होम्योपैथी डॉक्टर क्या होता है? होम्योपैथी डॉक्टर कैसे बने? होम्योपैथिक डॉक्टर बनने के लिए कोर्स, योग्यता और कौशल आदि की पूरी जानकारी

आज हम जानेंगे होम्योपैथी डॉक्टर क्या है और कैसे बने की पूरी जानकारी (How to become Homeopathy Doctor in Hindi) के बारे में क्योंकि मेडिकल की फील्ड बहुत ही बड़ी है। इसमें जो जिस सब्जेक्ट की पढ़ाई करता है, आगे चलकर के वह उसी में अपना करियर बनाता है और उसी चीज से संबंधित काम भी वह कर सकता है। उदाहरण के स्वरूप अगर किसी आदमी ने अंग्रेजी दवा की पढ़ाई की है तो वह आगे चलकर के अंग्रेजी दवा को ही लोगों को दे सकता है।

इसी तरह जिन लोगों ने होम्योपैथी कोर्स किया है वह लोग होम्योपैथी डॉक्टर बन करके होम्योपैथिक की दवाई लोगों को दे सकते हैं अथवा होम्योपैथी के तरीके से लोगों का ट्रीटमेंट कर सकते हैं। आज के इस लेख में जानेंगे कि Homeopathic Doctor Kya Hota Hai, होम्योपैथी डॉक्टर बनने के लिए कोर्स, homeopathy doctor kaise bane, आदि की सारी जानकारीयां विस्तार में जानने को मिलेंगी, इसलिये पोस्ट को लास्ट तक जरूर पढे़ं।

होम्योपैथी डॉक्टर क्या होता है? – What is Homeopathy Doctor in Hindi

Contents show
होम्योपैथी डॉक्टर कैसे बने
होम्योपैथी डॉक्टर कैसे बने

BHMS के Course की डिग्री जिस व्यक्ति के पास होती है उसे होम्योपैथी डॉक्टर के तहत जाना जाता है। होम्योपैथी डॉक्टर मुख्य रूप से होम्योपैथिक दवाइयों की पढ़ाई करते हैं और उनके ऊपर रिसर्च करते हैं और यह पेशेंट को ठीक करने के लिए होम्योपैथिक दवा का इस्तेमाल करते हैं। अधिकतर विद्यार्थी होम्योपैथिक डॉक्टर बनने के लिए बीएचएमएस का कोर्स करते हैं। इसका पूरा नाम बैचलर ऑफ होम्योपैथिक मेडिसिन एंड सर्जरी होता है।

जिस प्रकार आयुर्वेदिक डॉक्टर आयुर्वेदिक दवाइयों का इस्तेमाल पेशेंट को ठीक करने के लिए करता है, उसी प्रकार एक होम्योपैथिक डॉक्टर अपने पास विभिन्न प्रकार की होम्योपैथिक दवाई रखता है और उसके जरिए ही वह लोगों की समस्या को समझने के बाद उनका ट्रीटमेंट करता है। इंडिया में होम्योपैथिक डॉक्टरो की काफी कमी है। इसीलिए अगर कोई व्यक्ति बीएचएमएस का कोर्स करके होम्योपैथिक डॉक्टर बन जाता है, तो उसे इस फील्ड में अभूतपूर्व कामयाबी मिल सकती है।

होम्योपैथिक चिकित्सक बनने की योग्यता – Qualification for Becoming Homeopathic Doctor in Hindi

  • 12वीं पास (कम से कम 55% अंकों के साथ)
  • 12वीं की क्लास में फिजिक्स, केमिस्ट्री और बायोलॉजी सब्जेक्ट
  • अंग्रेजी भाषा पर अच्छी पकड़
  • 18 साल से अधिक उम्र

