंट कोरोनावायरस की बीमारी से बाहर आ चुके हैं उन्हें भी यह बीमारी अपनी चपेट में ले रही है। इसीलिए आजकल ब्लैक फंगस की चर्चा जोरों पर है। आज के इस लेख में जानेंगे कि Black Fungus in Hindi, ब्लैक फंगस क्या है और कैसे होता है, आदि की सारी जानकारीयां विस्तार में जानने को मिलेंगी, इसलिये पोस्ट को लास्ट तक जरूर पढे़ं।

ब्लैक फंगस क्या होता है? – What is Black Fungus (Mucormycosis) in Hindi

Contents show
Black Fungus In Hindi
Black Fungus In Hindi

बात करें अगर कि वह कौन सा कारण है जिसके कारण ब्लैक फंगस की बीमारी इंसानों को हो रही है तो वह कारण है म्यूकर नाम का फफूंद, जो अधिकतर जहां पर सड़े हुए फल होते हैं या जहां पर पौधे या फिर मिट्टी होती है वहां पर पाए जाते हैं। कुछ लोगों की मानें तो उनके नजरिए से Black Fungus के जीवाणु कई जगह पर मौजूद होते हैं।

जब कोई महिला या फिर पुरुष कोरोना के वायरस से पीड़ित होता है तो उसके फेफड़ों में जो सूजन होती है, उसे कम करने के लिए डॉक्टर के द्वारा स्टेरॉइड को काम पर लगाया जाता है, जो रोग प्रतिरोधक क्षमता को अच्छा करता है परंतु दूसरी तरफ यह इंसानों की बॉडी में इम्यूनिटी पावर को कमजोर कर देता है और इसीलिए कोरोनावायरस से ठीक हो चुके लोगों को ब्लैक फंगस की बीमारी अपनी चपेट में ले ले रही है।

ब्लैक फंगस कैसे होता है? – How does Black Fungus Happen in Hindi

जैसा कि हमने आपको ऊपर बताया कि Black Fungus सडे हुए फल, सडी हुई सब्जियां, खाद्य, पौधों इत्यादि में पाया जाता है। इस प्रकार से यह अधिकतर जगह पर उपलब्ध होता है। जब हमारी बॉडी में कोई चोट लग जाती है या फिर हमारी त्वचा जल जाती है अथवा हमारी त्वचा पर कोई कट का निशान आ जाता है, तो ब्लैक फंगस के जीवाणु उन्हीं के जरिये हमारी बॉडी के अंदर चले जाते हैं और धीरे-धीरे यह हमारी बॉडी पर हमला करने लगते हैं।

ब्लैक फंगस के लक्षण – Symptoms of Black Fungus in Hindi

  • नाक बंद होने की प्रॉब्लम होना
  • नाक से खून निकलना
  • मसूड़ों में दर्द होना
  • आधे या पूरे चेहरे का निस्तेज पड़ जाना
  • चेहरे पर सूजन दिखाई देना
  • दांतों में दर्द
  • दातों का टूटना
  • दांतों का हिलना
  • तेज बुखार आना
  • स्किन के ऊपर छोटे छोटे दाने आना
  • आंखों में जलन
  • आंखों से कम दिखाई देना
  • फेफड़ों में दर्द महसूस होना
  • सांस लेने में प्रॉब्लम होना

ब्लैक फंगस का इलाज क्या है?- Treatment of Black Fungus in Hindi

सामान्य तौर पर ब्लैक फंगस के जो लक्षण होते हैं, वह अन्य कई बीमारियों में भी हमें दिखाई देते हैं। इसलिए लोगों को यह पता ही नहीं चल पाता है कि उन्हें अन्य कोई बीमारी है या फिर वह ब्लैक फंगस की चपेट में आ चुके हैं। अगर आपको यह लगता है कि Black Fungus आपको हो चुका है या फिर ब्लैक फंगस आपको किसी ना किसी प्रकार से अपनी चपेट में ले रहा है, तो आपको बिल्कुल भी देरी नहीं करनी चाहिए, वरना आप काफी मुसीबत में पड़ सकते हैं और आपको आर्थिक नुकसान भी हो सकता है।

ये भी पढ़ें : प्रेगनेंसी टेस्ट किट क्या है? घर पर प्रेगनेंसी टेस्ट किट का इस्तेमाल कैसे करें?

