कर्ड और योगर्ट में क्या अंतर है – Difference between Curd and Yogurt in Hindi

आज हम जानेंगे कर्ड और योगर्ट में अंतर (Difference between Curd and Yogurt in Hindi), के बारे में पूरी जानकारी। गर्मी के मौसम में भीषण गर्मी से राहत पाने और पेट को ठंडक देने के लिए विभिन्न प्रकार के शरबत का इस्तेमाल किया जाता है। जिसमें दही का शरबत भी शामिल होता है, जिसे की सामान्य भाषा में लोग लस्सी के तौर पर जानते हैं। लस्सी का स्वाद बहुत ही टेस्टी होता है। लस्सी को तैयार करने के लिए दही का इस्तेमाल किया जाता है। इसके अलावा योगर्ट के द्वारा भी लस्सी बनाई जाती है।

दही और योगर्ट यह दोनों एक समान ही दिखाई देते हैं, इसलिए कई लोग इस बात को लेकर के कंफ्यूज हो जाते हैं कि आखिर कर्ड और योगर्ट में क्या अंतर है, क्या यह दोनों एक हैं या फिर अलग-अलग है। इसलिए इस आर्टिकल में हमने कर्ड और योगर्ट के बीच अंतर को क्लियर करने प्रयास किया है, ताकि आर्टिकल को पढ़ने के बाद आप यह समझ सके कि कर्ड और योगर्ट एक नहीं है। कर्ड और योगर्ट की सारी जानकारी के बारे में विस्तार से जानने के लिए, इस लेख को अंत तक पढ़े।

कर्ड क्या है? -What is Curd in Hindi?

कर्ड और योगर्ट में अंतर
कर्ड और योगर्ट में अंतर

कर्ड को हिंदी भाषा में दही कहा जाता है। दही का टेस्ट खट्टा होता है, इसकी तासीर ठंडी होती है। दिखाई देने में यह सफेद कलर का होता है। इसे तैयार करने के लिए दही का जामन थोड़ी मात्रा में लिया जाता है और दूध की मात्रा ज्यादा ली जाती है। फिर इसे आपस में मिला करके रात भर के लिए रख दिया जाता है। ऐसा करने पर दूध में बैक्टीरियल फर्मेंटेशन की प्रक्रिया होती है, जिसके कारण अगले दिन दही बन जाता है।

दही को हमारे पेट के लिए बहुत ही फायदेमंद माना जाता है क्योंकि इसके अंदर जो तत्व पाए जाते हैं, वह पेट से संबंधित कुछ प्रॉब्लम को दूर करने का काम करते हैं। ऐसा होने पर हमारा पाचन तंत्र स्ट्रांग बनता है, साथ ही यह हमारी बॉडी को जरूरी पोषक तत्वों की भी पूर्ति करते हैं। दही खाने के सिर्फ इतने ही फायदे नहीं है। अगर आप इसका सेवन रोजाना करते हैं तो यह पोषक तत्वों के अवशोषण में भी हमारी बॉडी की काफी सहायता करता है।

इसके अलावा यह डायबिटीज के पेशेंट के लिए भी फायदेमंद माना जाता है। दही खाने से हृदय रोग से भी बचा जा सकता है। यह बालों को मजबूत बनाता है और त्वचा से संबंधित कुछ समस्याओं को भी दूर भगाने का काम करता है। यह रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाता है, डाइजेस्टिव सिस्टम को स्ट्रांग बनाता है, वजन घटाने में सहायक साबित होता है, त्वचा में नमी बना करके रखता है। दही प्रोटीन का बहुत ही अच्छा सोर्स होता है।

अगर दही के उपयोग के बारे में बात करें तो आप इसका इस्तेमाल फलों के साथ मिलाकर के खाने के लिए कर सकते हैं। इसमें चीनी डालकर के भी खा सकते हैं। पनीर की सब्जी, बिरयानी में इसे डाल सकते हैं। खाने में इसे डाल सकते हैं। इसकी मीठी लस्सी व शरबत भी बना सकते हैं। छाछ में भी इसे डाल सकते हैं। दही पापड़ी, कढ़ी और दही बड़ा बनाने में भी इसे इस्तेमाल कर सकते हैं।

दही खाने के अगर कुछ फायदे भी हैं, तो इसके कई साइड इफेक्ट भी देखे जाते हैं। बता दें कि दही में सोडियम की मौजूदगी ज्यादा होती है। इसलिए ज्यादा दही का सेवन करने पर यह हड्डियों को कमजोर बनाने का काम करता है, साथ ही खट्टा होने के कारण ऐसे लोगों को भी दही खाने से बचना चाहिए, जिनके जोड़ों में दर्द रहता है। ठंडी तासीर वाली दही का सेवन नार्मल टेंपरेचर में ही करना चाहिए और अगर ठंड का मौसम है, तो आपको रात को इसे नहीं खाना चाहिए।

ये भी पढ़े: गांव और शहर के बीच 11 अंतर?

योगर्ट क्या है? – What is Yogurt in Hindi?

