योग क्या है? योग के प्रकार, नियम, फायदे, इतिहास और नुकसान क्या है? जानिए योग शुरू करने के टिप्स

आज हम जानेंगे योग क्या है? योग के प्रकार, नियम, फायदे, इतिहास और नुकसान की पूरी जानकारी (Yoga in Hindi) के बारे में क्योंकि कहा जाता है कि जिन लोगों को अपनी बॉडी बनानी होती है और जिन लोगों को अपनी मसल्स डिवेलप करनी होती है, वह जिम जाकर कसरत करते हैं, वही जो लोग बिना कसरत किए हुए अपने स्वास्थ्य को अच्छा बनाए रखना चाहते हैं, वह घर पर रहकर ही सुबह सुबह योग करते हैं।

योग का जिक्र तो वैसे काफी पहले से ही होता आया है परंतु इसके फायदे के बारे में काफी कम ही लोग जानते हैं,परंतु जब से हर साल 21 जून को योग दिवस के तहत मनाने की घोषणा हुई है, तब से ही दिन-ब-दिन योग को करने वाले लोगों की संख्या में लगातार इजाफा होता जा रहा है। यहां तक कि तो जहां पहले सिर्फ योग हमारे भारत में ही फेमस था, वहीं अब यह दुनिया के कई देशों में यह अपनी पहुंच बना चुका है और कई देशों में अब योग क्लास भी लगती है, साथ ही इस फील्ड में रोजगार भी पैदा हुए हैं।

योग क्या है? – What is Yoga in Hindi

Contents show
Yoga In Hindi
Yoga In Hindi

अगर आप योग शब्द का गहराई से चिंतन करेंगे तो इसका मतलब निकल कर के आएगा जोड़ना या फिर संगम करना। Yoga की अगर हम गहराई से व्याख्या करेंगे तो आपको इसकी व्याख्या समझ में नहीं आएगी। इसीलिए आसान शब्दों में कहा जाए तो योग कई प्रकारों के आसन के बारे में हमें बताता है। यह आसन शरीर को अलग-अलग प्रकार से लचीला बनाने का काम करते हैं, जो स्वास्थ्य के लिए बेनिफिशियल होते हैं।

बड़े, बुजुर्ग, महिला, बच्चे सभी योग कर सकते हैं क्योंकि Yoga में इतने आसनों का वर्णन किया गया है कि आपको कोई ना कोई आसन अवश्य सूट हो ही जाएगा। इसमें कुछ आसान ऐसे होते हैं जो काफी मुश्किल होते हैं और जिन्हें कुछ अवस्था में नहीं करना चाहिए, वही कुछ आसान ऐसे होते हैं जो करने में काफी आसान होता है जिसे हर कोई कर सकता है, जैसे कि शवाआसन और प्राणायाम।

योग करने में हमे शारीरिक कसरत नहीं करनी होती है बल्कि हमें मन, सास और अपने दिमाग को केंद्रित करना होता है। यही तीन चीजें Yoga करने में सबसे महत्वपूर्ण भूमिका अदा करती हैं। योग करने पर हमारी बॉडी के जो बाहरी पार्ट हैं सबसे पहले उन्हें ही फायदा होता है और उसके बाद हमारी बॉडी के अंदर के जो पार्ट हैं उन्हें फायदा होता है। यह अपने आप को स्वस्थ रखने के लिए बहुत ही अहम क्रिया मानी जाती है।

योग का इतिहास क्या है? – History of Yoga in Hindi

योग कब चालू हुआ है इसके बारे में कोई भी सटीक जानकारी नहीं है परंतु योग ग्रंथों के अनुसार ऐसा कहा जाता है कि जब इस धरती पर इंसान आया तभी से इस धरती पर Yoga भी आया, जिसे समय-समय पर कई ऋषि-मुनियों ने आगे बढ़ाने का प्रयास किया। आपने सप्त ऋषि के बारे में कहीं ना कहीं पढ़ा ही होगा। इन्हीं सप्त ऋषियों ने योग को जन-जन तक पहुंचाने में काफी अच्छा काम किया। Yoga के गुरु के तौर पर भगवान शंकर को जाना जाता है।

ये भी पढ़ें : वजन कम कैसे करें?

