एड्स क्या होता है? एड्स कैसे होता है? जानिए Aids से जुड़ी सभी जानकारी हिंदी में

आज हम जानेंगे एड्स कैसे होता है पूरी जानकारी (Aids Kaise Hota Hai) के बारे में क्योंकि हम सभी यह बात अच्छी तरह से जानते हैं कि मृत्यु किसी ना किसी बहाने से आनी ही है परंतु इंसानों की गलतियों के कारण कभी-कभी कुछ ऐसी बीमारियों उसे हो जाती हैं जो उसकी उम्र को घटा देती हैं और सही टाइम पर इलाज ना मिल पाने के कारण उस व्यक्ति की मृत्यु हो जाती है।

ऐसी ही एक बीमारी है एड्स, जिसके बारे में बात करना आमतौर पर लोग कम ही पसंद करते हैं, क्योंकि यह एक ऐसा नाम है जिस पर लोग खुले में चर्चा करने से कतराते हैं।आज के इस लेख में जानेंगे कि Aids Kaise Hota Hai, एड्स के लक्षण, Aids Meaning In Hindi, Aids Kya Hota Hai, एड्स से बचने का तरीका, Aids ke Lakshan, आदि की सारी जानकारीयां विस्तार में जानने को मिलेंगी, इसलिये पोस्ट को लास्ट तक जरूर पढे़ं।

एड्स रोग क्या है – What is Aids Disease Information in Hindi?

Aids Kaise Hota Hai
Aids Kaise Hota Hai

Aids एक ऐसी बीमारी और समस्या है जो जब किसी व्यक्ति को अपनी गिरफ्त में ले लेती है तो वह व्यक्ति दिन ब दिन धीरे-धीरे मरने लगता है, क्योंकि एड्स हो जाने पर व्यक्ति को पहली बात तो बहुत ही शर्मिंदगी महसूस होती है और वह अपनी इस बीमारी के बारे में खुलकर किसी को बता भी नहीं सकता है।

कई लोग तो एड्स की बीमारी हो जाने पर डॉक्टर के पास भी जाने से कतराते हैं, क्योंकि उन्हें अपनी बदनामी का डर होता है। एड्स बीमारी होने से पहले इस बीमारी से कैसे बचाव किया जा सकता है और एड्स क्या होता है यह जान लेना हर उस व्यक्ति के लिए आवश्यक है, जो इस बीमारी के बारे में नहीं जानता है।

एड्स कैसे होता है? – What is the main cause of AIDS

एक जानलेवा और बहुत ही खतरनाक बीमारी के तौर पर Aids को पूरी दुनिया भर में जाना जाता है। उस व्यक्ति की मृत्यु तकरीबन 90 पर्सेंट तए हो जाती है जिस व्यक्ति को एड्स बीमारी हो जाती है। हमारे भारत देश में तकरीबन हर साल 80000 से ज्यादा लोग एड्स की बीमारी के कारण मौत की नींद सो जाते हैं। हिंदी में इसे उपार्जित प्रतिरक्षा नाशक रोग कहा जाता है।

आपकी इंफॉर्मेशन के लिए बता दें कि, इंसानों में नेचुरल तौर पर एड्स की स्टार्टिंग नहीं हुई है बल्कि इंसानों की ही कुछ गलती के कारण Aids की बीमारी पैदा हुई है। यह एक इंफेक्शन वाला रोग होता है और एड्स की बीमारी human immunodeficiency virus नाम के एक विषाणु के इंफेक्शन के कारण होती है। इंसानों की बॉडी में जब Aids का वायरस एंटर करता है तो यह इंसानों की बॉडी में अवेलेबल वाइट ब्लड सेल्स में मिक्स हो जाता है और फिर वाइट ब्लड सेल्स में मिक्स होने के बाद यह इंसानों के डीएनए में एंट्री करता है,

जहां पर यह डिवाइड हो जाता है और उसके बाद यह इंसानों की बॉडी के ब्लड में मौजूद वाइट ब्लड सेल्स पर अटैक कर देता है और धीरे-धीरे इंसानों की बॉडी की रोग प्रतिरोधक कैपेसिटी को यह खत्म करने लगता है। एक बार जब एड्स का वायरस इंसान की बॉडी में आ जाता है तो यह कभी भी खत्म नहीं होता है और इसी अवस्था को एड्स कहा जाता है।

एचआईवी एड्स किन कारणों से फैलता है? – How Hiv/Aids is Spread

अगर कोई महिला ऐसे किसी पुरुष के साथ अथवा पुरुष ऐसी किसी महिला के साथ बिना Protection के समागम करता है जिसे एड्स की बीमारी है तो इसके कारण व्यक्ति की बॉडी में एड्स के वायरस इंटर कर जाते हैं। इसके अलावा जिस किसी भी व्यक्ति को Aids की बीमारी है, अगर कोई व्यक्ति उसके होठों पर किस करता है तो ऐसे में एड्स होने की संभावना बहुत ही कम होती है क्योंकि जब इंसानों की थुक में एचआईवी का वायरस आता है तो वह काफी कमजोर पड़ जाता है।

