क्रेडिट और डेबिट कार्ड में क्या अंतर है – Difference between Credit and Debit Card in Hindi

आज हम जानेंगे क्रेडिट और डेबिट कार्ड में अंतर (Difference between Credit and Debit Card in Hindi), के बारे में पूरी जानकारी। जब आप किसी बैंक में अपना अकाउंट ओपन कराते हैं, तब निश्चित तौर पर आप डेबिट कार्ड प्राप्त करने के लिए भी अकाउंट ओपनिंग फॉर्म के अंदर डेबिट कार्ड के लिए अपनी हामी भरते है। अकाउंट ओपन करने के कुछ दिन बाद आपको डेबिट कार्ड प्राप्त हो जाता है, जिसका इस्तेमाल आप किसी भी एटीएम से पैसे निकालने के लिए कर सकते हैं। इसके अलावा अगर आप का क्रेडिट स्कोर अच्छा है, तो आप क्रेडिट कार्ड के लिए भी अप्लाई कर सकते हैं।

हम में से अधिकतर लोगों को क्रेडिट और डेबिट कार्ड का नाम अक्सर सुनने को मिलता है, परंतु इन दोनों के बीच अंतर क्या है, इसके बारे में काफी कम लोग ही जानते हैं। वैसे तो क्रेडिट और डेबिट कार्ड के अपने-अपने फायदे हैं, इसलिए इस आर्टिकल के द्वारा हमने क्रेडिट और डेबिट कार्ड में अंतर क्या है, इस बात को क्लियर करने का प्रयास किया है। क्रेडिट और डेबिट कार्ड की सारी जानकारी के बारे में विस्तार से जानने के लिए, इस लेख को अंत तक पढ़े।

क्रेडिट कार्ड क्या है? – What is Credit Card in Hindi?

Difference between Credit and Debit Card in Hindi
क्रेडिट और डेबिट कार्ड में अंतर

क्रेडिट कार्ड एक प्रकार का प्लास्टिक का कार्ड होता है जिसके ऊपर क्रेडिट कार्ड होल्डर का नाम छपा हुआ होता है। साथ ही क्रेडिट कार्ड की एक्सपायरी डेट और एक्सपायरी महीना भी छपा हुआ होता है। इसके अलावा क्रेडिट कार्ड के ऊपर क्रेडिट कार्ड का नंबर भी होता है, जो सामान्य तौर पर 12 या फिर 16 अंकों का होता है। क्रेडिट कार्ड आपको तब प्राप्त होता है, जब आप इसके लिए अप्लाई करते हैं।

यह एक प्रकार से किसी भी बैंक के द्वारा आपको दी गई सर्विस या फिर लोन होता है। इस कार्ड को प्राप्त करने के बाद आप निश्चित टाइम में शॉपिंग कर सकते हैं और उसकी पेमेंट करने के लिए क्रेडिट कार्ड का इस्तेमाल कर सकते हैं। हर व्यक्ति के क्रेडिट कार्ड मे पैसे की एक लिमिट होती है। उसी लिमिट के अंदर उसे क्रेडिट कार्ड का इस्तेमाल करना होता है और इस्तेमाल की हुई राशि को एक निश्चित टाइम पीरियड में बैंक को वापस करना होता है।

ये भी पढ़े: IBPS क्या है? IBPS Exam की तैयारी कैसे करें?

अधिकतर क्रेडिट कार्ड मे ली हुई राशि को वापस करने के लिए ईएमआई का ऑप्शन आता है, ताकि ग्राहक बिना कोई लोड लिए हुए रीपेमेंट कर सके। अगर आप क्रेडिट कार्ड की रिपेमेंट समय पर नहीं करते हैं, तो बैंक के द्वारा निर्धारित ओवरड्यू चार्ज कुल रकम पर लगाया जाने लगता है। यह तब तक लगता है, जब तक आप रिपेमेंट नहीं कर देते हैं। समय पर क्रेडिट कार्ड का बिल भरने पर आपके क्रेडिट कार्ड की लिमिट भी बढ़ाई जाती है।

