ड्राइवर कैसे बने? जानिए Driver बनने से जुड़ी सभी जानकारी हिंदी में

आज हम जानेंगे ड्राइवर (Driver) कैसे बने पूरी जानकारी (How To Become Driver In Hindi) के बारे में क्योंकि वैसे तो हमारे समाज में ड्राइवर को काफी हीन भावना से देखा जाता है, क्योंकि ड्राइवर की छवि समाज में कुछ ऐसी बना दी गई है कि ड्राइवर ऐसा व्यक्ति होता है, जो अनपढ़ होता है या फिर ज्यादा पढ़ा लिखा नहीं होता है और फिर मजबूरी में वह गाड़ी चलाने का यानी ड्राइवरी का काम करता है, परंतु क्या आप जानते हैं कि ड्राइवरी एक ऐसा पेश है, जो आज के समय में काफी फायदेमंद माना जा रहा है।

अतः ड्राइवर कैसे बने नामक इस लेख को पढ़कर आप इस बारे में विस्तार से जान पाएंगे कि हम आखिर ऐसा क्यों कह रहे हैं। आज के इस लेख में जानेंगे कि Driver Kaise Bane, ड्राइवर बनने के लिए क्या करे, Driver Kya Hota Hai, ड्राइवर बनने का तरीका, Driver Kaise Bante Hain, आदि की सारी जानकारीयां विस्तार में जानने को मिलेंगी, इसलिये पोस्ट को लास्ट तक जरूर पढे़ं।

ड्राइवर कैसे बने? – How to Become a Driver Information in Hindi?

विषय-सूची

Driver Kaise Bane
Driver Kaise Bane

ड्राइवर बनने के लिए जो सबसे मुख्य चीज है वह यह है कि आपको अच्छी गाड़ी चलानी आनी चाहिए, क्योंकि एक ड्राइवर का मुख्य कार्य गाड़ी चलाना और यात्रियों को गंतव्य स्थान तक सही सलामत पहुंचाना है। हालांकि इसके अलावा भी ड्राइवर बनने के लिए ऐसी बहुत सी बातें हैं जिन्हें आप को ध्यान में रखना है, तभी आप एक ड्राइवर बन पाएंगे। ड्राइवर कैसे बने, अगर इस सवाल का जवाब पता करें तो यह पता चलता है कि ड्राइवर बनना आसान भी है और मुश्किल भी है। कुल मिलाकर यह डिपेंड करता है कि जो व्यक्ति ड्राइवर बनना चाहता है उसके अंदर ड्राइवर बनने की कितनी लगन है।

ड्राइवर बनने के लिए क्या करें? – What to do to Become a Driver Information in Hindi?

देखिए अगर आप का मतलब ड्राइवर से ट्रक ड्राइवर का है तो यहां पर हम आपको बता दें कि ड्राइवर कई प्रकार के होते हैं जैसे ट्रेन ड्राइवर, बस ड्राइवर इत्यादि। इसीलिए इस आर्टिकल में हम आपको ट्रेन ड्राइवर कैसे बनते हैं और बस ड्राइवर कैसे बनते हैं इसकी जानकारी दे रहे हैं।

ट्रेन ड्राइवर कैसे बने? – How to Become a Train Driver Information in Hindi?

अगर आपको ट्रेन ड्राइवर बनना है तो आपको यह पता होना चाहिए कि जो व्यक्ति ट्रेन चलाता है उसे ट्रेन ड्राइवर के अलावा लोको पायलट कहा जाता है और जब रेलवे में ट्रेन ड्राइवर की भर्ती निकलती है, तो उस भर्ती की नोटिफिकेशन लोको पायलट के नाम से ही जारी होती है।

ट्रेन ड्राइवर बनने के लिए शैक्षिक योग्यता – Educational Qualification to Become a Train Driver

