NRI क्या होता है? NRI किसे कहते है? जानिए NRI बनने से जुड़ी सभी जानकारी हिंदी में

आज हम जानेंगे एनआरआई (NRI) किसे कहते है पूरी जानकारी (Who is NRI In Hindi) के बारे में क्योंकि हर व्यक्ति चाहता है कि वह अपनी जिंदगी में अच्छे से सेटल हो जाए, जिसके लिए वह कठिन परिश्रम और पढ़ाई करता है। कई लोग ऐसे होते हैं, जो पढ़ाई करके अपने ही देश में सेटल होने की कोशिश करते हैं, वहीं कई लोग ऐसे होते हैं, जो ज्यादा पैसे कमाने के लिए और बेहतर भविष्य के लिए विदेशों में जाते हैं और कई बार तो वह वही के होकर रह जाते हैं। हमारे भारत की बात करें तो भारत के ज्यादातर लोगों की विदेश जाने की पहली पसंद कुछ चुनिंदा देश ही होते हैं।

और वह चुनिंदा देश का नाम अमेरिका, कनाडा, ऑस्ट्रेलिया, न्यू जीलैंड, यूनाइटेड किंग्डम, रशिया, जापान, ऑस्ट्रेलिया जैसे देश ही होते हैं, क्योंकि यहां पर उन्हें आसानी से काम भी मिल जाता है और यहां पर क्राइम रेट भी कम होता है। जो लोग विदेश काम करने के लिए जाते हैं और वहीं पर बस जाते हैं तथा उन्हें वहां की नागरिकता प्राप्त हो जाती है, वह भारत में NRI कहे जाते हैं। आज के इस लेख में जानेंगे कि NRI Kya Hota Hai, NRI Meaning In Hindi, NRI Full Form, NRI Kise Kahte Hai आदि की सारी जानकारीयां विस्तार में जानने को मिलेंगी, इसलिये पोस्ट को लास्ट तक जरूर पढे़ं।

एनआरआई क्या होता है? – What is NRI Information in Hindi?

Nri Kise Kahate Hain
Nri Kise Kahate Hain

NRI यानि Non-resident Indian एक ऐसा व्यक्ति होता है, जिसका जन्म तो भारत में हुआ होता है, परंतु जब वह किसी काम या फिर धंधे के सिलसिले में विदेश जाता है और वहीं पर उसे वहां की नागरिकता प्राप्त हो जाती है, तो वह व्यक्ति वहां का नागरिक बन जाता है, ऐसे व्यक्ति को ही इंडिया में N.R.I. कहा जाता है।

  • बता दें ऐसे भारतीय वर्ष भर में 182 दिनों से भी कम समय भारत में बिताते है। इसके अलावा भी NRI की परिभाषा कुछ इस प्रकार है।
  • जो व्यक्ति इंडिया में पैदा हुआ होता है और वह किसी काम के सिलसिले में या फिर नौकरी पाने के उद्देश्य से बाहर जाकर रहता है उसे NRI कहा जाता है।
  • एन आर आई उसे भी कहा जाता है जो इंडिया के बाहर किसी देश में जाकर के कारोबार करता है या फिर वहीं पर अपना बिजनेस स्थापित कर लेता है।
  • जो इंडिया के बाहर किसी अन्य देश में बिना किसी कारण के असीमित समय तक रहते हैं, उन्हें भी NRI कहा जाता है।
  • एनआरआई एक प्रकार का स्टेटस होता है, जो इंडियन सिटीजनसिप रखने वाले व्यक्ति को दिया जाता है, ताकि उसे इनकम टैक्स की प्रोसेस में किसी भी प्रकार की प्रॉब्लम ना हो और उन्हें डबल टैक्स जैसे नियमों के कारण मुसीबत का सामना ना करना पड़े।

एनआरआई किसे कहते हैं? – Who is NRI?

इंडिया के अधिकतर लोग बेहतर भविष्य के लिए अथवा रोजगार या फिर अच्छी शिक्षा के लिए विदेश में जाते हैं, जिसके बाद कई लोग तो वापस लौट आते हैं, परंतु कई लोग जो विदेश में ही बस जाते हैं, उन्हें N.R.I का नाम दिया जाता है, जिसे अंग्रेजी लैंग्वेज में नॉनरेजिडेंट ऑफ इंडिया कहा जाता है। अधिकतर स्टूडेंट्स अपनी हायर एजुकेशन को प्राप्त करने के लिए हर साल विदेश जाते हैं, जिनमें से जो विदेश में जाने के लिए पूरी योग्यता रखते हैं, उन्हें विदेश में जाने का मौका मिलता है।

इसके अलावा भी ऐसे कई कारण है, जिसके कारण इंडियन लोग विदेश जाना पसंद करते हैं। कई रिसर्च में यह बात भी सामने आई है कि इंडिया में सबसे ज्यादा पैसा NRI लोग ही भेजते हैं, अर्थात वह विदेश में जो भी पैसा कमाते हैं, उसमें से कुछ हिस्सा वह भारत में रहने वाले अपने परिवार को भेजते हैं। इस प्रकार NRI इंडिया की अर्थव्यवस्था में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं।

NRI का फुल फॉर्म क्या होता है? – What Is NRI Full Form In Hindi?