इंडिया की अधिकतर प्राइवेट और गवर्नमेंट बैंक, अपने ग्राहकों को क्रेडिट कार्ड ऑफर करती है। हालांकि यह सभी ग्राहकों को नहीं दिया जाता है। क्रेडिट कार्ड को प्राप्त करने के लिए ग्राहकों को कुछ एलिजिबिलिटी के पैमाने को पूरा करना पड़ता है। जिसमें सबसे मुख्य बात यह है, कि उनका क्रेडिट स्कोर अच्छा होना चाहिए। जो कि सामान्य तौर पर 750 के ऊपर होना आवश्यक है।

इसके अलावा बैंक के साथ उनका अच्छा व्यवहार होना चाहिए, महीने में निश्चित इनकम अथवा कमाई अच्छी होनी चाहिए। इसके अलावा उनकी उम्र 18 साल के ऊपर होनी चाहिए और उनके अंदर यह क्षमता होनी चाहिए कि वह क्रेडिट कार्ड से लिए हुए पैसे को समय पर भर सके। इन सभी कंडीशन को जो व्यक्ति पूरा करता है, उसे क्रेडिट कार्ड दिया जाता है।

डेबिट कार्ड क्या है? – What is Debit Card in Hindi?

डेबिट कार्ड भी प्लास्टिक का ही एक कार्ड होता है जिसके ऊपर 12 या फिर 16 अंकों का डेबिट कार्ड नंबर छपा हुआ होता है। इसके अलावा डेबिट कार्ड के ऊपर डेबिट कार्ड होल्डर का नाम, डेबिट कार्ड की एक्सपायरी का महीना और साल छपा हुआ होता है। इसके पीछे 3 अंकों का सीवीवी नंबर भी होता है, जो कि बहुत ही महत्वपूर्ण नंबर माना जाता है।

ये भी पढ़े: एमपिन क्या होता है? MPIN कैसे बनाते हैं या कैसे प्राप्त करें?

जब आप किसी बैंक में अपना अकाउंट ओपन करवाते हैं, तभी अकाउंट ओपनिंग फॉर्म के अंदर आपको डेबिट कार्ड प्राप्त करने का ऑप्शन मिलता है। अगर आप उस ऑप्शन का सिलेक्शन करते हैं तो अकाउंट ओपन हो जाने के कुछ दिनों के बाद आपको डेबिट कार्ड आपके दिए हुए पते पर प्राप्त हो जाता है। डेबिट कार्ड की सहायता से आप इंडिया के किसी भी एटीएम से जब चाहे, तब पैसे निकाल सकते हैं। डेबिट कार्ड अगर इंडिया का है, तो यह सिर्फ इंडिया में ही काम करेगा। यह बाहर काम नहीं करेगा।

आपका डेबिट कार्ड चाहे किसी भी बैंक का क्यों ना हो, आप अपने बैंक के अलावा दूसरी बैंक के एटीएम से भी इंडिया के किसी भी राज्य से पैसे निकाल सकते हैं। हालांकि इसके लिए कुछ नॉर्मल चार्ज आपके बैंक अकाउंट से कटते हैं। डेबिट कार्ड से आप उतने ही पैसे निकाल सकते हैं, जितना पैसा आपके सेविंग अकाउंट में होता है। सेविंग अकाउंट में जितने पैसे हैं, अगर वह पैसे आप निकाल लेते हैं, तो आप डेबिट कार्ड से पैसे नहीं निकाल सकते।

इसके अलावा डेबिट कार्ड से पैसे निकालने की लिमिट भी बैंकों के द्वारा तय की जाती है। अधिकतर हमने यह देखा है कि सामान्य डेबिट कार्ड से आप 1 दिन में ₹25,000 तक निकाल सकते हैं। ₹25,000 से ज्यादा की रकम एटीएम से निकलने के लिए आपको अपने बैंक से स्पेशल डेबिट कार्ड लेना होगा, या फिर अगर आपको जरूरत है, तो आपको बैंक में चेक लगाकर अथवा पर्ची भरकर, साथ ही पैन कार्ड की डिटेल देकर निकाल सकते हैं। डेबिट कार्ड को एटीएम कार्ड भी कहा जाता है।