ऐसी अवस्था में भी किसी महिला के बच्चे को एचआईवी ऐड्स हो सकता है जब वह महिला खुद प्रेग्नेंट रहने के दरमियान एचआईवी से पीड़ित हो। अगर कोई बच्चा किसी ऐसी महिला का दूध पीता है जिसे एचआईवी है तो दूध के द्वारा भी यह वायरस बच्चे की बॉडी में इंटर कर सकते हैं। अगर किसी व्यक्ति को ऐसा कोई इंजेक्शन लगाया जाता है जिसका इस्तेमाल किसी एचआईवी से पीड़ित व्यक्ति को लगाने के लिए किया गया होता है तो ऐसी अवस्था में भी इंजेक्शन के द्वारा एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में Hiv Aids के वायरस जा सकते हैं।

अगर सर्जिकल इंस्ट्रूमेंट को किसी एचआईवी से पीड़ित व्यक्ति के ऊपर इस्तेमाल किया गया है और उसी सर्जिकल इंस्ट्रूमेंट को किसी स्वस्थ्य व्यक्ति पर इस्तेमाल किया जाता है तो ऐसी अवस्था में भी उस व्यक्ति को एचआईवी ऐड्स का इंफेक्शन हो सकता है। जो व्यक्ति एचआईवी एड्स की समस्या से परेशान है अगर उस व्यक्ति के खून को बिना टेस्ट किए हुए किसी दूसरे व्यक्ति की बॉडी में चढ़ा दिया जाता है तो उस व्यक्ति को भी एचआईवी ऐड्स हो जाता है।

एड्स के लक्षण क्या है? – What are the Symptoms of AIDS

एचआईवी एड्स के लक्षण सामान्य तौर पर इंसानों को इस बीमारी से पीड़ित हो जाने के तकरीबन 4 से 5 साल के बाद दिखाई देते हैं। इसीलिए इस बीमारी में व्यक्ति के बचने की संभावना बहुत ही कम होती है। नीचे हम आपको एचआईवी ऐड्स हो जाने के बाद कौन से लक्षण व्यक्ति के अंदर दिखाई देते हैं, उसकी इंफॉर्मेशन दे रहे हैं।

  • अगर किसी व्यक्ति को बार-बार गले में सूजन हो जाती है अथवा गले में गिल्टी हो जाती है तो यह एचआईवी एड्स होने की प्रबल संभावना का सिग्नल देती है।
  • एचआईवी Aids हो जाने के बाद व्यक्ति की बॉडी में कई हफ्तों तक बुखार रहता है और दवा लेने के बावजूद भी उसका बुखार जल्दी ठीक नहीं होता है।
  • एचआईवी एड्स हो जाने के बाद व्यक्ति को लगातार खांसी आना प्रारंभ हो जाता है।
  • बिना मतलब के ही उसका वजन धीरे-धीरे कम होने लगता है।
  • उसकी त्वचा पर लाल लाल खुजली वाले दाने हो जाते हैं।
  • व्यक्ति की भूख बहुत ही कम हो जाती है।
  • चेहरा बिल्कुल ही पीला पड़ जाता है।
  • चेहरे पर कोई भी रौनक नहीं होती है ऐसा लगता है जैसे वह आदमी काफी सालों से बीमार है।
  • एचआईवी एड्स हो जाने के बाद व्यक्ति को बहुत ही ज्यादा कमजोरी महसूस होती है और कोई भी काम करने में उसका मन नहीं लगता है।
  • किस व्यक्ति को Hiv Aids है और किसे नहीं इसकी सटीक जानकारी ब्लड टेस्ट करवाने के बाद ही डॉक्टर जान पाते हैं।

एचआईवी एड्स किन कारणों से नहीं होता है? – What are the reasons for not Getting HIV Aids?

दुनिया में एचआईवी Aids को लेकर के बहुत सारी उल्टी-सीधी बातें फैली हुई है। इसलिए इस बात की इंफॉर्मेशन हासिल करना जरूरी है कि आखिर एचआईवी एड्स से किन वजहों से नहीं फैलता है। नीचे उन सभी वजहों की इंफॉर्मेशन प्रदान की गई है, जिसके कारण एचआईवी एड्स का प्रसार नहीं होता है।