NRI का Full Form “Non-Resident Indians” होता है हिंदी में NRI का फुल फॉर्म “अप्रवासी भारतीय” होता है। NRI मूल रूप से एक भारतीय नागरिक होते हैं, परंतु किसी खास उद्देश्य के कारण यह विदेश में जाते हैं।

एनआरआई और पीआईओ के बीच अंतर – Difference Between NRI and PIO

PIO यानी कि Person of Indian Origin का मतलब होता है, एक ऐसा व्यक्ति जो इंडियन सिटीजनशिप नहीं रखता है परंतु उस व्यक्ति का जन्म भारत देश की सीमा के अंदर ही हुआ होता है। पर्सन ऑफ इंडियन ओरिजिन का हिंदी मतलब होता है भारतीय मूल का व्यक्ति होता है। यह एक ऐसा व्यक्ति होता हैं, जिनके माता-पिता को कभी इंडिया की नागरिकता प्राप्त हुई होगी अर्थात इनके माता-पिता कभी इंडियन सिटीजनशिप रखते होंगे।

एनआरआई और पीआईओ के बीच मुख्य अंतर देखा जाए तो एनआरआई वर्तमान के समय में भी इंडियन नागरिक होते हैं, वही पर्सन ऑफ इंडियन ओरिजिन भारतीय सिटीजन ना होकर के भी उसी देश का सिटीजन होता है।

एनआरआई कराधान क्या होता है? – What is NRI Taxation?

FEMA के द्वारा बनाए गए प्रावधानों के तहत ही NRI व्यक्ति को टैक्स में छूट दी जाती है। जितने भी नॉनरेजिडेंट ऑफ इंडिया व्यक्ति होते हैं, उन्हें इंडिया में मिलने वाली इनकम पर टैक्स भरना होता है। इसके अलावा NRI व्यक्ति को जो विदेश से पैसा या फिर सैलरी प्राप्त होती है, उसका टैक्स NRI व्यक्ति को सिर्फ उसी देश में जमा करना होता है, जहां पर वह काम करता है या फिर किसी अन्य उद्देश्य के कारण रहता है। NRI व्यक्ति जो भी पैसे विदेशों से इंडिया में भेजते हैं, उन पैसे को इंडिया के विदेशी मुद्रा भंडार में जोड़ा जाता है।

एनआरआई स्टेटस क्या होता है? – What is NRI Status?

व्यक्ति को n.r.i. स्टेटस इनकम टैक्स डिपार्टमेंट के द्वारा दिया जाता है। आपकी इंफॉर्मेशन के लिए बता दें कि, एनआरआई स्टेटस का निर्धारण इंडिया में रहने के समय के अनुसार ही तय होता है। इसके द्वारा जो व्यक्ति विदेश में रह रहा है, उसके उद्देश्य के बारे में इंफॉर्मेशन प्राप्त होती है।

एनआरआई और आधार कार्ड – NRI and Aadhar Card

अगर इंडिया का कोई नागरिक विदेश में जाकर निवास कर रहा है, तो भी उसके लिए आधार कार्ड जरूरी है। आपकी इंफॉर्मेशन के लिए बता दें कि विदेश में आधार कार्ड को सिटीजनशिप यानी की नागरिकता के साथ नहीं जोड़ा जाता है, परंतु आधार कार्ड इस बात का सबूत होता है कि वह व्यक्ति इंडिया का नागरिक है।

प्रवासी भारतीय का क्या मतलब होता है? – What does mean by Non-Resident Indians

अप्रवासी भारतीयों को सामान्य तौर पर अनिवासी भारतीय भी कहा जाता है। यह ऐसे व्यक्ति होते हैं, जो भारत से बाहर जाकर रहते हैं। एक अंदाज के मुताबिक हमारे देश से दुनिया में तकरीबन 24 मिलियन लोग बाहर जाकर रह रहे हैं अर्थात यह 24 मिलियन लोग अप्रवासी भारतीय हैं। सबसे ज्यादा अप्रवासी भारतीय अमेरिका में रहते हैं। इसके बाद कनाडा में लगभग 3 मिलियन अप्रवासी भारतीय रहते हैं।