इंडियन रेलवे में लोको पायलट यानी की ट्रेन ड्राइवर बनने के लिए उम्मीदवार के पास 2 साल का आईटीआई का डिप्लोमा और इसके साथ ही दसवीं पास कक्षा की मार्कशीट होना भी जरूरी है, तभी वो ट्रेन ड्राइवर की पोस्ट के लिए अप्लाई कर सकता है। अगर सामान्य तौर पर देखें तो इंडियन रेलवे में ट्रेन ड्राइवर बनने के लिए ऐसे लोग ही अप्लाई करते हैं जिन्होंने ग्रेजुएशन की डिग्री हासिल की होती है।

ट्रेन ड्राइवर बनने की पात्रता – Eligibility to Become a Train Driver

  • इंडियन रेलवे में ट्रेन ड्राइवर बनने के लिए जो चीज सबसे महत्वपूर्ण है वह यह है कि आपका भारतीय नागरिक होना आवश्यक है।
  • ट्रेन ड्राइवर बनने के लिए उम्मीदवार की आयु न्यूनतम 18 वर्ष और अधिकतम 30 वर्ष होनी चाहिए।
  • आरक्षण की श्रेणी में आने वाले उम्मीदवारों को आयु में छूट दी जाती है।

ट्रेन ड्राइवर बनने की प्रक्रिया – Process to Become a Train Driver

नीचे हम आपको सरल भाषा में ट्रेन ड्राइवर कैसे बना जाता है, इसकी पूरी प्रक्रिया बता रहे हैं, ताकि आप ट्रेन ड्राइवर या फिर लोको पायलट बन सके।

1. लिखित परीक्षा

ट्रेन ड्राइवर बनने के लिए सबसे पहले जब रेलवे के द्वारा ट्रेन ड्राइवर की भर्ती के लिए नोटिफिकेशन जारी हो, तब उसमें आपको अप्लाई करना होता है। इसके बाद एक निश्चित दिन आपको लिखित परीक्षा में शामिल होना पड़ता है। ट्रेन ड्राइवर की जो लिखित परीक्षा होती है, वह टोटल 120 अंकों की लिखित परीक्षा होती है और एग्जाम अथॉरिटी के द्वारा स्टूडेंट को टोटल 90 मिनट का टाइम लिखित परीक्षा को देने के लिए दिया जाता है। इस परीक्षा को पास करने के लिए आप कोचिंग इंस्टिट्यूट ज्वाइन कर सकते हैं। जो भी उम्मीदवार इस परीक्षा में सफल होते हैं उन्हें फिर अगले राउंड यानी कि इंटरव्यू में बुलाया जाता है।

2. इंटरव्यू

इंटरव्यू में उन्हीं उम्मीदवार को बुलावा भेजा जाता है जिन्होंने लिखित परीक्षा को पास किया होता है। इंटरव्यू के अंदर उम्मीदवार से विभिन्न प्रकार के ट्रिकी क्वेश्चन पूछे जाते हैं और उनकी मानसिक क्षमता का आकलन इंटरव्यू लेने वाले लोगों की टीम द्वारा किया जाता है। जो व्यक्ति इस इंटरव्यू को पास कर लेता है, उसे फिर मेडिकल टेस्ट के लिए बुलाया जाता है।

3. मेडिकल टेस्ट

इंटरव्यू राउंड को पास आउट कर लेने के बाद मेडिकल टेस्ट के अंदर उम्मीदवार की आंखों का टेस्ट आधुनिक मशीनों के द्वारा किया जाता है और इस टेस्ट में इस बात का पता लगाया जाता है कि उम्मीदवार की आंखें स्वस्थ है या नहीं और उसे दूर तथा पास की चीजें साफ साफ दिखाई देती है या नहीं, उसे कलर ब्लाइंडनेस है या नहीं। जब उम्मीदवार मेडिकल टेस्ट को भी पास कर लेता है, तो फिर उसे ट्रेन ड्राइवर की ट्रेनिंग के लिए भेजा जाता है और ट्रेनिंग कंप्लीट होते ही उसे ट्रेन ड्राइवर की पोस्ट दे दी जाती है