अगर आपके पास डेबिट कार्ड है, तो आपको अपने साथ नगद रखने की आवश्यकता नहीं है। आप किसी भी एटीएम से नगद पैसे निकाल सकते हैं। डेबिट कार्ड का इस्तेमाल आप ऑनलाइन पेमेंट करने के लिए भी कर सकते हैं। इसके अलावा आप अपने डेबिट कार्ड की डिटेल्स को डालकर पेटीएम में भी पैसे ऐड कर सकते हैं। डेबिट कार्ड की डिटेल्स को डाल कर के आप गूगल पे, फोन पे जैसी एप्लीकेशन में ऑनलाइन ट्रांजैक्शन करने के लिए अपने अकाउंट का सेटअप भी कर सकते हैं।

ये भी पढ़े: आधार कार्ड से बैंक बैलेंस कैसे चेक करें?

क्रेडिट और डेबिट कार्ड में अंतर – Difference between Credit and Debit Card in Hindi

क्रेडिट और डेबिट कार्ड में अंतर 1

क्रेडिट और डेबिट कार्ड में 8 अंतर नीचे दिए गए हैं।

  1. अगर आपके पास डेबिट कार्ड उपलब्ध है, तो आप अपने सेविंग अकाउंट से एटीएम के जरिए पैसे निकाल सकते हैं परंतु अगर आपके पास क्रेडिट कार्ड है, तो उसके जरिए आप बैंक से पैसे उधार के तौर पर ले सकते हैं।
  2. डेबिट कार्ड की सहायता से जो पैसे आप निकालते हैं, उस पर आपको कोई भी ब्याज नहीं देना पड़ता है परंतु क्रेडिट कार्ड से लिए हुए पैसे पर आपको ब्याज देना पड़ता है।
  3. आपके बैंक अकाउंट में जितने पैसे होंगे, उतने ही पैसे आप अपने डेबिट कार्ड के जरिए निकाल सकते हैं परंतु अगर आपके पास क्रेडिट कार्ड है, तो उसकी जो लिमिट होगी, उसी के हिसाब से आप पैसे प्राप्त कर सकते हैं।
  4. आप दुनिया में कहीं पर भी चले जाए, आप वहां पर क्रेडिट कार्ड इस्तेमाल कर सकते हैं परंतु डेबिट कार्ड सिर्फ आपके देश में ही काम करता है।
  5. डेबिट कार्ड पर सर्विस चार्ज कम होता है और क्रेडिट कार्ड पर सर्विस चार्ज ज्यादा होता है।
  6. डेबिट कार्ड की लिमिट नहीं बढ़ती है, जबकि क्रेडिट कार्ड से लिए हुए पैसे को अगर आप टाइम पर भरते हैं, तो उसकी लिमिट बढ़ती है।
  7. डेबिट कार्ड पाना बहुत ही आसान है परंतु क्रेडिट कार्ड पाना थोड़ी-सी जटिल प्रक्रिया है।
  8. डेबिट कार्ड पर ओवरड्यू चार्ज नहीं देना पड़ता। वही क्रेडिट कार्ड पर ओवरड्यू चार्ज टाइम पर पेमेंट ना करने पर देना पड़ता है।

निष्कर्ष

आशा है आपको क्रेडिट और डेबिट कार्ड में अंतर के बारे में पूरी जानकारी मिल गई होगी। अगर अभी भी आपके मन में क्रेडिट और डेबिट कार्ड में अंतर (Difference between Credit and Debit Card in Hindi) को लेकर आपका कोई सवाल है तो आप बेझिझक कमेंट सेक्शन में कमेंट करके पूछ सकते हैं। अगर आपको यह जानकारी अच्छी लगी हो, तो इसे शेयर जरूर करें ताकि सभी को क्रेडिट और डेबिट कार्ड के बारे में जानकारी मिल सके।

आपको हमारा यह लेख कैसा लगा?

Leave a Comment