  • कई लोगों को यह लगता है कि कीड़े मकोड़े के काटने से एचआईवी फैलता है परंतु यह बात बिल्कुल गलत है।कीड़े मकोड़ों के काटने से एचआईवी एड्स नहीं फैलता है।
  • Hiv Aids की बीमारी से परेशान व्यक्ति की पेसाब या उसके पसीने से यह इंफेक्शन नहीं फैलता है।
  • स्विमिंग पूल या फिर बाथरूम का यूज करने से यह नहीं फैलता है।
  • अगर कोई व्यक्ति एचआईवी ऐड्स की समस्या से परेशान है और कोई दूसरा व्यक्ति उसका इस्तेमाल किया हुआ कपड़ा इस्तेमाल करता है तो इसके कारण भी Hiv Aids नहीं फैलता है।
  • जो व्यक्ति एचआईवी ऐड्स की समस्या से परेशान है उसे छूने से या फिर उसके साथ काम करने से भी एचआईवी एड्स नहीं फैलता है।
  • एचआईवी एड्स की बीमारी से परेशान व्यक्ति के साथ एक ही थाली में खाना खाने से भी एचआईवी Aids नहीं फैलता है।
  • अगर एचआईवी ऐड्स की समस्या से परेशान व्यक्ति किसी के सामने खासता है या फिर छींकता है तो इससे भी एचआईवी Aids का प्रसार नहीं होता है।

एड्स से कैसे बचे? – How to Avoid Aids in Hindi

नीचे हम आपको कुछ ऐसी महत्वपूर्ण जानकारी बता रहे हैं जो आपको Aids की समस्या से बचने में बहुत ही सहायता प्रदान करेंगी। आपको एक बात क्लियर कर दें कि, एचआईवी एड्स का कोई भी इलाज नहीं है। इसलिए इससे सुरक्षा ही सबसे बेस्ट उपाय है।

1. Hiv Aids की समस्या से बचने के लिए आपको अपने पति या पत्नी के अलावा किसी भी अन्य व्यक्ति के साथ समागम नहीं करना चाहिए अथवा संबंध नहीं बनाना चाहिए।

2. अगर आपको कभी किसी अन्य व्यक्ति के साथ संबंध बनाने की तीव्र इच्छा कर रही है तो आपको कंडोम का इस्तेमाल अवश्य करना चाहिए क्योंकि कंडोम आपको सुरक्षित तौर पर यौन संबंध बनाने का मौका देता है और कंडोम का इस्तेमाल करने पर काफी हद तक आपकी रक्षा एचआईवी Aids होने से होती है।

3. जब कभी भी आप अस्पताल में कोई इंजेक्शन लगवाने के लिए जाएं तो इस बात को कंफर्म कर लें कि वह इंजेक्शन फ्रेश हो क्योंकि अगर किसी एचआईवी संक्रमित व्यक्ति का इंजेक्शन आपको लग जाता है, तो आपको भी एचआईवी एड्स हो सकता है।

4. जो महिलाएं Hiv Aids की बीमारी से ग्रसित हो चुकी हैं उन्हें प्रेगनेंसी नहीं करनी चाहिए क्योंकि अगर वह प्रेग्नेंट होती है तो उनका जो बच्चा पैदा होगा उसे भी एचआईवी एड्स होने की बहुत ही तगड़ी संभावना होती है।

5. अगर आपको कभी ब्लड की आवश्यकता पड़ती है तो आपको किसी भी अनजान आदमी का ब्लड नहीं लेना है और जो भी ब्लड आप ले उसे टेस्ट अवश्य करवा ले, क्योंकि ब्लड के द्वारा भी कभी-कभी एचआईवी एड्स का वायरस दूसरे इंसान की बॉडी में चला जाता है। हालांकि इसके लिए यह आवश्यक है कि जिस व्यक्ति का ब्लड आप ले रहे हैं उसे एचआईवी Aids की बीमारी हो।

6. किसी भी अनजान व्यक्ति के द्वारा इस्तेमाल किए गए ब्लड या फिर पती का इस्तेमाल अपने लिए ना करें बल्कि आप चाहे तो नया खरीद कर इस्तेमाल कर सकते हैं।

7. एड्स एक लाइलाज बीमारी है यानी कि इसका कोई भी इलाज नहीं है। इसलिए इसका उपचार सिर्फ बचाव ही है। इसलिए अपनी सेफ्टी रखें।

निष्कर्ष

आशा है आपको HIV & Aids Details In Hindi के बारे में पूरी जानकारी मिल गई होगी। अगर अभी भी आपके मन में Aids Kaise Hota Hai (How Aids is Caused In Hindi) और एड्स कैसे होता है? को लेकर आपका कोई सवाल है तो आप बेझिझक कमेंट सेक्शन में कमेंट करके पूछ सकते हैं। अगर आपको यह जानकारी अच्छी लगी हो तो इसे शेयर जरूर करें ताकि सभी को Aids Kya Hota Hai के बारे में जानकारी मिल सके।

आपको हमारा यह लेख कैसा लगा?

मैं supportingainain ब्लॉग का संस्थापक और एक पेशेवर ब्लॉगर हूं। यहाँ पर मैं नियमित रूप से अपने पाठकों के लिए उपयोगी और मददगार जानकारी साझा करता हूं। ❤️ Contact us via Email - [email protected]

Leave a Comment

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.