इसे बनाने की प्रक्रिया दही जैसी ही होती है, परंतु इसमें थोड़ा सा बदलाव किया जाता है। इसे तैयार करने के लिए दूध के साथ दूसरे फलों को मिक्स किया जाता है, जिससे इसमें फूड का फ्लेवर आ जाता है। योगर्ट की खास बात यह है कि जब इसे तैयार किया जाता है, तब आप जिस फ्लेवर में इसे चाहे उस फ्लेवर में तैयार कर सकते हैं। योगर्ट के प्रसिद्ध फ्लेवर ब्लूबेरी, स्ट्रॉबेरी, मैंगो है।

दही की तरह इसका कलर भी सफेद होता है और टेस्ट करने पर इसका स्वाद खट्टा होता है। यह दिखाई देने में क्रीम की तरह ही लगता है। इसीलिए अक्सर कई‌ लोग यह समझ लेते हैं कि योगर्ट को ही दही कहा जाता है, जबकि ऐसा नहीं है। योगर्ट एक तुर्की शब्द है, जो दही की तरह दिखाई देता है परंतु इसके गुण दही से अलग होते हैं। योगर्ट को तैयार करने के लिए गाय, भैंस, बकरी, ऊंट, घोड़ी या फिर याक के दूध का इस्तेमाल किया जाता है।

इसके अलावा योगर्ट के अंदर फॉस्फोरस, कैल्शियम, राइबोफ्लेविन, विटामिन B2, जिंक, पोटैशियम, आयोडिन, विटामिन B-12, विटामिन डी, कार्बोहायड्रेट, डाइटरी फाइबर, आयरन, पैंटोथेनिक एसिड, विटामिन B6, मैग्नीशियम, कॉपर, थाइमिन, नियासिन जैसे महत्वपूर्ण तत्व पाए जाते हैं। इसीलिए इसे खाना सेहत के लिए फायदेमंद माना जाता है। यह बॉडी को हाइड्रेटेड रखता है और ऑस्टियोपोरोसिस की प्रॉब्लम से बॉडी को बचाता है, साथ ही श्वेत प्रदर की समस्या में भी बॉडी के लिए फायदेमंद माना जाता है।

यह वजन घटाता है, कब्ज का खात्मा करता है, बालों को मुलायम बनाता है साथ ही चेहरे पर शाइनिंग लाता है और डाइजेस्टिव सिस्टम मजबूत बनाता है। योगर्ट का उपयोग करने के लिए आप इसे सफेद या फिर काले नमक के साथ मिलाकर के नाश्ते के तौर पर खा सकते हैं। आप चाहे तो इसका फ्रूट रायता बना सकते हैं या फिर सब्जी में इसे डाल सकते हैं। आप इसकी कड़ी बना सकते हैं या फिर छाछ में भी इसे मिक्स कर सकते हैं।

इसके अलावा आप इसमें चीनी डालकर के भी इसे खा सकते हैं। इसका इस्तेमाल पुलाव में भी होता है। खट्टे स्वाद वाले योगर्ट को अगर ज्यादा खा लिया जाता है, तो यह खट्टी डकारे पैदा करने का काम करता है। इसके अलावा इसे अधिक खा लेने पर उल्टी और दस्त की प्रॉब्लम हो सकती है। साथ ही जिन लोगों को कफ है, उसे इसे ज्यादा खाने पर साइड इफेक्ट हो सकते हैं क्योंकि यह चिकनाई वाला पदार्थ होता है।

ये भी पढ़े: को-वैक्सीन और कोविशील्ड में क्या अंतर है?

कर्ड और योगर्ट में अंतर – Difference between Curd and Yogurt in Hindi

Curd And Yogurt 2

इन दोनों को ही लगभग एक ही प्रक्रिया का पालन करते हुए बनाया जाता है परंतु दही को आप आसानी से देख कर के यह जान सकते हैं कि यह दही है क्योंकि दही थक्के के तौर पर होती है। वहीं दूसरी तरफ योगर्ट एक क्रीम जैसा दिखाई देता है।

  1. दही बनाते समय दूध की मात्रा ज्यादा ली जाती है, वही योगर्ट बनाते समय फलों को ज्यादा मात्रा में मिक्स किया जाता है।
  2. दही के अंदर वे-वॉटर उपलब्ध होता है, जो योगर्ट में नहीं उपलब्ध होता है।
  3. इसके अलावा दोनों का टेस्ट भी अलग होता है। योगर्ट हल्का सा मीठा होता है और दही निखंड खट्टा होता है।
  4. लैक्टोबैसिलस नाम का बैक्टीरिया दही में होता है, वही योगर्ट में लैक्टोबैसिलस बुल्गारिस और स्ट्रेप्टोकॉकस थर्मोफिलस, इस प्रकार दो प्रकार के बैक्टीरिया पाए जाते हैं।
  5. अगर प्रोटीन की बात की जाए तो दही के मुकाबले में योगर्ट इस बारे में बाजी मार ले जाता है। दही में आपको 3 ग्राम से लेकर के 4 ग्राम प्रोटीन मिलता है, वही योगर्ट में 8 ग्राम से लेकर के 10 ग्राम प्रोटीन की मात्रा होती है।

निष्कर्ष

आशा है आपको कर्ड और योगर्ट में अंतर के बारे में पूरी जानकारी मिल गई होगी। अगर अभी भी आपके मन में कर्ड और योगर्ट में अंतर (Difference between Curd and Yogurt in Hindi) को लेकर आपका कोई सवाल है तो आप बेझिझक कमेंट सेक्शन में कमेंट करके पूछ सकते हैं। अगर आपको यह जानकारी अच्छी लगी हो, तो इसे शेयर जरूर करें ताकि सभी को कर्ड और योगर्ट के बारे में जानकारी मिल सके।

आपको हमारा यह लेख कैसा लगा?

Leave a Comment