कैसे बने

अंतरिक्ष वैज्ञानिक क्या होता है? Space Scientist कैसे बने? जानिए Space Scientist बनने से जुड़ी सभी जानकारी हिंदी में

2

आज हम जानेंगे अंतरिक्ष वैज्ञानिक (Space Scientist) कैसे बने पूरी जानकारी (How To Become Space Scientist Details In Hindi) के बारे में क्योंकि किसी भी वस्तु को या फिर मंजिल को प्राप्त करने के लिए हमें काफी पहले से ही उस मंजिल या फिर वस्तु को पाने की तैयारी प्रारंभ कर देनी होती है, तभी एक दिन हम जाकर अपने उद्देश्य को प्राप्त कर सकते हैं। अगर बात करें पढ़ाई की तो हर विद्यार्थी अच्छी पढ़ाई लिखाई करके एक अच्छा करियर बनाने की इच्छा रखता है। सभी विद्यार्थी को अलग-अलग फील्ड में इंटरेस्ट होता है। कोई कुछ बनना चाहता है तो कोई कुछ।

कई लोग ऐसे होते हैं जो अंतरिक्ष की फील्ड में अपना करियर बनाने की इच्छा रखते हैं और वह स्पेस साइंटिस्ट बनना चाहते हैं। आपकी इंफॉर्मेशन के लिए बता दें कि, अगर आपको स्पेस साइंटिस्ट बनना है तो दसवीं कक्षा को पास करने के बाद से ही आपको इसकी तैयारी चालू कर देनी पड़ेगी, तभी आगे चल कर के आप एक अच्छे स्पेस साइंटिस्ट बन पाएंगे। आज के इस लेख में जानेंगे कि Space Scientist Kaise Bane, अंतरिक्ष वैज्ञानिक बनने के लिए क्या करे, Space Scientist Meaning In Hindi, Space Scientist Kya Hota Hai, अंतरिक्ष वैज्ञानिक बनने का तरीका, Space Scientist Kaise Bante Hain, आदि की सारी जानकारीयां विस्तार में जानने को मिलेंगी, इसलिये पोस्ट को लास्ट तक जरूर पढे़ं।

अंतरिक्ष वैज्ञानिक क्या है? – What is Space Scientist Information in Hindi

Contents show
Space Scientist Kaise Bane

Space Scientist Kaise Bane

जैसा कि इसके नाम से ही प्रतीत हो रहा है कि स्पेस साइंटिस्ट वह व्यक्ति होता है, जो अन्तरिक्ष के विज्ञान का गहनता से अध्यान्न करता है। स्पेस साइंस के अंतर्गत एक स्पेस साइंटिस्ट को ब्रह्मांड के विभिन्न पदार्थों के बारे में रिसर्च करनी होती है और अपने रिसर्च पेपर को पब्लिश करना होता है। ऐसे सभी उम्मीदवार जो स्पेस साइंटिस्ट बनना चाहते हैं और स्पेस साइंस की फील्ड में अपना करियर बनाना चाहते हैं, वह बारहवीं कक्षा के बाद स्पेस साइंस के कोर्स में एडमिशन प्राप्त कर सकते हैं।

हालांकि स्पेस साइंस के किसी भी कोर्स में उम्मीदवार को एडमिशन तभी मिलेगा, जब उसने अपनी 12 वीं कक्षा को केमिस्ट्री, फिजिक्स और गणित के सब्जेक्ट के साथ पास किया होगा।

अंतरिक्ष वैज्ञानिक बनने के लिए क्या करें? – What to do to become Space Scientist

स्पेस साइंटिस्ट की Field में अपना करियर बनाने के लिए 12वीं कक्षा को पास करने के बाद आप किसी भी अच्छे आईआईटी कॉलेज में या फिर इंजीनियरिंग कॉलेज में एडमिशन ले सकते हैं और वहां पर आप केमिस्ट्री, फिजिक्स, कंप्यूटर साइंस, इलेक्ट्रॉनिक अथवा रोबोटिक जैसे सब्जेक्ट को लेकर के आगे बढ़ सकते हैं‌।

