स्नाइपर क्या होता है? स्नाइपर किसे कहते है? स्नाइपर्स के 2 प्रकार, जानिए Sniper के बारे में सारी जानकारी हिंदी में

आज हम जानेंगे स्नाइपर के बारे में पूरी जानकारी (All the information about a Sniper in Hindi) क्योंकि sniper शब्द को हम बहुत लंबे समय से सुनते चले आ रहे है। किसी भी युद्ध या बंधक जैसी स्थितियों में sniper ही सबसे अधिक मददगार साबित होते है। रूस-यूक्रेन युद्ध में भी sniper ही सबसे ज्यादा मददगार साबित हुए है। sniper को हम इस समय का सबसे खतरनाक इंसान भी कह सकते है क्योंकि वह जो लक्ष्य निश्चित कर लेता है, उसे पाने के बाद ही सुकून की सांस लेता है।

स्नाइपर कौन है, स्नाइपर शब्द का अस्तित्व कैसे और कहां से आया, सबसे पहले स्नाइपर का प्रयोग कहां हुआ, इस समय का सबसे अच्छा स्नाइपर कौन है? स्नाइपर काम कैसे करता है, स्नाइपर घायल हो जाए तो उस काम को कौन करता है, स्नाइपर कौन सी गन यूज करता है? स्नाईपिंग गन कितने प्रकार की होती है? तो आज के इस लेख में जानेंगे की sniper के बारे में सभी महत्त्वपूर्ण जानकारी, विस्तार में जानने को मिलेगी, इसलिए पोस्ट को अंत तक जरूर पढ़े।

स्नाइपर किसे कहते है? – What is a Sniper in Hindi?

Contents show
स्नाइपर क्या होता है
स्नाइपर क्या होता है

स्नाइपर शब्द का अस्तित्व सन् 1770 ई० में ‘घात लगाना’ से आया। स्नाइपर को हिंदी में ‘निशानिची‘ कहते है। स्नाइपर का अर्थ है, घात लगाकर वार करना। इस तकनीक से एक trained स्नाइपर कई मीटर दूर से घात लगाकर वार करता है। स्नाइपर को उसी के देश की मिलिट्री ट्रेनिंग देती है। वह sniper अपने देश के प्रति बलिदान देने के लिए हर समय तैयार रहता है। एक स्नाइपर की असली पहचान हमेशा छुपा कर रखी जाती है अन्यथा उसकी पहचान से उसके परिवार को नुकसान पहुंचाया जा सकता है।

स्नाइपर्स को शूटिंग के अलावा कई और high level के कामों की ट्रेनिंग दी जाती है, जैसे अपने आसपास के वातावरण में घुल मिल जाना, अपने लक्ष्य पर लगातार नजर बनाए रखना, आदि। एक sniper भी हम सभी की तरह एक आम देशवासी ही होता है, पर वह अपने देश के लिए कुछ भी कर गुजरने की हिम्मत रखता है, यही हिम्मत उसे देश की सेवा वो भी गुप्त तरीके से करने का मौका देती है।

एक sniper अपने लक्ष्य से कभी चूकता नहीं है, युद्ध में एक sniper ही सबसे ज्यादा मददगार होता है। किसी भी युद्ध में विजय दिलाने का सबसे ज्यादा श्रेय स्नाइपर का ही होता है, परंतु इनको श्रेय या पुरस्कार कभी नहीं दिया जाता। Sniper कभी भी अपने देश की सेवा के लिए पीछे नहीं हटता है।

स्नाइपर्स का इतिहास क्या है? – What is the history of snipers in Hindi?

