पढ़ाई में मन कैसे लगाएं? – How to Focus/Concentrate on Studies in Hindi

आज हम जानेंगे पढ़ाई में मन कैसे लगाएं पूरी जानकारी (How to Focus/Concentrate on Studies in Hindi) के बारे में क्योंकि किसी भी इंसान को अपनी पढ़ाई अवश्य पूरी करनी चाहिए क्योंकि आप ऐसे लोगों का हाल अपने आंखों से देखते ही हैं जिन्होंने पढ़ाई नहीं की होती है और वर्तमान में वह कितनी बदतर जिंदगी जी रहे हैं। हालांकि एक बात यह भी है कि पढ़ाई ना करना असफलता का पैमाना नहीं होता है।

कई लोग ऐसे भी हैं जो पढ़ाई नहीं किए हुए है परंतु फिर भी वह अपनी जिंदगी में कामयाब है परंतु व्यक्ति को कम से कम अपना कर्तव्य तो पूरा करना ही चाहिए। अच्छी एजुकेशन पूरी करने के बाद समाज में आप की गिनती वेल एजुकेटेड लोगों में होती है जो अपने आप में ही एक सम्मानजनक बात होती है। आज के इस लेख में जानेंगे कि padhai me man kaise lagaye, पढ़ाई में मन कैसे लगाएं, How to Focus/Concentrate on Studies in Hindi, आदि की सारी जानकारीयां विस्तार में जानने को मिलेंगी, इसलिये पोस्ट को लास्ट तक जरूर पढे़ं।

पढ़ाई में मन कैसे लगाएं? – How to be more Focused on Studies

पढ़ाई में मन कैसे लगाएं
padhai me man kaise lagaye

पढ़ाई की इंपोर्टेंस हमारी जिंदगी में इसलिए है क्योंकि अगर आपने अच्छी पढ़ाई लिखाई की होती है तो आप के सामने कैरियर बनाने के लिए बहुत सारे ऑप्शन ओपन हो करके आ चुके होते हैं जिसमें आप अपनी पसंद के हिसाब से इंटर हो सकते हैं। अगर आपने दसवीं कक्षा भी पास की है तो आपकी गिनती एजुकेटेड लोगों में ही होती है।

जब एग्जाम की बात आती है तब अधिकतर विद्यार्थी अपना पढ़ा हुआ भूल जाते हैं। इसके पीछे कारण यह होता है कि उनका पढ़ाई में मन नहीं लगता है या फिर वह पढ़ाई में अपना ध्यान नहीं लगा पाते हैं। यही वजह है कि कुछ याद ना रह पाने के कारण वह परीक्षा में अच्छे अंक नही हासिल कर पाते हैं।

पढ़ाई करने का सही तरीका क्या है? – What is the best way to Study?

जिस प्रकार हर चीज को करने का तरीका होता है उसी प्रकार पढ़ाई करने का भी तरीका होता है परंतु कई लोग पढ़ाई करने के तरीके को छोड़ कर करके पढ़ाई करने के मंत्र, पढ़ाई करने के टोटके या फिर पढ़ाई करने के नुस्खे ढूंढने लगते हैं जो कि पढ़ने में तो काफी अच्छे लगते हैं परंतु वास्तव में वह काम नहीं करते हैं।

इसलिए आपको पढ़ाई करने का सही तरीका जान लेना चाहिए जो वास्तव में आप के काम आए। नीचे हम आपके साथ उन सभी तरीकों को शेयर कर रहे हैं जो पढ़ाई में आपका मन भी लगवाएंगे और जिसकी वजह से आप परीक्षा में अच्छे अंक हासिल कर सकेंगे।

1. अपना लक्ष्य तय करें

क्या आप जानते हैं कि अगर किसी लक्ष्य को प्राप्त करने के लिए आप प्रयास करते हैं तो आप और भी शिद्दत से अपना हंड्रेड परसेंट उस लक्ष्य को प्राप्त करने में देते हैं। इसीलिए सबसे पहले आपको यह तय करना है कि वास्तव में आप पढ़ाई करना क्यों चाहते हैं। अगर आप अपनी जिंदगी में कुछ बनना चाहते हैं या फिर कुछ करना चाहते हैं तो उसे पूरा करने के लिए पढ़ाई आवश्यक है, यह बात अगर आप अपने मन में बिठा लेते हैं तो आपका आधा मन तो वैसे ही पढ़ाई में लगने लग जाएगा।

ये भी पढ़ें : आईएएस की तैयारी कैसे करें? जानिए आईएएस से जुड़ी सभी जानकारी हिंदी में

ऐसे लोग जिनका कोई भी लक्ष्य नहीं होता है वह दिन भर बस सपने ही देखते रहते हैं और उसे पाने का प्रयास नहीं करते हैं परंतु जो लोग लक्ष्य बना करके उसे पाने का प्रयास करते हैं, वह अवश्य ही 1 दिन अपने लक्ष्य को पूरा कर लेते हैं। इस प्रकार पढ़ाई में अपना ध्यान लगाने के लिए कोई ना कोई लक्ष्य अवश्य बनाएं। यह आपको एजुकेशन हासिल करने के लिए प्रेरित करेगा।