अगर आप स्पेस साइंटिस्ट बनना चाहते हैं और Space साइंस की फील्ड में अपना करियर स्थापित करना चाहते हैं, तो इस आर्टिकल में आप जानेंगे कि, स्पेस साइंटिस्ट कैसे बना जाता है और स्पेस साइंटिस्ट बनने के लिए कौन सी पढ़ाई करनी पड़ती है तथा स्पेस साइंटिस्ट बनने की प्रक्रिया क्या है।

अंतरिक्ष वैज्ञानिक बनने की प्रक्रिया – Process to Become Space Scientist

अगर आप स्पेस साइंटिस्ट बनना चाहते हैं और स्पेस साइंस की Field में अपना करियर बनाना चाहते हैं, तो नीचे हम आपको स्टेप बाय स्टेप इस बात की इंफॉर्मेशन दे रहे हैं कि, कैसे आप स्पेस साइंटिस्ट बन सकते हैं।

1. 12वीं कक्षा पास करें

आपकी इंफॉर्मेशन के लिए बता दें कि, स्पेस साइंटिस्ट बनने के लिए और स्पेस साइंस में अपना करियर बनाने के लिए आपको सबसे पहले फिजिक्स केमिस्ट्री और गणित के सब्जेक्ट के साथ 12वीं कक्षा को कम से कम 55% अंकों के साथ पास करना पड़ेगा। अगर आप इससे ज्यादा अंक ला सकते हैं, तो यह आपके लिए ही फायदेमंद साबित होगा।

2. प्रवेश परीक्षा पास करें

12वीं कक्षा को पास करने के बाद स्पेस साइंस के किसी भी कोर्स में एडमिशन लेने के पहले आपको एक एंट्रेंस एग्जाम देनी होगी। अगर आप इस एंट्रेंस एग्जाम को पास करते हैं, तभी आपको उस कोर्स में एडमिशन मिलेगा और अगर आप इस एंट्रेंस एग्जाम में फेल हो जाते हैं तो आपको कोर्स में एडमिशन नहीं मिलेगा। इसलिए अच्छे से स्टडी करके एंट्रेंस एग्जाम की तैयारी करें और एंट्रेंस एग्जाम को पास करें।

3. बैचलर कोर्स पूरा करें

एंट्रेंस एग्जाम को पास करने के बाद आपको स्पेस साइंस से रिलेटेड कोर्स में एडमिशन मिल जाता है। इसके बाद आपको इस कोर्स को अच्छे से पास करना होता है।

4. मास्टर कोर्स कंप्लीट करें

जैसे ही आप बैचलर कोर्स को पूरा कर ले वैसे ही आपको मास्टर कोर्स के लिए अप्लाई करना होता है और मास्टर कोर्स में आपको एडमिशन लेना होता है। मास्टर कोर्स में अभ्यर्थियों को बीएससी या फिर बीटेक के बाद एडमिशन प्राप्त होता है। इस प्रकार मास्टर कोर्स पूरा करें।

5. नौकरी के लिए अप्लाई करें

मास्टर कोर्स की डिग्री हासिल करने के बाद आप स्पेस साइंटिस्ट कहलाने लायक हो जाते हैं। इसके बाद आपका आखरी चरण होता है किसी स्पेस एजेंसी में नौकरी पाना। यह नौकरी आपको तब मिलेगी, जब कोई स्पेस एजेंसी नौकरी की नोटिफिकेशन जारी करेगी। उस नोटिफिकेशन के बताए अनुसार आप ऑनलाइन फॉर्म भर कर के और सभी एलिजिबिलिटी को पूरा करके स्पेस साइंटिस्ट की पोस्ट प्राप्त कर सकते हैं और जैसे-जैसे आपका एक्सपीरियंस बढ़ेगा और आपकी योग्यता बढ़ेगी, वैसे-वैसे ही आपका सिलेक्शन नासा या फिर इसरो जैसे बड़े इंस्टिट्यूट में हो जाएगा।

अंतरिक्ष वैज्ञानिक बनने के लिए योग्यता – Eligibility to Become Space Scientist

  • ऐसे हर उम्मीदवार जो स्पेश साइंटिस्ट बनना चाहते हैं, उन्हें स्पेस साइंटिस्ट बनने के लिए 12वीं कक्षा को गणित, केमिस्ट्री और फिजिक्स जैसे सब्जेक्ट के साथ पास करना आवश्यक है।
  • स्पेस साइंस के किसी भी कोर्स में एडमिशन पाने के लिए उम्मीदवार को एंट्रेंस एग्जाम को भी पास करना आवश्यक है।