स्नाइपर्स का इतिहास सन् 1770 ई० से मिलता है। भारत में अंग्रेज शासन काल के दौरान कुछ सैनिक ‘wader bird‘ – एक छोटा पक्षी जिसे तालाब, नदियों के किनारे देखा जा सकता है, उसका शिकार घात लगाकर करते थे, क्योंकि इसका शिकार करना बहुत मुश्किल माना जाता था। यह पक्षी बहुत ही चतुराई से अपने आसपास के माहौल में घुल मिल जाता था, जिसके कारण इसके शिकार को बहुत ही बड़ी उपलब्धि माना जाता था।

इसी खेल को आगे चलकर स्नाइपिंग का नाम दे दिया गया। स्नाइपिंग मतलब वो कार्य जिसे sniper अंजाम देता है। इस समय संपूर्ण विश्व में ‘वाली‘ जितना trained sniper कोई और नहीं है। उसे ही इस समय का सबसे बेस्ट sniper माना जाता है।

ये भी पढ़े: किन्नर कौन होते हैं? किन्नर कैसे पैदा होते हैं?

स्नाइपर्स का काम क्या है? – What is the work of Snipers in Hindi?

स्नाइपर्स का काम हैं, किसी भी देश की गुप्त जानकारी हासिल करके, उसको अपने देश पहुंचाना, खुद को दूसरे देश में छिपाए रखना और साथ में जरूरत पड़ने पर, अपने देश की सुरक्षा के लिए high level के अधिकारी एवं शत्रु जोकि उसके देश के लिए खतरा हैं, उनका खात्मा करना। एक स्नाइपिंग टीम में दो सदस्य होते है, एक शार्प शूटर या स्नाइपर, जोकि हथियारों को चलाता है एवं दूसरा जिसे स्पॉटर (Spotter) कहते है, वह आसपास के इलाके को लागतार चेक करता रहता हैं और sniper को उसके बारे में बताता रहता है।

Sniper का काम केवल शूट करना है, बाकी सारी जानकारी sniper तक पहुंचाने का काम स्पॉटर का होता है, जैसे की – कितने टारगेट्स है, क्या-क्या समान है, किसे शूट करना है, किसे बचाना है, आदि। स्पॉटर, sniper को वह सभी जानकारी देता है, जिसे sniper पता नहीं कर सकता है। जिस स्थान पर sniper छिपा हुआ है, उसको छिपाए रखना भी स्पॉटर का ही काम है।

इन सभी जानकारियों के साथ-साथ, टारगेट कितनी दूर है, हवा कितनी तेज़ चल रही है, कितनी गर्मी है, यह काम भी स्पॉटर का ही है। एक sniper कभी अकेले काम नहीं करता, वह साथ में एक साथी sniper अवश्य रखता है। यदि किसी भी परिस्थिति में वह शूट करने की स्थिति में नहीं है या फिर वह घायल है, तो वह साथी उस काम को अंजाम देता है। एक sniper को सिर्फ शूटिंग के लिए ही नहीं भेजा जाता है, बल्कि कई दूसरे काम भी कराए जाते है, जैसे युद्ध में दुश्मन सेना पर लगातार नजर बनाए रखना।

उनके हर कदम की जानकारी देते रहने। इस स्थिति में sniper एक ऊंची सुरक्षित जगह से लगातार जानकारी भेजता रहता है, जिससे दुश्मन सेना पर आसानी से जीत पाई जा सके। साथ में वह उन जगह को भी खाली करने का काम करता है, जिससे सेना को आगे बढ़ पाने में दिक्कत हो रही होती है। स्नाइपर्स का काम केवल लोगो को मारना नहीं होता, कभी-कभी उनको समान को खत्म करने का भी ऑर्डर दिया जाता है। जैसे – विस्फोटक समान, रेडियो, ट्रांसमीटर, जनरेटर आदि को खत्म करना, ईधन वा पानी की सप्लाई को रोकना।

ये भी पढ़े: काला गोंद क्या होता है? काला गोंद कैसे बनता है?

स्नाइपर कितने प्रकार के होते है? – How many types of Snipers are there in Hindi?

