रैट और माउस में अंतर क्या है? – Difference between Rat and Mouse in Hindi

आज हम जानेंगे रैट और माउस में अंतर क्या है (What is Difference between Rat and Mouse in Hindi), के बारे में पूरी जानकारी। अगर कोई आपसे सवाल करे की रैट का मतलब क्या होता है तो निश्चित तौर पर आप इसका हिंदी में मतलब चूहा ही बताएंगे और कोई अगर आप से सवाल करें कि माउस का मतलब क्या होता है तो इसका जवाब भी हिंदी में आप चूहा ही बताएंगे, परंतु यहीं पर आप मात खा जाएंगे क्योंकि एक ही शब्द के अलग-अलग अर्थ होते हैं।

रैट को हिंदी भाषा में चूहा ही कहा जाता है परंतु माउस को हिंदी भाषा में किसी अन्य नाम से पुकारते हैं। इसीलिए अगर आपको “रैट और माउस में क्या डिफरेंस है” इसके बारे में जानकारी नहीं है। इस आर्टिकल को आपको अवश्य पढ़ना चाहिए क्योंकि आर्टिकल में आप जानेंगे की रैट और माउस में अंतर क्या होता है। तो आज के लेख में हमसे जुड़े रहे और जाने रैट और माउस से जुड़ी हुई सभी जानकारियां विस्तार से वो भी हिंदी में, इसलिए लेख को अंत तक जरूर पढ़े।

रैट क्या है? – What is Rat in Hindi?

Difference between Rat and Mouse in Hindi
रैट और माउस में अंतर क्या है

रैट को हिंदी भाषा में चूहा कहा जाता है, जो कि सामान्य तौर पर अधिकतर भारतीय घरों में पाए जाते हैं फिर चाहे हम अपने घरों को कितना भी साफ सुथरा रखने का प्रयास क्यों ना करें। चूहे अधिकतर ऐसी जगह पर बिल बनाते हैं, जो किसी कोने में होती है। इसलिए हमारे घरों में भी दीवाल के आसपास चूहे के बिल अधिक मात्रा में देखे जाते हैं। चूहे बिल्ली से काफी डरते हैं, क्योंकि बिल्लियां चूहे को देखते ही इन्हें पकड़ कर के खा जाती है।

चूहे का मुख्य काम होता है किसी भी चीज को चबाना या फिर उसे कुतरना। देखा जाए तो चूहे मुख्य तौर पर अलग-अलग प्रकार की चीजें खाते हैं। शहर में रहने वाले चूहे, घर में रहने वाले चूहे और जंगली चूहे अलग-अलग चीजें खाते हैं परंतु मोटे तौर पर देखा जाए तो अधिकतर चूहे अनाज, फल, सब्जियां, बीज, पौधे और मांस इत्यादि खाते हैं। घरों में रहने वाले चूहे अधिकतर ऐसी जगह पर मंडराते रहते हैं, जहां पर अनाज को स्टोर करके रखा जाता है।

इसके अलावा बता दें कि कुछ लोगों के मन में यह भी प्रश्न होता है, कि चूहे शाकाहारी होते हैं या मांसाहारी, तो बता दें कि चूहे सर्वाहारी होते हैं। यानी कि यह शाकाहारी और मांसाहारी दोनों चीजें खा लेते हैं। चूहे दिनभर यहां वहां खाने की तलाश में घूमते रहते हैं और किसी भी चीज को खाना है या नहीं, इसका निर्णय वह उस चीज को सूंघकर या फिर कुतरकर लेते हैं।

जो चूहे जंगल में रहते हैं, उन्हें जंगली चूहा कहा जाता है और जंगली चूहे घरों में पाए जाने वाले चूहे से आकार में थोड़े से बड़े होते हैं और उनका वजन भी 800 ग्राम के आसपास तक होता है। जंगली चूहे जंगलों में पाए जाने वाले फल, पौधे, और बीज खाते हैं। चूहे दो रंग के होते हैं – सफेद और काले। जो काले चूहे होते हैं यह अक्सर हमारे घरों के आसपास ही मौजूद होते हैं। इसीलिए इन्हें घरेलू चूहा भी कहा जाता है।

काले चूहे की बॉडी के बाल या तो भूरे रंग के होते हैं या फिर काले रंग के होते हैं और इनकी पूंछ थोड़ी लंबी होती है। काले चूहे किसी एक ही देश में नहीं बल्कि दुनिया के अधिकतर देशों में पाए जाते हैं। काले चूहे मांसाहारी और शाकाहारी दोनों चीजें खा लेते हैं। काले चूहे सर्वाहारी चूहे की कैटेगरी में आते हैं, जिसका मतलब यह होता है कि अगर आप इन्हें शाकाहारी चीजें देंगे, तो भी यह उन चीजों को खा लेंगे और अगर आप इन्हें मांसाहारी चीजें देंगे, तो यह मांसाहारी चीजों को भी खा लेंगे।

काले चूहे के खाना खाने की कैपेसिटी के बारे में बात करें तो यह 1 दिन में 15 ग्राम तक का भोजन ग्रहण कर जाते हैं। यह चूहे खेती करने वाले किसानों के लिए काल के समान होते हैं क्योंकि यह किसानों की फसल को नुकसान पहुंचाने का काम करते है। अगर बात करें सफेद चूहे की तो सफेद चूहा बहुत ही प्यारा होता है। इसकी बॉडी के ऊपर बहुत ही हल्के सफेद बाल होते हैं जो मखमल की तरह लगते हैं और लोग इसे घरों में पालना पसंद करते हैं। जिस घर में सफेद चूहा होता है, वहां पर काले चूहे काफी कम मात्रा में देखे जाते हैं। सफेद चूहे फल, बिस्किट, आटा, मकई जैसी चीजों को खाते हैं।

ये भी पढ़े: क्रेडिटर और डेबटर मे अंतर क्या है?