2. अपने मन को इकट्ठा करें

जब कभी भी आप पढ़ाई करने के लिए बैठे तब आपको अपने मन को यहां वहां भटकाने की जगह पर एक जगह इकट्ठा करना है। इससे फायदा यह होगा कि आप जो भी पढेंगे, वह सीधा आपके दिमाग में जा कर के स्टोर हो जाएगा अर्थात कहने का मतलब है आप जो भी पढेंगे या फिर याद करेंगे वह आपके दिमाग में ठीक प्रकार से बैठ जाएगा।

पढ़ाई करने के दरमियान आप जितनी भी देर पढ़ाई करें, उतनी देर बिलकुल मन से पढ़ाई करें, क्योंकि जब आप मन से पढ़ाई करते हैं तो वह आपको लंबे समय तक याद रहता है। इसलिए यहां वहां की बातें सोचने की जगह पर पढ़ाई करने के दरमियान सिर्फ पढ़ाई पर पूरा ध्यान लगाएं।

3. ध्यान और योग की प्रैक्टिस करें

योग स्वास्थ्य के लिए बेनिफिशियल होता है। यह हर कोई जानता है परंतु बता दें कि अगर आप सुबह समय निकाल कर के 5 से 7 बजे के दरमियान सिर्फ 20 मिनट से लेकर के 25 मिनट तक भी योग करते हैं या फिर मेडिटेशन करते हैं तो यह आपके दिमाग को शांति देता है और पढ़ाई के लिए तो यह बहुत ही बढ़िया माना जाता है।

ये भी पढ़ें : IBPS क्या है? IBPS Exam की तैयारी कैसे करें?

दरअसल सुबह योग करने से आपको अच्छे एनर्जी मिलती है और आपकी थकान दूर होती है तथा दिमाग फ्रेश होने के कारण आपका पढ़ाई में भी मन लगता है। यही वजह है कि अधिकतर विद्यार्थी सुबह उठकर के पढ़ाई करते हैं।

4. कुछ अन्य एक्टिविटी भी करें

एक ही काम लगातार करने पर हमें उसमें बोरियत महसूस होने लगती है फिर वह काम चाहे पढ़ाई ही क्यों ना हो। अगर आप लगातार पढ़ाई करते हैं तो इससे आपको बोरियत महसूस होती है जिसके कारण आपको ना तो पढ़ाई में इंटरेस्ट रह जाता है ना हीं आपने जो पढ़ा होता है, वह आपको समझ में आता है या फिर याद रहता है।

इसलिए अगर आपका फ्रेंड सर्कल अच्छा खासा है, तो आपको पढ़ाई करने के बाद जो एक्स्ट्रा टाइम बचता है, उस टाइम में अपने दोस्तों के साथ भी मिलना जुलना चाहिए अथवा आप चाहे तो क्रिकेट या फिर बैडमिंटन जैसे खेल भी खेल सकते हैं। यह सभी क्रियाकलाप करने से आपको आराम मिलता है और अगली बार आप जब पढ़ाई करने के लिए बैठते हैं तो आपका मन पढ़ाई में लगता है।

5. मोटिवेशनल किताब पढ़े

बॉडी के साथ ही साथ अगर आप अपने मन को अथवा दिमाग को भी बूस्ट करना चाहते हैं, तो इसके लिए आपको मोटिवेशनल किताबें पढ़नी चाहिए। मोटिवेशनल किताबें पढ़ने का फायदा यह होता है कि आपका मानसिक स्तर काफी अच्छा होता है।

इससे आपका मन पढ़ाई में लगता है। जब कोई व्यक्ति मोटिवेशन किताबें पढ़ता है, तो इससे दिमाग और उसके मन में एक अच्छी एनर्जी का संचार होता है, जिससे उसे अपने गोल को पाने की इच्छा खुद-ब-खुद होने लगती है।

6. टाइम टेबल के पाबंद ना रहे

कई लोग टाइम टेबल बना लेते हैं और उसके अनुसार पढ़ाई करते हैं। यह कुछ लोगों के लिए तो अच्छा होता है परंतु कई बार जब आपको थकान महसूस होती है या फिर आप थके हुए होते हैं, तब आपको मजबूरी में पढ़ाई करनी होती है क्योंकि टाइम टेबल में पढ़ाई करना लिखा ही होता है। ऐसे में आप मजबूरी में टाइम टेबल के हिसाब से पढ़ाई करने बैठ जाते है, परंतु आप का मन पढ़ाई करने में नहीं लगता है।

ये भी पढ़ें : बैंक मैनेजर क्या होता है? बैंक मैनेजर कैसे बने पूरी जानकारी?