स्नाइपर्स दो प्रकार के होते है।

  1. पुलिस स्नाइपर्स – यह स्नाइपर्स पूरी तरह से police department के लिए काम करते है। इनको तैनात तब किया जाता है, जब शहर में किसी कैदी, आतंकवादी ने किसी को बंधक बना लिया हो।
  2. मिलिट्री स्नाइपर्स – यह स्नाइपर्स देश की मिलिट्री के लिए काम करते है। इन्हे राष्ट्रीय तथा अंतरराष्ट्रीय सुरक्षा के मद्देनजर ट्रेनिंग दी जाती है। इन्हे देश के दुश्मनों का खात्मा करने के लिए ही ट्रेनिंग दी जाती है।

स्नाईपिंग राइफल क्या होती है? – What is a Sniping Rifle in Hindi?

स्नाईपिंग राइफल एक लंबी दूरी की, सबसे अच्छी क्षमता की राइफल होती है। इस समय की स्नाईपिंग राइफल हल्की होने के साथ-साथ कही भी ले जाई जा सकती है। स्नाईपिंग राइफल्स में एक लंबी दूरी की सबसे अच्छी दूरबीन भी लगी होती है, जिससे sniper को अपना लक्ष्य पाने में आसानी होती है। दुनिया की सबसे पहली लंबी दूरी की स्नाईपिंग राइफल, ‘व्हिटवर्थ राइफल‘ (Whitworth Rifle) मानी जाती है, जिसे ‘सर जोसेफ व्हिटवर्थ‘ (Sir Joseph Whitworth) ने बनाया था, जोकि एक जानेमाने ब्रिटिश इंजीनियर थे।

इस राइफल का निर्माण सन् 1850 ई० के आसपास हुआ था। इस राइफल में एक लंबी षट्भुज (hexagon) नली होती थी, जोकि गोली को रफ्तार के साथ-साथ दिशा भी देती थी। इस नली से गोली सीधी जाने के साथ-साथ गोल घूमती हुई जाती थी, जिससे गोली की रफ्तार में लगातार बढ़ती जाती थी और निशाना में चूक को गुंजाइश ही नहीं होती था। इन शुरुआती राइफल्स में दूरबीन तो लगी होती थी, परंतु उसे अपने हिसाब से adjust कर पाना एक बहुत बड़ी दिक्कत थी क्योंकि यह दूरबीन एक जगह पर fix होती थी।

सन् 1870 ई० आते-आते, इस दिक्कत में काफी सुधार हुआ, और अब sniper उस दूरबीन से करीब एक मील (mile, 1 मील – 1.609 किलोमीटर) तक देख सकता था। प्रथम विश्व युद्ध में स्नाईपिंग राइफल्स का प्रयोग काफी बढ़ गया। स्नाईपिंग राइफल्स का प्रयोग अब युद्धों में रोजाना होने लगा। स्नाईपिंग राइफल्स चलाने के लिए अब साधारण सैनिकों को भी ट्रेनिंग दी जाने लगी। जर्मनी ने अपने trained सैनिकों को स्नाईपिंग राइफल्स देना शुरू किया।

जिनमे रात में भी देखने वाली दूरबीन (Night Vision Telescope) लगी हुई थी, जिससे उन सैनिकों की क्षमता में काफी सुधार आया। द्वितीय विश्व युद्ध आते-आते स्नाइपर्स अपना लक्ष्य पाने में और भी अच्छे होते जा रहे थे। दोनो विश्व युद्ध के दौरान ही स्नाइपर शब्द का रोजाना प्रयोग होने लगा, इससे पहले इन्हे शार्प शूटर्स कहते थे। धीरे-धीरे स्नाईपिंग राइफल्स को अन्य राइफल्स की तुलना में सबसे उच्च दर्जा दिया जाने लगा। साथ ही इन राइफल्स को सबसे घातक माना जाने लगा।

ये भी पढ़े: अपने जिओ सिम का नंबर कैसे जाने?

स्नाईपिंग राइफल्स कितने प्रकार की होती है? – How many types of Sniping Rifles are there in Hindi?