होम्योपैथी डॉक्टर कैसे बने? – How to become Homeopathy Doctor in Hindi

वैसे तो हमारे देश को आजाद हुए 70 साल हो चुके हैं परंतु आज भी हमारे भारत देश में ऐसे कई इलाके हैं जहां पर अच्छी मेडिकल ट्रीटमेंट नहीं पहुंच पाई है। इसलिए अगर कोई व्यक्ति मेडिकल की फील्ड में अपना करियर बनाता है, तो वह उन दूरदराज के इलाकों में अपना काम चालू कर सकता है या फिर चाहे तो वह शहरों में भी अपना काम चालू कर सकता है।

होम्योपैथिक डॉक्टर बनने के लिए क्या करें? – What to do to become a Homeopathic Doctor in Hindi

होम्योपैथी डॉक्टर की डिमांड भी आजकल काफी ज्यादा बढ़ रही है, क्योंकि लोग अब अपनी समस्या को जड़ से खत्म करने के लिए होम्योपैथी दवा ले रहे हैं। ऐसे में होम्योपैथिक डॉक्टर बनना फायदे का सौदा साबित हो सकता है। नीचे आपको बताया जा रहा है कि होम्योपैथी डॉक्टर कैसे बना जाता है।

1. फिजिक्स, केमेस्ट्री, बायोलॉजी के साथ 12वीं क्लास पास करें।

11वी कक्षा को पास करने के बाद जब आप 12वीं क्लास में एडमिशन लेंगे तब आपको 12वीं क्लास में फिजिक्स, केमिस्ट्री और बायो लॉजी के सब्जेक्ट को लेना चाहिए क्योंकि होम्योपैथी कोर्स करने के लिए यही बैकग्राउंड मांगा जाता है। अगर आप इन सब्जेक्ट के साथ 12वीं क्लास पास करते हैं तो आपको होम्योपैथी के कोर्स में एडमिशन लेने में आसानी होगी।

ये भी पढ़ें : BHMS क्या है और BHMS Course कैसे करे? 

12वीं क्लास को पास करने के बाद जब आप किसी कॉलेज में एडमिशन लेने के लिए जाएंगे तब आपको एंट्रेंस एग्जाम देना पड़ सकता है। इसलिए आपको एंट्रेंस एग्जाम में शामिल होने के लिए 12वीं क्लास को कम से कम 55 पर्सेंट के साथ पास करना पड़ेगा।

2. एंट्रेंस एग्जाम पास करें

12वीं क्लास को पास करने के बाद होम्योपैथी से संबंधित कोर्स में एडमिशन के लिए यूनिवर्सिटी के द्वारा एंट्रेंस एग्जाम का आयोजन करवाया जाता है, जिसके लिए नोटिफिकेशन जारी की जाती है। आपको नोटिफिकेशन जारी होने के बाद एंट्रेंस एग्जाम में अप्लाई करना पड़ता है। NEET एक ऐसी एंट्रेंस एग्जाम है जो आपको होम्योपैथी के कोर्स में एडमिशन लेने के लिए देनी पड़ती है। कुछ राज्यों में कॉलेज खुद की भी एंट्रेंस एग्जाम को करवाते हैं।

3. कॉलेज का सिलेक्शन करें

जब अभ्यार्थी एंट्रेंस एग्जाम को पास कर लेते हैं तो उसके बाद बीएचएमएस के कोर्स में एडमिशन पाने के लिए उन्हें कॉलेज का सिलेक्शन करना होता है। अभ्यर्थी चाहे तो अपने जिले में स्थित किसी अच्छे कॉलेज का सिलेक्शन कर सकता है या फिर अपने राज्य में अथवा किसी दूसरे राज्य में स्थित कॉलेज का सिलेक्शन कर सकता है।