ट्रेन ड्राइवर का वेतन – Salary of Train driver

ट्रेन ड्राइवर की जॉब गवर्नमेंट जॉब होती है। इसीलिए इसमें सैलरी भी काफी हाई होती है। सातवें वेतन आयोग को जबसे गवर्नमेंट ने लागू किया है तब से ही अन्य नौकरी की तरह ही ट्रेन ड्राइवर की नौकरी की सैलरी में भी बढ़ोतरी हुई है। वर्तमान में एक ट्रेन ड्राइवर को तकरीबन ₹60,000 से लेकर ₹75,000 तक की Salary प्राप्त हो रही है।

बस ड्राइवर कैसे बने? – How to Become a Bus Driver Information in Hindi?

बस चलाने वाले व्यक्ति को भी ड्राइवर कहा जाता है। इसीलिए अगर आप गवर्नमेंट बस ड्राइवर बनना चाहते हैं तो आपको इस दिशा में अपने कदम को आगे बढ़ाने से पहले इस बात की जानकारी होनी चाहिए कि बस ड्राइवर कैसे बने और गवर्नमेंट बस ड्राइवर बनने के लिए क्या करना पड़ता है। नीचे आपको इसकी पूरी प्रोसेस बता रहे हैं ताकि आप यह जान जाए कि गवर्नमेंट बस ड्राइवर बनने की प्रक्रिया क्या है।

सरकारी बस ड्राइवर बनने के लिए शैक्षिक योग्यता – Educational Qualification to Become Government Bus Driver

गवर्नमेंट बस ड्राइवर बनने के लिए आपको ज्यादा हाई-फाई पढ़ाई करने की आवश्यकता नहीं होती है। अगर आप आठवीं पास है या फिर दसवीं पास है, तो आप गवर्नमेंट बस ड्राइवर बन सकते हैं।

सरकारी बस ड्राइवर बनने के लिए अन्य योग्यताएं – Other Qualifications to Become Government Bus Driver

1. यह जाहिर सी बात है कि अगर आपको गवर्नमेंट बस ड्राइवर बनना है, तो आपके पास आरटीओ विभाग की तरफ से सर्टिफाइड ड्राइविंग लाइसेंस होना चाहिए।

2. गवर्नमेंट बस ड्राइवर बनने के लिए उम्मीदवार की कम से कम लंबाई 5 फीट होनी आवश्यक है।

3. गवर्नमेंट बस ड्राइवर बनने के लिए सामान्य वर्ग के अभ्यर्थियों की उम्र कम से कम 21 साल और अधिक से अधिक 40 साल होनी चाहिए।इसके अलावा अनुसूचित जाति और अनुसूचित जनजाति को उम्र में 5 साल की छूट और अन्य पिछड़ा वर्ग को उम्र में 3 साल की छूट दी जाती है।

4. गवर्नमेंट बस ड्राइवर बनने के लिए उम्मीदवार की आंखें भी बिल्कुल स्वस्थ होनी चाहिए और उसे कलर ब्लाइंडनेस नहीं होनी चाहिए तथा उसे आंखों से संबंधित किसी भी प्रकार की समस्या नहीं होनी चाहिए, क्योंकि बस ड्राइवर को दिन में और रात में बस चलाना पड़ता है।इसीलिए रास्ते को देखने के लिए आंखों का स्वस्थ होना आवश्यक है।

सरकारी बस ड्राइवर बनने की प्रक्रिया – Process to Become a Government Bus Driver

नीचे हम आपको सरल भाषा में गवर्नमेंट बस ड्राइवर कैसे बना जाता है, इसके बारे में बता रहे हैं ताकि आप गवर्नमेंट बस ड्राइवर की पोस्ट प्राप्त कर सकें।