इससे आपको नुकसान यह होता है कि आप जो पढ़ते हैं वह आपको याद भी नहीं होता है और आपकी थकान भी दूर नहीं होती है। यही वजह है कि स्मार्ट बनकर के टाइम टेबल के पाबंद ना रहे। अगर आपको थकान है तो उस दिन आपको छुट्टी भी ले लेनी चाहिए। आप पढ़ाई तभी करें जब आप मानसिक और शारीरिक तौर पर तैयार हो।

7. थोड़ी दोस्तों से दूरी बनाकर भी रखें

जिंदगी में हम सभी दोस्त बनाते हैं जो हमारे सुख दुख में काम आते हैं परंतु कभी-कभी अपनी मंजिल को प्राप्त करने के लिए हमें उन्हें भी थोड़ा साइड में रखना होता है और यह तभी होता है जब आपके कुछ दोस्त ऐसे हो जो दिन भर यहां वहा की बातों में बिजी रहते हो या फिर सिर्फ चापलूसी या फिर टाइम पास करते हो।

ऐसे दोस्त ना तो अपनी मंजिल खुद प्राप्त करते हैं ना ही आपको अपनी मंजिल प्राप्त करने देते हैं। इसलिए आप उन्हें ही अपनी जिंदगी में इंपॉर्टेंस दें, जो खुद भी आगे बढ़ने का प्रयास करते हो और जो आपको भी अपनी मंजिल को हासिल करने के लिए मोटिवेशन देते हो।

पढ़ाई के लिए टाइम टेबल कैसे बनाएं? – How to make Good Time Table for Studying

किसी भी विद्यार्थी को अगर एग्जाम में अच्छे अंक हासिल करने हैं या फिर उसे अच्छे परसेंटेज हासिल करने हैं, तो इसके लिए उसे एक टाइम टेबल का निर्माण अवश्य कर लेना चाहिए और इसे सख्त हो करके फॉलो करना चाहिए। अगर कोई विद्यार्थी टाइम टेबल को फॉलो कर लेता है तो निश्चित है कि वह एक सम्मानजनक परसेंट या फिर अंक एग्जाम में ला सकता है। नीचे हमने उन महत्वपूर्ण बिंदुओं के बारे में आपको बताया है, जो टाइम टेबल तैयार करते समय आप को ध्यान में रखना है।

  • टाइम टेबल तैयार करने के लिए यह ध्यान रखें कि आपके पास दिन भर में कितना टाइम है और कितना फ्री टाइम है। इससे आप बेहतर ढंग से अपने टाइम टेबल को तैयार कर सकेंगे।
  • हो सके तो टाइम टेबल में उन सब्जेक्ट को ज्यादा महत्व दे जो आपके लिए हार्ड है या फिर जिस सब्जेक्ट को पढ़ने में आप कमजोर है। इससे उन सब्जेक्ट पर आप की पकड़ मजबूत बनेगी।
  • टाइम टेबल में संडे के दिन को आपको एंटरटेनमेंट के नाम पर छोड़ देना चाहिए, क्योंकि लगातार पढ़ाई करना भी आपको मानसिक प्रेशर दे सकता है।
  • दिन भर में आपको जो भी काम हो, उन सभी बातों को भी ध्यान में रखकर ही टाइम टेबल तैयार करें।
  • जब टाइम टेबल तैयार करें तो यह भी ध्यान रखें कि आप लगातार कितनी देर तक या फिर कितने घंटे तक पढ़ाई कर सकते हैं, जहां तक आपको कंफर्टेबल लगे, आपको उतनी देर तक ही पढ़ाई करनी चाहिए और जहां आपको बोरियत महसूस होने लगे, वहां आपको पढ़ाई करने से उठ जाना चाहिए।
  • टाइम टेबल में इस बात को भी डालें कि आप दिन की शुरुआत होने पर कितने बजे से पढ़ाई करना चाहते हैं, जैसे कि सुबह 4:00 बजे, 5:00 बजे, 8:00 बजे।
  • टाइम टेबल बनाते समय यह भी ध्यान रखें कि आपके स्कूल की टाइमिंग क्या है अथवा आपके ट्यूशन की टाइमिंग क्या है। यह बेहतर ढंग से टाइम मैनेजमेंट करने में आपके लिए सहायक साबित होगी।

पढ़ाई करने का सही समय क्या होता है?

सुबह

जिंदगी में पढ़ाई की अहमियत क्या है?

समाज में मान सम्मान प्राप्त करना और अच्छा कैरियर

क्या सफलता के लिए पढ़ाई करना आवश्यक है?

हां भी और नहीं भी

पढ़ाई करने से क्या फायदा होता है?

मान सम्मान मिलता है, अच्छा कैरियर बनता है।

निष्कर्ष

आशा है आपको padhai me man kaise lagaye के बारे में पूरी जानकारी मिल गई होगी। अगर अभी भी आपके मन में padhai me man kaise lagaye (How to Concentrate on Studies in Hindi) और पढ़ाई में मन कैसे लगाएं को लेकर आपका कोई सवाल है, तो आप बेझिझक कमेंट सेक्शन में कमेंट करके पूछ सकते हैं। अगर आपको यह जानकारी अच्छी लगी हो, तो इसे शेयर जरूर करें ताकि सभी को padhai me man kaise lagaye के बारे में जानकारी मिल सके।

5/5 - (2 votes)

Leave a Comment