Black Fungus जैसा कुछ भी लगने पर आपको सीधा किसी अच्छे डॉक्टर से मिलना चाहिए और उनसे राय सलाह करनी चाहिए। बता दे कि ब्लैक फंगस पर कंट्रोल पाने के लिए डॉक्टर एंटीफंगल थेरेपी का इस्तेमाल करते हैं जो कि ब्लैक फंगस पर कंट्रोल पाने के लिए बहुत ही कारगर मानी जाती है और कई लोगों में यह देखा गया है कि एंटी फंगल थेरेपी के कारण उन्हें ब्लैक फंगस की बीमारी से काफी हद तक आराम मिला है।

वैसे देखा जाए तो अभी तक जिन भी लोगों को Black Fungus हो रहा है उनमें से अधिकतर लोग जिंदा नहीं बचे हैं। इसलिए यह आवश्यक है कि समय रहते हुए आपको ब्लैक फंगस की ट्रीटमेंट चालू करवा देनी चाहिए। एक्सपर्ट के अनुसार देखा जाए तो ब्लैक फंगस बीमारी हो जाने पर तकरीबन 50 परसेंट लोगों की मौत हो जा रही है और 50 पर्सेंट लोग ही इस बीमारी से वापस ठीक हो पा रहे हैं।

ब्लैक फंगस से कौन सी बीमारी हो सकती है? – What causes Black Fungus infection in Hindi

हम बात करें अगर ब्लैक फंकस की बीमारियों के बारे में तो ब्लैक फंगस आपको अपनी चपेट में ले लेता है तो इससे आपकी आंखों की रोशनी जा सकती है और आप हमेशा के लिए अंधे बन सकते हैं। इसके अलावा आपको मोतियाबिंद भी हो सकता है, साथ ही ब्लैक फंगस के जीवाणु आपकी बॉडी के नर्वस सिस्टम को भी खराब कर सकते हैं और यह आपकी बॉडी में खून के थक्के भी जमा सकते हैं।

ब्लैक फंगस कैसे फैलता है? – How does Black Fungus Spread in Hindi

यह खाद, मिट्टी, सड़े हुए फल, सड़ी हुई सब्जियां में पाया जाता है। इस प्रकार यह वातावरण में कहीं ना कहीं मौजूद होता है। जब इंसानों की बॉडी पर किसी भी प्रकार से कोई भी चोट लग जाती है या फिर उनकी त्वचा जल जाती है अथवा उनकी त्वचा पर कोई कट लग जाता है तो Black Fungus को इंसानों की बॉडी में जाने का रास्ता मिल जाता है।

ये भी पढ़ें : सोनोग्राफी क्या है? सोनोग्राफी के प्रकार, टेस्ट और नुकसान क्या है?

इस प्रकार यह इंसानों की बॉडी में धीरे धीरे फैलता है और बॉडी के अलग-अलग अंगों को प्रभावित करने का काम करता है, जिसके लक्षण हमारी बॉडी पर दिखाई देने लगते हैं। हम यहां पर एक बात स्पष्ट तौर पर कह दें कि ब्लैक फंगस छुआछूत से नहीं फैलता है।

ब्लैक फंगस होने के कारण क्या है? – Causes of Black Fungus in Hindi

  • डायबिटीज की प्रॉब्लम
  • कोरोनावायरस से पीड़ित होने की प्रॉब्लम
  • कमजोर इम्यूनिटी पावर
  • अधिक स्टेरॉयड का सेवन करना

क्या ब्लैक फंगस ठीक हो सकता है? – Can Black Fungus be Cured

मेडिकल एक्सपर्ट्स के अनुसार देखा जाए तो ब्लैक फंगस ठीक हो सकता है परंतु इससे जल्दी रिकवरी की उम्मीद करना बेकार है। मेडिकल एक्सपर्ट ने यह भी कहा है कि Black Fungus से जो भी व्यक्ति पीड़ित है, उनकी अधिकतर मृत्यु ही हो जा रही है। हालांकि ऐसे लोगों की संख्या भी ठीक-ठाक ही है, जो इस बीमारी से निजात पा जा रहे हैं। इसीलिए यह कहा जा सकता है कि ब्लैक फंगस ठीक हो सकता है। हालांकि इसके लिए उचित एंटीबैक्टीरियल थेरेपी लेनी चाहिए और एक्सपर्ट डॉक्टर के कहे अनुसार दवा का सेवन करना चाहिए।

ब्लैक फंगस टेस्ट कैसे होता है? – How is black fungus test done?