माउस क्या है? – What is Mouse in Hindi?

रैट और माउस में अंतर क्या है 1

माउस को प्वाइंटर भी कहा जाता है। इसकी गिनती कंप्यूटर के इनपुट डिवाइस में होती है। अगर आपको कंप्यूटर में कोई इनपुट देना है, तो आप आसानी से माउस का इस्तेमाल कर सकते हैं, क्योंकि माउस ग्राफिकल यूजर इंटरफेस पर काम करता है। प्वाइंटर डिवाइस के अलावा माउस को प्वाइंटिंग डिवाइस भी कहा जाता है। वर्तमान के समय में कंप्यूटर में इस्तेमाल होने वाले इनपुट डिवाइस में माउस का सबसे ज्यादा इस्तेमाल किया जाता है।

माउस के साइज के बारे में बात करें तो इसका साइज चूहे की तरह होता है और इसका इस्तेमाल करने से कीबोर्ड पर मौजूद बटन का ज्यादा इस्तेमाल करने की आवश्यकता नहीं होती है। आपकी जानकारी के लिए बता दें कि माउस का अविष्कार करने का श्रेय डगलस सी इंजेल्वर्ट नाम के वैज्ञानिक को जाता है, जिन्होंने इसे अमेरिका देश के स्टैनफोर्ड रिसर्च लेबोरेटरी में तैयार किया था।

इसके फुल फॉर्म के बारे में बात करें तो इसका पूरा नाम मैन्युअल ऑपरेटेड यूटिलिटी फॉर सिलेक्टिंग इक्विपमेंट होता है। माउस को जिस चीज पर रख कर के चलाया जाता है, उसे माउस पैड कहा जाता है, जो कि काफी चिकनी सत्तह होती है।‌ इसके अलावा इसका जो प्वाइंटर होता है, वह कंप्यूटर की स्क्रीन पर दिखाई देता है जो तीर के आकार की तरह दिखाई देता है। इसमें टोटल तीन बटन उपलब्ध होती है जिसमें लेफ्ट बटन, राइट बटन और स्क्रोल व्हील शामिल होता है।

माउस का इस्तेमाल इसकी बटन के आधार पर अलग-अलग कामों के लिए किया जाता है। माउस का इस्तेमाल आप लेफ्ट क्लिक करने के लिए, डबल क्लिक करने के लिए, राइट क्लिक करने के लिए, ड्रैग एंड ड्रॉप करने के लिए, स्क्रॉलिंग करने के लिए और प्वाइटिंग करने के लिए कर सकते हैं। इसके प्रकार के बारे में बात करें तो सामान्य तौर पर यह तीन प्रकार का होता है। इसके प्रकार मैकेनिकल माउस, नॉन मैकेनिकल माउस और वायरलेस माउस है।

ये भी पढ़े: ईमेल और जीमेल में क्या अंतर हैं?

रैट और माउस में अंतर – Difference between Rat and Mouse in Hindi

  • रैट और माउस में, रैट एक सजीव चीज है जबकि माउस एक इलेक्ट्रॉनिक चीज है।
  • रैट भोजन ग्रहण करता है। माउस इलेक्ट्रिसिटी ग्रहण करता है।
  • सामान्य तौर पर रैट काले और सफेद दो रंगों में पाया जाते हैं। माउस अलग-अलग रंगों में पाए जाते हैं।
  • रैट और माउस में, रैट ऑटोमेटिक काम करता है। माउस से काम करवाना पड़ता है।
  • रैट यहां से वहां अपने आप जा सकता है। माउस अधिकतर एक ही जगह पर रहता है।
  • रैट किसी भी जगह पर चल सकता है। माउस चिकनी सतह पर काम करता है।
  • रैट अपने आप अलग-अलग काम करता है। माउस से काम करवाने के लिए हमें उसे इंस्ट्रक्शन देने पड़ते हैं।
  • रैट प्रजनन के कारण पैदा होते हैं। माउस का निर्माण इंसान करता है।

ये भी पढ़े: रैम और रोम में क्या अंतर है?

निष्कर्ष

आशा है आपको रैट और माउस के बारे में पूरी जानकारी मिल गई होगी। अगर अभी भी आपके मन में रैट और माउस (What is difference between Rat and Mouse in Hindi) को लेकर आपका कोई सवाल है तो आप बेझिझक कमेंट सेक्शन में कमेंट करके पूछ सकते हैं। अगर आपको यह जानकारी अच्छी लगी हो, तो इसे शेयर जरूर करें ताकि सभी को रैट और माउस के बारे में जानकारी मिल सके।

आपको हमारा यह लेख कैसा लगा?

यह टीम लेख की गुणवत्ता की जांच करके आप तक नई जानकारी पहुंचाने का काम करती है।

Leave a Comment