अंतरिक्ष वैज्ञानिक का कार्य – Work of Space Scientist

स्पेस साइंस के अंतर्गत विद्यार्थियों को स्पेस साइंस से संबंधित सभी महत्वपूर्ण मुद्दों के बारे में बताया जाता है और उस पर स्टडी तथा रिसर्च भी करवाई जाती है। जब कोई उम्मीदवार स्पेस साइंटिस्ट बन जाता है, तो स्पेस साइंटिस्ट बनने के बाद वह स्पेस साइंस पर रिसर्च करता है और ब्रह्मांड, तारे,ग्रह, सूर्य,चंद्रमा पर स्टडी करता है और इन पर रिसर्च करने का काम भी स्पेस साइंटिस्ट करता है।

अभ्यार्थियों को स्पेस साइंस के कोर्स में बायोलॉजी, केमिस्ट्री, भौतिक विज्ञान, मैकेनिकल इंजीनियरिंग, मैटेरियल साइंस और कंप्यूटर साइंस जैसे सब्जेक्ट की स्टडी करवाई जाती है, ताकि उम्मीदवार को स्पेस साइंस के बारे में पूरी इंफॉर्मेशन हासिल हो जाए। मुख्य तौर पर देखा जाए तो स्पेस साइंटिस्ट अंतरिक्ष की स्टडी करता है और रिसर्च प्रकाशित करता है। ब्रह्मांड किस प्रकार से अस्तित्व में आया? इसकी स्टडी में इस्तेमाल होने वाले साधन आदी की प्रैक्टिकल इंफॉर्मेशन अभ्यर्थियों को दी जाती है। आपकी इंफॉर्मेशन के लिए बता दें कि स्पेस साइंस की कई ब्रांच है, जो निम्नानुसार है।

  • एस्ट्रोनॉमी
  • एस्ट्रो फिजिक्स
  • स्टेलर साइंस
  • कॉस्मोलॉजी

अंतरिक्ष वैज्ञानिक बनने के फायदे – Benefits of Becoming Space Scientist

स्पेस साइंटिस्ट बनने के फायदे के बारे में बात की जाए, तो जो उम्मीदवार स्पेस साइंटिस्ट बनने में सफलता हासिल कर लेता है, उन्हें सबसे बड़ा फायदा यह होता है कि उन्हें काफी आकर्षक सैलरी पैकेज मिलता है। उनकी सालाना सैलरी के साथ साथ महीने की सैलरी भी काफी अच्छी खासी होती है। एक स्पेस साइंटिस्ट को रेलवे के थर्ड ग्रेड के व्यक्ति के बराबर सैलरी मिलती है।

हालांकि इंडिया में स्पेस साइंटिस्ट की सैलरी कम होती है परंतु अगर किसी उम्मीदवार का सिलेक्शन विदेशों में स्पेस साइंटिस्ट की पोस्ट पर हो जाता है तो उसकी महीने की सैलरी ₹2,00000 से लेकर ₹4,00000 तक के आस-पास हो सकती है। इसके अलावा स्पेस साइंटिस्ट बन जाने पर उम्मीदवार को बहुत ही मान सम्मान मिलता है क्योंकि लोगों को लगता है कि स्पेस साइंटिस्ट बनने के लिए काफी ज्यादा मेहनत करनी होती है, इसीलिए जो इस पोस्ट को प्राप्त करता है, उसे बहुत ही इज्जत की निगाहों से देखा जाता है।

अंतरिक्ष वैज्ञानिक बनने के लिए कौशल – Skills to become Space Scientist

स्पेस साइंटिस्ट बनने के लिए और स्पेस साइंस में करियर बनाने के लिए आपके अंदर कौन सी योग्यताएं होनी चाहिए, उसकी जानकारी इस प्रकार है।

