पवित्रता क्या होता है? Pavitra कैसे बने? जानिए Pavitra बनने से जुड़ी सभी जानकारी हिंदी में

आज हम जानेंगे पवित्र (Pavitra) कैसे बने पूरी जानकारी (How To Become Holy In Hindi) के बारे में क्योंकि हमारा जो मन है ना, यह बहुत ही चंचल होता है क्योंकि यह कभी एक जगह पर टिका नहीं रहता है। पल भर में ही यहां की बातें सोचता है तो पल भर में ही वहां की बातें सोचने लगता है। जिस व्यक्ति ने अपने मन पर कंट्रोल कर लिया है समझ लो उसने आधी दुनिया जीत ली है, क्योंकि हमारा मन ही हमें दुनिया की मोह माया में फंसाने का काम करता है।

अगर हम अपने मन पर और अपने विचारों पर कंट्रोल कर लेते हैं तो हम दुनिया की मोह माया में नहीं फसते हैं और हमारा जो लक्ष्य जिंदगी का है, हम उसके पीछे अपना पूरा ध्यान केंद्रित कर पाते हैं। आज के इस लेख में जानेंगे कि Pavitra Kaise Bane, पवित्र बनने के लिए क्या करे, Pavitra Kya Hota Hai, पवित्र बनने का तरीका, Pavitra Kaise Bante Hain, आदि की सारी जानकारीयां विस्तार में जानने को मिलेंगी, इसलिये पोस्ट को लास्ट तक जरूर पढे़ं।

पवित्र कैसे बने? – How to Become Holy Information in Hindi?

Pavitra Kaise Bane
Pavitra Kaise Bane

इंसान दो प्रकार से अशुद्ध होता है पहला मन से और दूसरा शारीरिक रूप से। शारीरिक रूप से इंसान की अशुद्धता तो दूर की जा सकती है परंतु इंसान को मन से साफ बनने में काफी समय लग जाता है, क्योंकि वर्तमान के इस कलयुग में ऐसे कम ही लोग बचे हैं जिनका मन साफ है और जो निस्वार्थ भाव से दूसरे लोगों का भला सोचते हैं। पवित्र लोग हर दम दूसरे की भलाई के बारे में सोचते हैं और वह यह चाहते हैं कि दूसरा भी उनके साथ वैसा ही व्यवहार करें जैसा व्यवहार वह दूसरे लोगों के साथ करते हैं

पवित्र बनने के लिए क्या करें? – What do to Become Holy Information in Hindi?

कई बार हमारे मन में कुछ ऐसे बुरे ख्याल आने लगते हैं जो वास्तव में बहुत ही घटिया किस्म का ख्याल होते हैं और हम यह समझ ही नहीं पाते की आखिर ऐसे घटिया और बुरे ख्याल हमें क्यों आते हैं। हम आपको बता दें कि ऐसे ख्याल आपके मन के अपवित्र होने के कारण आते हैं, क्योंकि जब आप दिनभर किसी चीज के बारे में सोचते रहते हैं तो आपको वैसे ही ख्याल आने लगते हैं। इस आर्टिकल में आप जानेंगे कि अपने मन को साफ कैसे करें और पवित्र कैसे बने या फिर पवित्र बनने के लिए क्या करना पड़ता है?

1. पूजा-पाठ पर ध्यान दें

अगर आप Pavitra बनना चाहते हैं और अपने मन को साफ करना चाहते हैं, तो पवित्र बनने का सबसे सरल रास्ता है कि आप पूजा पाठ पर ध्यान दें। कई ऐसे लोग होते हैं जो बिल्कुल ही पूजा पाठ नहीं करते हैं या फिर ईश्वर को मानते हैं, परंतु नियमित रूप से उनका पूजा पाठ नहीं करते हैं। ऐसे लोगों का मन पूजा-पाठ मे ना लगने के कारण सांसारिक मोह माया में भटकने लगता है और वह ऐसे दलदल में धीरे-धीरे फसते जाते हैं, जहां पर वासना काम क्रोध मद लोभ होता है, जो इंसान को पवित्र नही बनने नहीं देता है।

इंसान को पवित्र बनने के लिए काम क्रोध मद लोभ जैसी बुरी चीजों को छोड़ना पड़ता है या फिर इन पर कंट्रोल करना पड़ता है। बड़े बड़े ज्ञानी ऋषि-मुनियों ने भी कहा है कि जिस व्यक्ति ने अपनी वासना पर और काम क्रोध मद लोभ पर काबू कर लिया है वह एक तेजवान व्यक्ति बन जाता है अर्थात उसके चेहरे से तेज झलकता है, तो अगर आप को Pavitra बनना है तो पूजा पाठ पर ध्यान दें और भगवान पर पूरा विश्वास करें।