1. ड्राइविंग सीखे

गवर्नमेंट बस ड्राइवर बनने के लिए या फिर ड्राइवर बनने के लिए आपको ड्राइविंग आनी चाहिए। इसके लिए अगर आपको ड्राइविंग नहीं आते हैं तो आपको खुद से ही किसी अनुभवी घर के व्यक्ति की देखरेख में ड्राइविंग सीखने की कोशिश करनी चाहिए। इसके अलावा आप चाहें तो ड्राइविंग स्कूल भी ज्वाइन कर सकते हैं, जहां पर आप को 3 से 6 महीने के अंदर ही ड्राइविंग सिखा दी जाती है।

2. नौकरी के लिए अप्लाई करें

अलग अलग राज्य समय-समय पर स्टेट रोड ट्रांसपोर्ट कॉरपोरेशन में बस ड्राइवर की भर्ती निकालते रहते हैं। ऐसे में जब आप ड्राइविंग सीख लें और ड्राइविंग सीखने का सर्टिफिकेट प्राप्त कर ले तो उसके बाद आपको भर्ती निकलने पर भर्ती में अपना आवेदन फॉर्म भरना होता है।

3. टेस्ट पास करें

जब आप बस ड्राइवर बनने के लिए अप्लाई करते हैं तो उसके बाद एक निश्चित दिन पर आपका ड्राइविंग टेस्ट एक निश्चित जगह पर लिया जाता है। इस ड्राइविंग टेस्ट के टोटल 95 मार्क होते हैं। जो उम्मीदवार इस ड्राइविंग टेस्ट को पास कर लेता है उसका सिलेक्शन गवर्नमेंट बस ड्राइवर के पद पर हो जाता है, जिसके बाद उसे गवर्नमेंट बस ड्राइवर की पोस्ट दी जाती है और उसके बाद वह बस चलाने का काम कर सकता है और इस प्रकार वह ड्राइवर बन जाता है।

ड्राइवर की जिम्मेदारी – Responsibility of Driver

एक ड्राइवर को कई जिम्मेदारियों को भी निभाना पड़ता है। जैसे उसे सही सलामत गाड़ी को चला कर उसे अपनी मंजिल तक पहुंचाना पड़ता है। इसके अलावा उसे यात्रियों का ख्याल भी रखना पड़ता है। अगर गाड़ी में कोई समस्या आ गई है, तो उसे ठीक करवाने की जिम्मेदारी भी उठानी पड़ती है। इसके अलावा गवर्नमेंट बस ड्राइवर को अगर किसी यात्री को कोई समस्या है तो उसकी समस्या का निवारण अपने स्तर पर करने की भी जिम्मेदारी उठानी पड़ती है। गवर्नमेंट बस ड्राइवर को बिना नशा किए हुए गाड़ी चलाने की जिम्मेदारी सरकार की तरफ से दी जाती है।

सरकारी बस ड्राइवर का वेतन – Salary of Government Bus Driver

अलग-अलग राज्यों में गवर्नमेंट बस ड्राइवर की सैलरी भी भिन्न-भिन्न होती है। अगर हम उत्तर प्रदेश में गवर्नमेंट बस ड्राइवर की सैलरी के बारे में बात करें तो इनकी महीने की सैलरी ₹15,000 से लेकर ₹20,000 के आसपास होती है।

निष्कर्ष

आशा करते हैं कि आपको Driver Details In Hindi की पूरी जानकारी प्राप्त हो चुकी होगी। अगर फिर भी आपके मन में Driver Kaise Bane (How To Become Driver In Hindi) और ड्राइवर कैसे बने? को लेकर कोई सवाल हो तो, आप बेझिझक Comment Section में Comment कर पूछ सकते हैं।

अगर यह जानकारी पसंद आया हो तो, जरूर इसे Share कर दीजिए ताकि Driver Kise Kahte Hai बारे में सबको जानकारी प्राप्त हो।

About Ainain

Driverमैं इस ब्लॉग का संस्थापक और एक पेशेवर ब्लॉगर हूं। यहाँ पर मैं नियमित रूप से अपने पाठकों के लिए उपयोगी और मददगार जानकारी साझा करता हूं। ❤️

Leave a Comment

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.