सप्त ऋषि ने हीं भारत के बाहर एशिया, मध्य पूर्व, उत्तरी अमेरिका, दक्षिणी अमेरिका, उत्तरी अफ्रीका जैसे इलाकों में योग को पहुंचाया। हालांकि इसका मूल निवास भारत ही है। भारत में पतंजलि जैसे कई संत हुए जिन्होंने योग को आगे बढ़ाया। इसके अलावा भगवान बुद्ध, महावीर, राम, कृष्ण जी ने भी Yoga की महिमा को जाना और इसे किया। वर्तमान के समय में बाबा रामदेव और बाबा बालकृष्ण के प्रयासों के फलस्वरूप योग भारत के अलावा पूरी दुनिया भर में फेमस हो चुका है और मोदी जी के प्रयासों के फल स्वरूप अब 21 जून को वर्ल्ड योग दिवस भी मनाया जाने लगा है।

योग के प्रकार – Types of Yoga

देखा जाए तो मुख्य तौर पर टोटल 6 प्रकार के योग होते हैं, जिनके नाम नीचे बताए अनुसार है‌।

  1. हठ
  2. राज
  3. कर्म
  4. भक्ति
  5. ज्ञान
  6. तंत्र

योग के नियम – Rules of Yoga in Hindi

नीचे आपको उन सभी नियमों के बारे में हम बता रहे हैं, जो योग करने के पहले और Yoga करने के बाद आपको पालने चाहिए।

  • सुबह के समय में योग किया जाना चाहिए।
  • इसे खाली पेट ही किया जाता है।
  • बहुत जरूरी हो तो थोड़ी सी चाय या फिर जूस इसे करने के पहले ले सकते हैं।
  • इसे करने से पहले दातुन कर ले।
  • ध्यान ना भटके इसके लिए सभी ध्यान भटकाने वाली चीजें दूर रख दें।
  • चटाई या फिर चद्दर के ऊपर ही इसे किया जाए।
  • जहां शांत वातावरण हो और अच्छी हवा आती हो वही इसे करें।
  • बॉडी में अगर कोई बीमारी है, तो डॉक्टर से कंसल्ट करें।
  • ढीले कपड़े पहन कर ही योग करें।
  • योगासन खत्म करने के बाद आधे घंटे के बाद ही कुछ खाएं।
  • योग करने के बाद 1 घंटे के बाद नहाए।
  • Yoga करने के दरमियान सारा ध्यान योग पर ही रखें।

योग करने का सही समय क्या है? – Best time for Yoga in Hindi

योग करने का सबसे अच्छा समय सुबह का समय ही माना जाता है और हम यह ऐसे ही नहीं कह रहे हैं। दरअसल योग शास्त्रों में भी इस बात पर जोर दिया गया है कि योग करने का फायदा तभी अधिक मिलता है जब उसे सुबह के समय किया जाए, क्योंकि सुबह के समय जब वातावरण शांत होता है, तब आप अपना पूरा ध्यान सिर्फ योग में ही लगा पाते हैं और यही वजह है कि सुबह के समय योग करना बेनिफिशियल होता है।

योग के फायदे – Benefits of Yoga in Hindi

नीचे आपको योग करने के एडवांटेज अथवा बेनिफिट्स के बारे में इंफॉर्मेशन दी गई है।

1. मन शांत बनाता है योग

जब कोई भी व्यक्ति योग करता है, तो इसमें उसे सारा ध्यान योग के ऊपर ही लगा करके रखना होता है अर्थात हमारा कहने का मतलब है कि उसे एकाग्रता रखनी पड़ती है। इससे होता क्या है कि उसकी जो मानसिक क्षमता है, उसका भी विकास होता है साथ ही उसे मानसिक समस्याओं से भी छुटकारा मिलता है, क्योंकि Yoga करने के दरमियान हम अंतर्ध्यान में चले जाते हैं।

ये भी पढ़ें : बालों का झड़ना कैसे रोकें

इससे हमारा दिमाग शांत चित्त हो जाता है और यही वजह है कि योग करने पर हमें कुछ देर के लिए टेंशन से मुक्ति मिल जाती है। यह ऐसे लोगों के लिए बहुत ही बेनिफिशियल होगा, जो स्कूल में पढ़ाई कर रहे हैं और उन्हें कुछ याद नहीं रहता।