2. ब्रम्हचर्य का पालन करें

अगर आपको पवित्र बनना है तो आपको ब्रम्हचर्य का भी पालन करना पड़ेगा। अगर आप नहीं जानते कि ब्रम्हचर्य क्या होता है, तो हम आपको बता दें कि, ब्रह्मचर्य के अंतर्गत आपको अपनी वासना पर कंट्रोल करना पड़ता है और आपको एकांत में जाकर रहना पड़ता है। हालांकि अगर आप एकांत में जाकर नहीं रह सकते, तो आप अपने घर पर भी रहकर ब्रह्मचर्य का पालन कर सकते हैं। जो व्यक्ति ब्रह्मचर्य का पालन करता है, उसका मन धीरे धीरे Pavitra होने लगता है और एक दिन वह पवित्र व्यक्ति बन जाता है। ब्रह्मचर्य का पालन करने से पवित्र बनने के अलावा भी व्यक्ति को अन्य कई फायदे होते हैं।

जैसे जब व्यक्ति ब्रह्मचर्य का पालन करता है तो उसके वीर्य की रक्षा होती है जिसके कारण उसका शरीर मजबूत बनता है और उसके चेहरे से एक अलग ही प्रकार का तेज झलकता है। ब्रह्मचर्य का पालन करने के लिए आपको मसाले वाली चीजों और तेल वाली चीजों का सेवन करना छोड़ना पड़ता है क्योंकि यह गर्म चीजें होती हैं जो आपके मन में गलत विचारों को लाती हैं, इसलिए पवित्र बनने के लिए आपको ब्रह्मचर्य का पालन करना पड़ेगा।

3. मांस का सेवन करना छोड़ें

आपने देखा होगा कि हमारे हिंदू धर्म शास्त्रों में मांस का सेवन करना मना किया गया है। खासतौर पर तो मंगलवार और शनिवार के दिन इंसान को मांस खाने के लिए मना किया गया है, क्योंकि मांस किसी भी प्रकार से व्यक्ति के लिए स्वास्थ्यवर्धक नहीं होता है। हालांकि कई लोग अनजाने में ही मांस को स्वास्थ्यवर्धक चीज मानकर सेवन करते हैं।

परंतु आप ही सोचिए कि पहले के जमाने में लोग मांस खाने की जगह पर अधिकतर सब्जी और फल फूल ही खाते थे और उसी को खा कर वह स्वस्थ रहते थे, तो इस प्रकार अगर आप को पवित्र बनना है तो आपको मांस का सेवन करना छोड़ना पड़ेगा। आप खुद ही सोचिए कि क्या आपका पेट कोई श्मशान घाट है जहां पर मरे हुए जानवरों को लाकर डाला जाए?

4. नशा ना करें

अगर आपको पवित्र बनना है और अपने मन को साफ करना है तो आपको नशा करना भी छोड़ना पड़ेगा‌। अगर आप किसी भी प्रकार का नशा जैसे की बीड़ी, तंबाकू, गुटखा, सिगरेट, पान इत्यादि का सेवन करते हैं तो यह आपकी बॉडी में जाकर गर्मी पैदा करता है जो आपके मन में वासना पैदा करने का काम भी करता है। और जिस व्यक्ति के मन के अंदर वासना होती है वह कभी भी पवित्र नहीं बन सकता। इसीलिए Pavitra बनने के लिए आपको नशा नहीं करना चाहिए। नशा वैसे भी आपके स्वास्थ्य के लिए हानिकारक होता है, तो बेहतर होगा कि आपको इसे छोड़ देना चाहिए Pavitra बनने के लिए।

5. गुरु बनाएं

चाहे कोई सिद्धि प्राप्त करनी हो या फिर अपने मन को साफ करके पवित्र व्यक्ति बनना हो, आपको गुरु अवश्य बनाना चाहिए। किसी भी व्यक्ति की जिंदगी में एक गुरु का होना आवश्यक होता है। अगर आपको Pavitra बनना है तो आपको ऐसे गुरु को ढूंढना चाहिए जो सांसारिक मोहमाया से रहित हो और जिनका मन भगवान की भक्ति में पूर्ण रूप से लग गया हो।

ऐसे गुरु का सानिध्य प्राप्त करके आप पवित्र तो बन ही सकते हैं, साथ ही भगवान की भक्ति में भी अपना ध्यान लगा सकते हैं और आपको गुरु का सानिध्य प्राप्त होने के कारण संसार की अन्य ऐसी कई बातों के बारे में भी ज्ञान की प्राप्ति होगी जिनके बारे में शायद ही आप जानते हो। गुरु आपको जिंदगी में आगे बढ़ने का मार्गदर्शन देगा और आपको एक Pavitra व्यक्ति बनने में आपकी सहायता करेगा।