स्नाईपिंग राइफल्स तीन प्रकार की होती है –

  1. बोल्ट एक्शन राइफल्स (Bolt Action Rifles) –
    जिन राइफल्स में सब कुछ मैनुअली करना पड़ता है अर्थात् लोडिंग और फायरिंग उन्हें बोल्ट एक्शन राइफल्स कहते है।
  2. सेमी-ऑटो प्रिसिजन राइफल्स (Semi-Auto Precision Rifles) –
    जिन राइफल्स में आपको सिर्फ फायरिंग बार बार करनी पड़ती है उन्हे सेमी ऑटो प्रिसिजन राइफल कहते है।
  3. ऑटो प्रिसिजन राइफल्स (Auto Precision Rifles) –
    जिन राइफल्स में सब कुछ ऑटोमैटिक होता है बस ट्रिगर एक बार दबाना होता है, उन्हे ऑटो प्रिसिजन राइफल्स कहते है।

विश्व की सबसे बेहतर एवं अच्छी स्नाईपिंग राइफल्स यह है – World’s Best Sniping Rifles in Hindi?

स्नाइपर क्या होता है 1
  1. मैक्मिलियन टैक – 50 (MacMillion Tac – 50)
  2. बैरेट एम 82/90/95/98बी (Barrett M 82/90/95/98B)
  3. बैरेट एक्सएम 109/500 (Barrett XM 109/500)
  4. वीएसएस विंटोरेज (VSS Vintorez)
  5. विधवंशक (Vidhwanshak)
  6. टैंगो 851 (Tango 851)
  7. बराक एचटीआर 2000 (Barak HTR 2000)
  8. आर्मालाइट एआर 50 (Armalite AR 50)

ये भी पढ़े: सोना क्या होता है? सोना कैसे बनता है?

विश्व का सबसे लंबा स्नाइपर हमला कौन सा है? – Which is world’s longest Sniper shot in Hindi?

विश्व का सबसे लंबा sniper हमला ‘वाली‘ नाम के sniper ने किया था । वाली ने मैकमिलन टैक – 50 राइफल का प्रयोग करके 3.5 किलोमीटर का शॉट लेकर मोसुल (Mosul) में इस्लामिक स्टेट (जिसे हम ISIS के नाम से जानते है) के एक आतंकवादी को मार गिराया था। वाली को विश्व का सबसे खतरनाक और सबसे अच्छा sniper माना जाता है क्योंकि जहां अच्छे से अच्छा स्नाइपर एक दिन में 7 से 10, शॉट लेता है, उसी जगह वाली एक दिन में 40 शॉट लेने का दम रखते है।

स्नाइपर के बारे में अक्सर पूछे जाने वाले सवाल

इस समय को सबसे खतरनाक स्नाइपर कौन है?

वाली।

स्नाइपर कितने प्रकार के होते है?

दो।

स्नाइपर राइफल्स कितने प्रकार की होती है?

तीन।

दुनिया की सबसे पहली लंबी दूरी की स्नाइपर राइफल कौन सी थी?

व्हिटवर्थ राइफल।

स्नाइपर को और किसी नाम से भी जाना जाता है?

हां, शार्प शूटर और निशानीची।

निष्कर्ष

आशा है आपको स्नाइपर के बारे में पूरी जानकारी मिल गई होगी। अगर अभी भी आपके मन में स्नाइपर क्या है  (What is Sniper in Hindi) को लेकर आपका कोई सवाल है तो आप बेझिझक कमेंट सेक्शन में कमेंट करके पूछ सकते हैं। अगर आपको यह जानकारी अच्छी लगी हो, तो इसे शेयर जरूर करें ताकि सभी को स्नाइपर के बारे में जानकारी मिल सके।

आपको हमारा यह लेख कैसा लगा?

यह टीम लेख की गुणवत्ता की जांच करके आप तक नई जानकारी पहुंचाने का काम करती है।

Leave a Comment