आईपी एड्रेस क्या होता है? IP Address के प्रकार, वर्जन, क्लास और उपयोग क्या है?

आज हम जानेंगे आईपी एड्रेस की पूरी जानकारी (IP Address in Hindi) के बारे में क्योंकि आईपी एड्रेस का नाम बार-बार उन्हें ही सुनने को मिलता है, जो या तो कंप्यूटर का इस्तेमाल करते हैं या फिर इंटरनेट को चलाते हैं। आईपी एड्रेस एक ऐसा शब्द है, जो कंप्यूटर की दुनिया में बहुत ही जाना माना हुआ नाम है। इसे रोज हम इंटरनेट पर कहीं ना कहीं पढ़ते अवश्य है, परंतु हमें शायद ही कभी यह जानने की फुर्सत हो कि वास्तव में आईपी एड्रेस होता क्या है।‌

आपको भी हो सकता है कि इसका पूरा मतलब ना पता हो और आप यह जानते न हो कि वास्तव में आईपी एड्रेस क्या है। आज के इस लेख में जानेंगे कि ip address kya hota hai, आईपी एड्रेस के प्रकार, आईपी एड्रेस कैसे पता करें, आईपी एड्रेस का उपयोग, IP Address Classes in Hindi, आदि की सारी जानकारीयां विस्तार में जानने को मिलेंगी, इसलिये पोस्ट को लास्ट तक जरूर पढे़ं।

आईपी एड्रेस क्या होता है? – What is IP Address in Hindi

Contents show
Ip Address In Hindi
Ip Address In Hindi

सबसे पहले तो आपको यह बता दे कि, आईपी ऐड्रेस शब्दों में नहीं होता है, यह अंकों में होता है और इंटरनेट पर ip-address एक प्रकार से डिजिटल पते की तरह अपना वर्क करता है।‌आईपी एड्रेस जितने भी कंप्यूटर नेटवर्क होते हैं, उनमे जो भी साधन कनेक्टेड होते हैं, सबसे पहले उन्हें आईडेंटिफाई करता है और साथ ही साथ डाटा को यहां से वहां पहुंचाने में भी मददगार साबित होता है।

कई लोगों के मन में यह क्वेश्चन रहता है कि क्या सभी डिवाइस का आईपी एड्रेस बिल्कुल एक ही होता है तो हम बता दें कि नहीं ऐसा नहीं है। दुनिया में जितने भी डिवाइस है, सभी का आईपी ऐड्रेस अलग-अलग होता है, क्योंकि सभी डिवाइस के मालिक भी अलग-अलग होते हैं।

जिस प्रकार इंसानों के नाम के द्वारा हम उसे पहचानते हैं, उसी प्रकार आईपी ऐड्रेस के द्वारा भी कंप्यूटर की पहचान की जाती है। जैसे ही कोई व्यक्ति अपने स्मार्टफोन को या फिर कंप्यूटर को इंटरनेट से जोड़ता है, वैसे ही उसे एक आईपी एड्रेस प्राप्त हो जाता है, जो उसके डिवाइस की पहचान करवाता है।

IP का फुल फॉर्म क्या होता है? – What is IP Full Form In Hindi?

IP का Full Form “Internet Protocol” होता है। हिंदी में IP का फुल फॉर्म “अंतरजाल नियमावली” होता है।दुनिया में जितने भी कंप्यूटर हैं और जितने भी स्मार्टफोन है, उन सभी में अलग-अलग आईपी एड्रेस होता है। यहां तक कि हर उस चीज में अलग-अलग ip-address होता है, जिसमें इंटरनेट प्रोटोकॉल वर्क करता है।