6. झूठ ना बोलें

अगर आपको पवित्र बनना है तो आपको हमेशा सच बोलना पड़ेगा और झूठ बोलने की अपनी आदत को त्यागना पड़ेगा। कई व्यक्ति ऐसे होते हैं, जो मन ही मन यह सोचते हैं कि मैं तो बहुत अच्छा इंसान हूं, मैं तो बहुत Pavitra इंसान हूं, परंतु समाज में उनकी छवि एक झूठ बोलने वाले व्यक्ति की होती है, क्योंकि हर व्यक्ति को यही लगता है कि वही सही है और बाकी सब गलत हैं। जो व्यक्ति झूठ बोलता है या फिर कपट करता है वह व्यक्ति कभी भी पवित्र व्यक्ति नहीं बन सकता, ना ही वह अच्छे मन वाला व्यक्ति कहलाता है।

झूठ बोलने वाला व्यक्ति झूठ बोलकर भले इस दुनिया में बच सकता है परंतु भगवान की निगाहों में वह एक दुष्ट व्यक्ति होता है इसीलिए अगर आपको पवित्र व्यक्ति बनना है तो आपको झूठ बोलना बंद करना पड़ेगा और आपको सच बोलना पड़ेगा। फिर चाहे परिस्थितियां कितनी भी ज्यादा विकट क्यों ना हो। सच बोलने वाले का कभी भी मुंह काला नहीं होता है बल्कि जो झूठ बोलता है, उसी का मुंह काला होता है। दुनिया में सच का डंका हर जगह बजता है।

7. झूठे वादे ना करें

क्या होगा अगर किसी व्यक्ति ने आपसे कोई वादा किया और उसने आपसे वादा नहीं निभाया। यह जाहिर सी बात है कि ऐसी अवस्था में आप उस व्यक्ति को बहुत ही बुरा भला कहेंगे और दोबारा उस व्यक्ति से कोई भी काम नहीं कहंगे, बस यही चीज आपको अपने ऊपर भी लेनी है। अगर आप किसी से कोई वादा करते हैं, तो आपको उस वादे को निभाना चाहिए और अगर आप वादा निभा नहीं सकते तो आपको किसी से झूठा वादा नहीं करना चाहिए।

पवित्र बनने के लिए आपको किसी भी व्यक्ति से झूठा वादा नहीं करना चाहिए, क्योंकि क्या पता कोई व्यक्ति आपके भरोसे ही बैठा हो और आप सही मौके पर उसे धोखा दे दे या फिर उससे काम ना आएं। ऐसे में उसका मन आपसे रूठ जाता है।

8. अच्छे लोगों की संगत करें

पवित्र बनने के लिए आपको बुरे लोगों की नहीं बल्कि अच्छे लोगों की संगत करनी पड़ेगी। अच्छे लोगों के साथ रहने पर आपको किसी भी प्रकार की बुरी आदत की लत नहीं लगेगी, ना ही आपके मन में किसी भी प्रकार के बुरे विचार आएंगे, क्योंकि व्यक्ति जैसी संगत करता है वैसा ही वह धीरे-धीरे बन जाता है। अगर आप अच्छे लोगों की संगत करेंगे, तो आप एक अच्छे व्यक्ति बनेंगे और अगर आप बुरे लोगों की संगत करेंगे, तो आप बुरे व्यक्ति बनेंगे। अच्छी संगति इंसान को जिंदगी में आगे बढ़ने की प्रेरणा देती है और बुरी संगति इंसान को कुरितियों के दलदल में फंसाती है।

9. ईमानदार बने

अंग्रेजी में एक कहावत है Honesty is The Best Policy यानी की इमानदारी दुनिया में सबसे अच्छा नियम है। अगर आपको Pavitra बनना है और अपने मन को साफ करना है तो आपको ईमानदार बनना पड़ेगा। ईमानदार व्यक्ति की समाज में इज्जत होती है और लोग उसे हमेशा सम्मान देते हैं। पवित्रता का पैमाना यह भी है कि आप शारीरिक रूप से नहीं बल्कि मानसिक रूप से भी ईमानदार हो।

निष्कर्ष

आशा करते हैं कि आपको Pavitra Details In Hindi की पूरी जानकारी प्राप्त हो चुकी होगी। अगर फिर भी आपके मन में Pavitra Kaise Bane (How To Become Holy In Hindi) और पवित्र कैसे बने? को लेकर कोई सवाल हो तो, आप बेझिझक Comment Section में Comment कर पूछ सकते हैं।

अगर यह जानकारी पसंद आया हो तो, जरूर इसे Share कर दीजिए ताकि Pavitra Kya Hota Hai बारे में सबको जानकारी प्राप्त हो।

About Ainain

pavitraमैं इस ब्लॉग का संस्थापक और एक पेशेवर ब्लॉगर हूं। यहाँ पर मैं नियमित रूप से अपने पाठकों के लिए उपयोगी और मददगार जानकारी साझा करता हूं। ❤️

Leave a Comment

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.