4. बीएचएमएस कोर्स कंप्लीट करें

यह टोटल साढे 5 साल का कोर्स होता है और इस कोर्स में एडमिशन जैसे ही अभ्यर्थी कॉलेज का सिलेक्शन करता है वैसे ही उसे मिल जाता है। साढे 5 साल में तकरीबन साढे 4 साल तक अभ्यर्थी को बीएचएमएस कोर्स की पढ़ाई करवाई जाती है और 1 साल उसे इंटर्नशिप करवाई जाती है। इस प्रकार से बीएचएमएस का कोर्स साढे 5 साल में पूरा हो जाता है।

5. होमियोपैथी बोर्ड में रजिस्टर कराएँ

जब अभ्यर्थी बीएचएमएस का कोर्स पूरा कर लेता है तो होमियोपैथीक डॉक्टर बनने का उसका सपना पूरा हो जाता है।इसके बाद वह अपना प्राइवेट क्लीनिक चला सकता है परंतु उसे होम्योपैथिक डॉक्टर बन करके ज्यादा नाम और पैसा कमाना है तो अपने आप को उसे स्टेट होम्योपैथी बोर्ड में रजिस्टर्ड कर लेना चाहिए।

होम्योपैथी डॉक्टर बनने के लिए कौशल – Required skills to become Homeopathy Doctor in Hindi

  • इंग्लिश लैंग्वेज पढ़ना, लिखना आना चाहिए।
  • धैर्य होना चाहिए।
  • किसी भी चीज को समझने की क्षमता होनी चाहिए।
  • क्रिएटिविटी दिमाग में होनी चाहिए।
  • नई नई चीजों को सीखने में इंटरेस्ट होना चाहिए।
  • पढ़ाई के प्रति पूर्ण समर्पण होना चाहिए।
  • बोली भाषा मीठी होनी चाहिए।
  • लोगों से बातचीत करने की कला अच्छी होनी चाहिए।

होम्योपैथिक कोर्स करने के बाद नौकरी कहाँ मिलेगी?

  • क्लिनिक
  • चैरिटेबल इंस्टीटूशन
  • कंसल्टंसी
  • होम्योपैथीक मेडिसिन स्टोर
  • हॉस्पिटल
  • मेडिकल कॉलेज
  • रिसर्च इंस्टीटूट्
  • स्टेट डिस्पेंसरी

होम्योपैथिक कोर्स करने के बाद कौन से पद पर नौकरी मिलेगी?

  • डॉक्टर
  • कंसलटेंट
  • फार्मासिस्ट
  • प्राइवेट प्रैक्टिस
  • पब्लिक हेल्थ स्पेशलिस्ट
  • रिसर्चर
  • टीचर

होम्योपैथी डॉक्टर बनने के लिए कोर्स – Homeopathy Doctor Course in Hindi

  • होम्योपैथिक फार्मेसी
  • पेडियाट्रिक्स
  • साइकाइट्री
  • स्किन स्पेशलिस्ट
  • इनफर्टिलिटी एंड सेक्स स्पेशलिस्ट

होम्योपैथिक डॉक्टर का करियर स्कोप – Career Scope of a Homeopathic Doctor

होम्योपैथिक डॉक्टर बन जाने के बाद आप तुरंत ही अपना खुद का प्राइवेट क्लीनिक स्टार्ट कर सकते हैं और वहां पर मरीजों की ट्रीटमेंट होम्योपैथिक पद्धति के द्वारा कर सकते हैं। आप अपने बचे हुए टाइम में यूट्यूब पर अपना चैनल बना सकते हैं और उसके ऊपर भी होम्योपैथिक दवा के बारे में लोगों को वीडियो अपलोड करके जानकारी देने का काम कर सकते हैं और यूट्यूब मोनेटाइजेशन से पैसे कमा सकते हैं।

ये भी पढ़ें : Bachelor Of Physical Education क्या है और BPEd Course कैसे करे?