2. शरीर तंदुरुस्त बनाता है योग

यह बात तो आप जानते हैं कि Yoga अधिकतर इसीलिए किया जाता है ताकि स्वास्थ्य से संबंधित कुछ फायदे हो सके। योग करने पर हमारी बॉडी धीरे-धीरे तंदुरुस्ती की अवस्था में पहुंचने लगती है। हालांकि एक बात है कि इसे असर करने में काफी समय लगता है परंतु एक न एक दिन यह आपको तंदुरुस्त बना ही देता है। इसे करने पर जब हमारी बॉडी तंदुरुस्त रहती है तो हमारा चेहरा भी खिला खिला रहता है और हमारे चेहरे पर एक अलग ही तेज रहता है।

3. शरीर निरोगी बनाता है योग

हमने आपको ऊपर ही बताया कि योग करने पर आपको एक ही दिन में कोई असर नहीं दिखाई देता है, बल्कि इसे आपको लगातार 4 से 5 महीने और उससे भी अधिक समय तक जारी रखना पड़ता है। अगर आप ऐसा करने में कामयाब हो जाते हैं तो आपकी बॉडी की इम्युनिटी पावर मजबूत बन जाती है। इससे होता यह है कि कोई भी रोग आसानी से आपको अपनी कैद में नहीं ले पाता है और यही वजह है कि योग करने पर शरीर निरोगी बना रहता है। हालांकि यह तभी संभव है जब इसे दैनिक तौर पर किया जाए।

4. वजन कंट्रोल करता है योग

योग में बहुत सारे ऐसे आसन होते हैं जिन्हें करने पर हमारी बॉडी की मांसपेशियां स्ट्रेच होती है यानी कि उनमें खिंचाव होता है और इसकी वजह से ब्लड सरकुलेशन अच्छा होता है, जिससे मांसपेशियां तेजी के साथ स्ट्रांग बनती हैं और चर्बी भी हमारी बॉडी में कम हो जाती है। यही वजह है कि वजन कंट्रोल करने के लिए योग किया जाना चाहिए।

ये भी पढ़ें : योग कैसे किया जाता है?

5. ब्लड शुगर कंट्रोल करता है Yoga

ब्लड शुगर का मतलब है हमारी बॉडी में जो खून मौजूद है उसके अंदर चीनी की मात्रा ज्यादा हो जाना, जिसके कारण डायबिटीज की प्रॉब्लम हो सकती है। इसे कम करने के लिए आपको रोजाना योग करना चाहिए। यह डायबिटीज की प्रॉब्लम को कम करता है और हमारे खून के अंदर ग्लूकोस के लेवल को भी घटाने में काफी सहायक साबित होता है।

अच्छे योग अभ्यास के लिए क्या सावधानियां बरतनी चाहिए?

  • योग करने के दरमियान सीधे होकर ही बैठे।
  • योगाभ्यास पूरा हो जाने के बाद थोड़ी देर आराम करें।
  • किसी योग को करने से कुछ दिक्कत हो रही है तो उसे ना करें।
  • योग में बॉडी को जबरदस्ती ना खींचे।
  • योग करने के बाद तुरंत नहाने ना चले जाएं।
  • ढीले कपड़े पहन कर ही होगा करें।
  • खाली पेट ही योग करना चाहिए।

योग के नुकसान – Disadvantages of Yoga in Hindi

देखिए यहां पर हम आपको बता दें कि इस आर्टिकल में कोई स्पेसिफिक योगासन की बात नहीं हो रही है। इसलिए हम आपको यह नहीं बता सकते हैं कि योगासन करने से आपको कौन से नुकसान हो सकते हैं। आप जिस योगासन को करते हैं, उसके कुछ साइड इफेक्ट हो सकते हैं। इसलिए जिस योगासन को आप करना चाहते हैं उसके बारे में पूरी जानकारी हासिल कर ले जो कि आपको आसानी से इंटरनेट पर मिल जाएंगी। अगर किसी स्पेसिफिकेशन आसन का जिक्र इस आर्टिकल में होता है, तो हम आपको उस आसन के नुकसान के बारे में अवश्य बता देते।