  • जो भी महिला या फिर पुरुष उम्मीदवार स्पेस साइंस की फील्ड में अपना करियर बनाना चाहते हैं और स्पेस साइंटिस्ट बनना चाहते हैं, उन्हें अपनी पकड़ फिजिक्स के सब्जेक्ट पर अच्छी करनी होगी। इसके अलावा उन्हें गणित और केमिस्ट्री के सब्जेक्ट की भी अच्छी इंफॉर्मेशन होनी चाहिए।
  • उम्मीदवार को इंजीनियरिंग की बेसिक लेवल की इनफार्मेशन होनी चाहिए, साथ ही उसे कंप्यूटर की भी सामान्य इंफॉर्मेशन होनी चाहिए।
  • उम्मीदवार के अंदर धैर्य पूर्वक अपना काम करने की क्षमता होनी चाहिए।
  • स्पेस साइंस की फील्ड में करियर बनाने की इच्छा रखने वाले उम्मीदवार को स्पेस साइंस में इंटरेस्ट होना चाहिए, साथ ही उसे रिसर्च करने में, कुछ नया जानने में, कम्युनिकेशन स्किल्स को डिवेलप करने में, रीडिंग और प्रेजेंटेशन में भी इंटरेस्ट होना चाहिए।

अंतरिक्ष वैज्ञानिक को कितना वेतन मिलता है? – Salary of Space Scientist

एक अंतरिक्ष वैज्ञानिक बनने के लिए काफी ज्यादा मेहनत और हार्ड वर्क की आवश्यकता पड़ती है और जो उम्मीदवार स्पेस साइंटिस्ट बन जाता है, उन्हें अपनी मेहनत का फल एक अच्छी सैलरी के तौर पर मिलता है। स्पेस साइंस की फील्ड में शुरुआत में उम्मीदवार को ₹30,000 से लेकर ₹35,000 तक की सैलरी महीने में मिलती है और एक्सपीरियंस बढ़ने पर उनकी महीने की सैलरी ₹50,000 से लेकर ₹65,000 के आसपास तक हो जाती है। अगर विदेशों की बात की जाए तो विदेश में तो यह सैलरी और भी ज्यादा होती है।

अंतरिक्ष वैज्ञानिक का करियर – Career of Space scientist

ऐसा कहा जाता है कि स्पेस साइंस की Field में करियर के तौर पर बहुत सारे ऑप्शन अभ्यर्थियों के सामने मौजूद होते हैं।अगर स्पेस साइंस की फील्ड में प्राप्त होने वाले पदों के बारे में बात करें, तो आप निम्न पदों पर काम करने का मौका प्राप्त कर सकते हैं।

  • एस्ट्रोनॉमर
  • स्पेस साइंटिस्ट
  • रडार टेक्निशियन
  • रोबोटिक टेक्निशियन
  • एस्ट्रोफिजिसिस्ट
  • जियोलॉजिस्ट
  • मैटीरियोलॉजिस्ट
  • सेटेलाइट टेक्निशियन
  • क्वालिटी एश्योरेंस स्पेशलिस्ट

निष्कर्ष

आशा है आपको Space Scientist Details In Hindi के बारे में पूरी जानकारी मिल गई होगी। अगर अभी भी आपके मन में Space Scientist Kaise Bane (How To Become Space Scientist In Hindi) और अंतरिक्ष वैज्ञानिक कैसे बने? अगर इस बारे में आपका कोई सवाल है तो आप बेझिझक कमेंट सेक्शन में कमेंट करके पूछ सकते हैं। अगर आपको यह जानकारी अच्छी लगी हो तो इसे शेयर जरूर करें ताकि सभी को Space Scientist Kya Hota Hai के बारे में जानकारी मिल सके।

4.7/5 - (6 votes)
Ainain
मैं supportingainain ब्लॉग का संस्थापक और एक पेशेवर ब्लॉगर हूं। यहाँ पर मैं नियमित रूप से अपने पाठकों के लिए उपयोगी और मददगार जानकारी साझा करता हूं। ❤️ Contact us via Email - [email protected]

Telephone क्या होता है? टेलीफोन का आविष्कार किसने और कब किया था? जानिए Telephone से जुड़ी सभी जानकारी हिंदी में

Previous article

जासूसी क्या होता है? Jasoos कैसे बने? जानिए जासूसी बनने से जुड़ी सभी जानकारी हिंदी में

Next article

You may also like

2 Comments

  1. Kya ham B teach electrical engineering se kar ke space scientist ban sakte hai

  2. मुझे साइंटिस्ट बनना है |लेकिन हमे आगे चलकर वह पैसे लगेंगे क्या? Please reply me.

Leave a reply

Your email address will not be published.