इसके अलावा आप गवर्नमेंट और प्राइवेट हॉस्पिटल में भी नौकरी के लिए अप्लाई कर सकते हैं और विदेश जाकर के भी आप अच्छे पैसे कमा सकते हैं। रिटायरमेंट के बाद भी आप चाहे तो अपने घर से ही होम्योपैथिक ट्रीटमेंट का काम चालू कर सकते हैं। इस प्रकार आप अपनी उम्र के आखिरी पड़ाव तक इसके जरिए फायदे प्राप्त कर सकते हैं।

होम्योपैथिक डॉक्टर का वेतन – Salary of a Homeopathic Doctor

बीएचएमएस का कोर्स करने के बाद अगर एक होम्योपैथिक डॉक्टर की नौकरी किसी गवर्नमेंट हॉस्पिटल में लग जाती है या फिर उसे किसी भी प्रकार से गवर्नमेंट नौकरी मिल जाती है, तो स्टार्टिंग में उसकी तनख्वाह आज के टाइम में ₹36000 से लेकर के ₹40000 महीने की होती है और काम करते करते जब 2-3 साल बीत जाते हैं, तो उसका प्रमोशन हो जाता है और उसकी सैलरी भी बढ़ जाती है।

ये भी पढ़ें : Bachelor of Science क्या है? BSc Course कैसे करे?

अगर बीएचएमएस का कोर्स करने के बाद किसी अभ्यर्थी को प्राइवेट हॉस्पिटल में नौकरी मिलती है, तो उसकी स्टार्टिंग तनख्वाह ₹25000 से लेकर के ₹29000 महीने तक हो सकती है। इसके अलावा काम का समय बढ़ने पर और एक्सपीरियंस हासिल हो जाने पर उसकी सैलरी बढ़ती है। कुछ हॉस्पिटल में यह सैलरी कम या फिर ज्यादा भी हो सकती है।

होम्योपैथिक डॉक्टर बनने के बारे में अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न

होम्योपैथिक डॉक्टर बनने के लिए कौन सा कोर्स करना पड़ता है?

बैचलर ऑफ होम्योपैथिक मेडिसिन एंड सर्जरी

बीएचएमएस का कोर्स कितने साल का होता है?

यह साढे 5 साल का कोर्स होता है जिसमें साढे 4 साल पढ़ाई होती है और 1 साल Internship अभ्यर्थियों को करनी होती है।

होम्योपैथिक डॉक्टर कौन होते हैं?

जो ट्रीटमेंट करने के लिए होम्योपैथिक दवा देते हैं वही होम्योपैथिक डॉक्टर कहलाते हैं। यह होम्योपैथी इलाज पद्धति से बीमारियों का निदान करते हैं।

होम्योपैथिक डॉक्टर बनने के लिए क्या करना पड़ता है?

12वीं क्लास को फिजिक्स, केमिस्ट्री, बायोलॉजी के सब्जेक्ट के साथ पास करने के बाद होम्योपैथिक का कोर्स करना पड़ता है।

बीएचएमएस में एडमिशन पाने के लिए कौनसी एंट्रेंस एग्जाम देनी पड़ती है?

निष्कर्ष

आशा है आपको homeopathic doctor kaise bante hain के बारे में पूरी जानकारी मिल गई होगी। अगर अभी भी आपके मन में homeopathy doctor kaise bane (How to become Homeopathy Doctor in Hindi) और होम्योपैथी डॉक्टर कैसे बने? को लेकर आपका कोई सवाल है तो आप बेझिझक कमेंट सेक्शन में कमेंट करके पूछ सकते हैं। अगर आपको यह जानकारी अच्छी लगी हो तो इसे शेयर जरूर करें ताकि सभी को homeopathic doctor kya hota hai में जानकारी मिल सके।

4.7/5 - (3 votes)

मैं supportingainain ब्लॉग का संस्थापक और एक पेशेवर ब्लॉगर हूं। यहाँ पर मैं नियमित रूप से अपने पाठकों के लिए उपयोगी और मददगार जानकारी साझा करता हूं। ❤️ Contact us via Email - [email protected]

Leave a Comment