इसके अलावा यूनाइटेड किंगडम और मलेशिया में भी तकरीबन 1 मिलियन से अधिक आप्रवासी भारतीय रहते हैं। अप्रवासी भारतीय का इस्तेमाल ऐसे लोगों के लिए किया जाता है, जो हमारे देश से दूर जाकर के किसी अन्य देश में रहते हैं या फिर वहां पर निवास करते हैं।

भारतीय अर्थव्यवस्था में NRI का क्या योगदान है? – Contribution of NRI in Indian Economy

जैसा कि हमने आपको पहले ही बताया कि जब भारत का कोई व्यक्ति किसी काम के उद्देश्य से विदेश जाता है,तो उसे NRI कहा जाता है। NRI विदेश जा कर के अपने कैरियर को अच्छे से तो स्थापित करता ही है, साथ ही वह इंडिया की इकोनामी को मजबूत करने में भी महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। कई रिसर्च में यह बात सामने आई है कि विदेशों में रह करके अपने देश में पैसे भेजने के मामले में इंडियन फर्स्ट पोजीशन पर रहते हैं।

इस प्रकार जो NRI होते हैं, वह अपनी कमाई का कुछ हिस्सा इंडिया में रहने वाले अपने परिवार को भेजते हैं, जिसके कारण उनके परिवार की भी आर्थिक स्थिति मजबूत बनती है, साथ ही साथ इंडिया का विदेशी मुद्रा भंडार भी बढ़ता है। इस प्रकार NRI इंडिया की इकोनामी को मजबूत बनाने में काफी महत्वपूर्ण भूमिका अदा करते हैं।

एनआरआई बनने के फायदे – Benefits of Becoming NRI

एन आर आई बनने का फायदा यह है कि आपको इंडिया में काफी मान सम्मान प्राप्त होता है, क्योंकि हमारे इंडिया में उस व्यक्ति को काफी सम्मान की निगाहों से देखा जाता है, जो विदेश जाने में सफलता हासिल कर लेता है। इसके अलावा NRI बनने के बाद आप अपने पैरों पर खड़े हो जाते हैं, क्योंकि NRI व्यक्ति इंडिया से ज्यादा पैसा कमाता है, क्योंकि वह अपना काम अधिकतर विदेशों में करते हैं और विदेशों से जब पैसा इंडिया में आता है, तो वह बढ़ जाता है।

इस प्रकार NRI बनने के कारण आप अधिक पैसे कमाते हैं, जिसके कारण आप और आपका खानदान आर्थिक तौर पर मजबूत बनता है। इसके अलावा आप विदेशों में जो पैसे कमाते हैं, उसका टैक्स आपको उसी देश में भरना पड़ता है।

एनआरआई बनने के नुकसान – Disadvantages of Becoming NRI

जहां तक देखा जाए तो नॉनरेजिडेंट ऑफ इंडिया बनने के फायदे ही फायदे हैं परंतु अगर इसके नुकसान के बारे में बात करें तो एनआरआई बन जाने के बाद आपको अपने परिवार से दूर रहना पड़ता है, जो इसका सबसे बड़ा नुकसान है। हालांकि कई NRI ऐसे होते हैं, जो अपने परिवार के साथ ही NRI बन जाते हैं। इस प्रकार इसके नुकसान कम और फायदे ज्यादा है।

लोग एनआरआई क्यों बनते हैं? – Why do People Become NRI?

जैसा कि आप जानते हैं कि हमारे भारत देश में हर व्यक्ति अमीर बनना चाहता है और अपनी जिंदगी में एक सक्सेसफुल व्यक्ति बनना चाहता है। इसके लिए कई व्यक्ति तो इंडिया में ही सफलता प्राप्त करने का प्रयास करते हैं, वहीं कई व्यक्ति विदेशों में जाकर के पढ़ाई करके एक अच्छी नौकरी प्राप्त करने की कोशिश करते हैं अथवा कई व्यक्ति विदेश में जाकर के नौकरी करते हैं और इसीलिए अपने कैरियर को लेकर के वह धीरे-धीरे NRI बन जाते हैं।

निष्कर्ष

आशा है आपको NRI Details In Hindi के बारे में पूरी जानकारी मिल गई होगी। अगर अभी भी आपके मन में NRI Kise Kahate Hain (How To Become NRI In Hindi) और एनआरआई कैसे बने? को लेकर आपका कोई सवाल है तो आप बेझिझक कमेंट सेक्शन में कमेंट करके पूछ सकते हैं। अगर आपको यह जानकारी अच्छी लगी हो तो इसे शेयर जरूर करें ताकि सभी को NRI Kya Hota Hai के बारे में जानकारी मिल सके।

About Ainain

मैं इस ब्लॉग का संस्थापक और एक पेशेवर ब्लॉगर हूं। यहाँ पर मैं नियमित रूप से अपने पाठकों के लिए उपयोगी और मददगार जानकारी साझा करता हूं। ❤️

Leave a Comment

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.