योग शुरू करने के टिप्स – Tips for Starting Yoga

नीचे हमने आपको कुछ ऐसे टिप्स अथवा सुझाव दिए हैं, जो योगासन को चालू करने से पहले आपके काफी काम आ सकते हैं। इन्हें पढ़े और अपने विवेक के अनुसार आगे बढ़ने का निर्णय ले।

1. अगर आप योग की स्टार्टिंग कर रहे हैं, तो आपको सबसे पहले थोड़ा सा वॉर्मअप अवश्य कर लेना चाहिए। वार्म अप का मतलब होता है कुछ ऐसी सामान्य सी क्रिया, जिससे आपकी बॉडी लचीली बन सके। जैसे कि उछल कूद करना, अपने हाथों को तेजी से उपर नीचे करना, सावधान विश्राम की मुद्रा में आना इत्यादि।

2. पहली बार योग करने के लिए आपको ऐसे आसन का चयन करना चाहिए, जो करने में आसान हो क्योंकि अगर आपने पहले कभी Yoga नही किया है, तो आप योगासन के मुश्किल आसनों को नहीं कर पाएंगे। इसलिए जो आसन, आसान है, उनसे ही योग करने की स्टार्टिंग करें। जैसे कि शवासन, प्राणायाम, सूर्य नमस्कार इत्यादि।

3. शुरुआत में हो सकता है कि आप जो भी आसन करें, उसे करने में आप ज्यादा कंफर्टेबल ना हो। इसीलिए उस आसन को तभी तक करे, जब तक आपको कंफर्टेबल महसूस हो। कंफर्टेबल ना महसूस होने की अवस्था में उठ जाएं और थोड़ी देर आराम करने के बाद फिर से आसन करना चालू करें।

4. बाबा रामदेव कहते हैं कि योगासन का अगर पूरा फायदा प्राप्त करना है, तो इसे खाली पेट ही करना चाहिए। इसलिए स्टार्टिंग में ही नहीं बल्कि जब कभी भी आप योग करें तो यह ध्यान रखें कि आप खाली पेट ही इसे करें और टाइम सुबह का ही रहे, क्योंकि सुबह के टाइम में ही Yoga करना बेनिफिशियल अधिक माना जाता है।

योग से संबंधित अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न

क्या ब्रह्म मुहूर्त में योग किया जा सकता है?

हां

योग कैसे करना चाहिए?

खाली पेट

अगर कोई पहली बार योग कर रहा है तो उसे क्या करना चाहिए?

आसान योगासन करना चाहिए।

पहली बार योग करने वाले व्यक्ति को कौन सा योगासन करना चाहिए?

शवासन अथवा सूर्य नमस्कार या फिर प्राणायाम

योग करने के लिए कैसे कपड़े पहनने चाहिए?

ढीले

क्या योग करने के कुछ नुकसान भी है?

यह आपकी शारीरिक अवस्था के ऊपर डिपेंड करता है।

अंतरराष्ट्रीय योग दिवस कब मनाया जाता है?

21 जून

योग के प्रसिद्ध ग्रंथ कौन से हैं?

योगसूत्र, योगभाष्य, तत्त्ववैशारदी

निष्कर्ष

आशा है आपको योग क्या है के बारे में पूरी जानकारी मिल गई होगी। अगर अभी भी आपके मन में yoga kya hai (Yoga in Hindi) और योग के नियम क्या है को लेकर आपका कोई सवाल है तो आप बेझिझक कमेंट सेक्शन में कमेंट करके पूछ सकते हैं। अगर आपको यह जानकारी अच्छी लगी हो तो इसे शेयर जरूर करें ताकि सभी को yoga kaise karen के बारे में जानकारी मिल सके।

आपको हमारा यह लेख कैसा लगा?

मैं supportingainain ब्लॉग का संस्थापक और एक पेशेवर ब्लॉगर हूं। यहाँ पर मैं नियमित रूप से अपने पाठकों के लिए उपयोगी और मददगार जानकारी साझा करता हूं। ❤️ Contact us via Email - [email protected]

Leave a Comment