बता दे कि व्यक्ति को ब्लैक फंगस की बीमारी हुई है या नहीं, इसका पता लगाने के लिए फंगल कल्चर टेस्ट किया जाता है। फंगल कल्चर टेस्ट में सबसे पहले जो भी सैंपल इकट्ठा किए जाते हैं, उन्हें एक स्लाइड पर रख दिया जाता है और फिर अच्छी क्वालिटी के माइक्रोस्कॉपी के द्वारा सभी सैंपल का सही ढंग से जांच किया जाता है, जिसे करने में काफी समय लगता है।

ये भी पढ़ें : काढ़ा कैसे बनाया जाता है? जानिए काढ़ा पीने के फायदे और नुकसान 

यह इसलिए आवश्यक होता है, क्योंकि माइक्रोस्कॉपी ही यह बताता है कि Black Fungus का इन्फेक्शन हुआ है या नहीं। बता दें कि, ब्लैक फंगस का पता लगाने के लिए फंगल कल्चर टेस्ट को करने में तकरीबन आधे घंटे से लेकर के 1 घंटे का समय लग जाता है, उसके बाद रिपोर्ट रेडी करके रिपोर्ट देखी जाती है और पेशेंट को ब्लैक फंगस की जानकारी दी जाती है।

ब्लैक फंगस से कैसे बचें? – How to Prevent Black Fungus in Hindi

वैसे तो कोरोनावायरस के कारण मास्क पहनना जरूरी है परंतु आप जब किसी ऐसी जगह पर जाएं जहां पर ज्यादा धूल मिट्टी उड़ती है या फिर जहां पर ज्यादा गंदगी है, तब वहां पर भी आपको मास्क अवश्य लगाना चाहिए।

अगर आप खेतों में काम करते हैं या फिर बागवानी का काम करते हैं तो खेतों में अथवा बागवानी में जाने से पहले आपको जूता अवश्य अपने पैरों में पहनना चाहिए और अच्छे प्लास्टिक के दस्ताने से अपने हाथ और पैरों को ढकना चाहिए।

ये भी पढ़ें : बवासीर क्या है? घर पर बवासीर की ट्रीटमेंट कैसे करें?

आपको रोजाना अवश्य नहाना चाहिए और किसी एंटीबैक्टीरियल साबुन का इस्तेमाल करना चाहिए, साथ ही अपने आसपास साफ-सफाई का विशेष तौर पर ध्यान रखना चाहिए।

अगर आपको हाथों में कोई चोट लग गई है या फिर आपको अपनी बॉडी में कहीं पर जलने का निशान दिखाई दे रहा है अथवा आपकी बॉडी में कहीं पर कट लग गया है, तो आपको बिना देरी किए हुए डॉक्टर से दिखाना चाहिए और उचित ट्रीटमेंट लेनी चाहिए, क्योंकि ब्लैक फंगस इन्ही जगह से हमारी बॉडी में जाते हैं।

ब्लैक फंगस (Black Fungus) से संबंधित अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न

ब्लैक फंगस के लिए कौन सी दवा दी जाती है?

Amphotericin B, Isavuconazole, Posaconazole

क्या ब्लैक फंगस होने से आंखों की रोशनी भी जा सकती है?

जी हा

ब्लैक फंगस की बीमारी कब तेजी से फैलने लगा?

कोरोनावायरस की दूसरी लहर में

किसे ज्यादा ब्लैक फंगस की बीमारी हो रही है?

जो लोग कोरोनावायरस से निजात पा चुके हैं अथवा जिनकी इम्यूनिटी पावर कमजोर है।

क्या ब्लैक फंगस बीमारी इंसानों की जान ले सकती है?

जी हां इसने अभी तक कई इंसानों की जान ले ली है।

ब्लैक फंगस बीमारी का ट्रीटमेंट क्या है?

समय रहते हुए डॉक्टर से कंसल्ट करें और इलाज करवाएं।

ब्लैक फंगस का दूसरा नाम क्या है?

म्यूकर माइकोसिस

निष्कर्ष

आशा है आपको ब्लैक फंगस क्या है और कैसे होता है के बारे में पूरी जानकारी मिल गई होगी। अगर अभी भी आपके मन में black fungus kaisa hota hai (Black Fungus in Hindi) और ब्लैक फंगस क्या है और कैसे होता है को लेकर आपका कोई सवाल है तो आप बेझिझक कमेंट सेक्शन में कमेंट करके पूछ सकते हैं। अगर आपको यह जानकारी अच्छी लगी हो तो इसे शेयर जरूर करें ताकि सभी को Black Fungus in Hindi में जानकारी मिल सके।

आपको हमारा यह लेख कैसा लगा?

Leave a Comment