आईपी एड्रेस का इतिहास क्या है? – History of IP Address in Hindi

  • मौजूदा समय में इंटरनेट पर टोटल 2 डिफरेंट प्रकार के ip-address को यूज में लिया जाता है, जिसमें पहला‌ IPv4 है और दूसरा IPv6 है।
  • आईपी एड्रेस का बेसिक वर्जन Arpanet के द्वारा साल 1983 में डेवलप हुआ।
  • टोटल 32 बिट का कोई भी आईपी एड्रेस होता है।
  • आईपी एड्रेस में 4,297,967,296 एड्रेस स्पेस लिमिटेड होते हैं।
  • आईपी की स्टार्टिंग में ज्यादा से ज्यादा नेटवर्क नंबर की संख्या 8 थी।
  • साल 1995 में आई पी एड्रेस में 132 का इस्तेमाल किया गया और नए डिजाइन दी गई।‌इसे ही इंटरनेट प्रोटोकोल 6 कहां गया।

आईपी एड्रेस का वर्जन क्या है? – Version of IP Address

इसके टोटल 2 वर्जन है, जिसकी इंफॉर्मेशन नीचे आपको दी गई है।

1. IPv4

यह दशमलव की सहायता से टोटल 4 पार्ट में डिवाइड होता है और इसके अंदर टोटल 32 बिट होते हैं और इसकी हर रेंज 0 से 255 के आसपास होती है। यह आपको नीचे दिए गए प्रकार की तरह दिखाई देता है:-192.106.254.201

2. IPv6

इंटरनेट का इस्तेमाल करने वाले लोगों की संख्या के बढ़ने के कारण इसे डिवेलप किया गया। इसके अंदर अब डिफरेंट प्रकार के बहुत सारे ip-address होते हैं तथा टोटल 128-bit इसमें होते हैं। यह भी 8 पार्ट में बटा हुआ है और यह नीचे दिए गए प्रकार से दिखाई देता है:- 2409:2452:4e06:44e0:cf7:3084:fb21:206d

आईपी एड्रेस के प्रकार – Types of IP Address in Hindi

इसके टोटल 2 प्रकार हैं। पहला है प्राइवेट आईपी एड्रेस और दूसरा है पब्लिक आईपी एड्रेस। नीचे जानिए इन दोनों प्रकारों के बारे में।

1. प्राइवेट आईपी ऐड्रेस

यह जो प्राइवेट आईपी एड्रेस होता है, यह आपके डिवाइस को नेटवर्क राउटर के साथ एसाइन करने का काम करता है। इसके साथ ही साथ यह आपके घर में जो नेटवर्क लगा हुआ होता है या फिर आप के ऑफिस में जो नेटवर्क होता है, उसे सिक्योर बनाए रखने में भी सहायता करता है।

ये भी पढ़ें : एंड्रॉइड क्या होता है? एंड्रॉइड का वर्जन, इतिहास, फायदे और नुकसान क्या है?

2. पब्लिक आईपी ऐड्रेस

इस प्रकार का आईपी एड्रेस आपके इंटरनेट सर्विस प्रोवाइडर की सहायता लेता है और उसके जरिए नेटवर्क राउटर को असाइन करने का काम करता है। जितने भी डिवाइस होते हैं, उन सभी का अपना खुद का एक अलग से ही पर्सनल आईपी एड्रेस होता है, परंतु जैसे ही वह डिवाइस को इंटरनेट से जोड़ते हैं, वैसे ही वह इंटरनेट से पब्लिक आईपी एड्रेस के द्वारा जुड़ जाता है और यही वजह है कि उनका जो प्राइवेट आईपी एड्रेस होता है, वह हाइड हो जाता है।

आईपी एड्रेस का उपयोग – Use of IP Address in Hindi

Use Of Ip Address
Use Of Ip Address

आईपी एड्रेस के उपयोग की इंफॉर्मेशन नीचे बताए अनुसार है।

  • इंटरनेट यूजिंग
  • फाइल शेयरिंग
  • मल्टीपल डिवाइस कनेक्टिंग
  • लोकल सर्वर होस्ट

आईपी एड्रेस की क्लास क्या है? – What is IP Address Classes in Hindi

इसकी टोटल 5 क्लास है, जिसकी इंफॉर्मेशन आगे आपको बताई जा रही है।

1. Class A

बहुत सारे होस्ट वाले इस क्लास का इस्तेमाल बड़े नेटवर्क के लिए किया जाता है और इसकी रेंज 1 से लेकर के 127 के बीच में होती है।

2. Class B

इस आईपी ऐड्रेस का स्टार्टिंग का 16 और आखरी का 16 बिट वाला होस्ट नेटवर्क का प्रतिनिधित्व करता है और इसकी रेंज 128 से 191 के आसपास होती है। यह जो मीडियम साइज के नेटवर्क होते हैं, उनमें इस्तेमाल होता है।

3. Class C

इसकी रेंज 192 से 223 के आसपास होती है और जो छोटे साइज के नेटवर्क होते हैं, उनमें इसे यूज में लिया जाता है। इसमें स्टार्टिंग के 24 बिट और आखिरी के 8 बिट नेटवर्क होस्ट करते हैं।

4. Class D

मल्टीकास्टिंग एप्लीकेशन के लिए आरक्षण में रखे हुए इस क्लास की रेंज 224 से लेकर के 239 तक होती है।

5. Class E

आपकी इंफॉर्मेशन के लिए बता दें कि अभी तक इसकी कोई भी व्याख्या नहीं की गई है। इसकी बस रेंज है, जो कि 240 से लेकर के 243 के बीच में है। फ्यूचर में इसका इस्तेमाल किया जा सकता है।

आईपी एड्रेस कैसे पता करें? – How to Find your IP Address?

1. अपने स्मार्टफोन में कोई भी ब्राउज़र ओपन करें।

2. ब्राउज़र पर होने के बाद सर्च बॉक्स पर टैप करें।

3. अब “What is My ip Address” लिखे और सर्च कर दे

Whats My Ip

4. सर्चिंग की प्रोसेस पूरी होने के बाद आपको अपनी स्क्रीन पर आपका आईपी एड्रेस दिखाई देगा।

आईपी एड्रेस कौन मैनेज करता है? – Who Manages the IP Address

बता दे कि वैसे तो ip-address को मैनेज करने की जिम्मेदारी इंटरनेट असाइनमेंट नंबर अथॉरिटी के पास है परंतु अलग-अलग देशों में इसे बांटने की जिम्मेदारी कुछ अलग-अलग संस्थाओं को दी गई है, जिनके नाम नीचे बताए अनुसार हैं।

  • ARIN: अमेरिकन रजिस्ट्री फॉर इंटरनेट नंबर
  • LACNIC: लेटिन अमेरिकन एंड कैरेबियन इंटरनेट एड्रेस रजिस्ट्री
  • AFRINIC: अफ्रीकन नेटवर्क इनफॉरमेशन सेंटर
  • APNIC: एशिया पेसिफिक नेटवर्क इनफॉरमेशन सेंटर
  • RIPE NCC: रिसोकस आईपी यूरोपियन नेटवर्क कोऑर्डिनेशन सेंटर

IP Address से संबंधित अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न

आईपी एड्रेस का इस्तेमाल क्यों किया जाता है?

किसी भी डिवाइस को आईडेंटिफाई करने के लिए

आईपी एड्रेस का फॉर्मेट कैसा होता है?

अंकों में

क्या ip-address को सामान्य इंसान समझ सकते हैं?

थोड़ा थोड़ा

आईपी एड्रेस के कितने पार्ट होते हैं?

4

IANA का पूरा नाम क्या है?

Internet Assigned Numbers Authority

IPv4 मे कितने बिट हैं

32

IPv6 मे कितने बिट हैं?

128

निष्कर्ष

आशा है आपको आईपी एड्रेस क्या होता है के बारे में पूरी जानकारी मिल गई होगी। अगर अभी भी आपके मन में ip address kya hai (what is ip address in Hindi) और आईपी एड्रेस क्या है को लेकर आपका कोई सवाल है तो आप बेझिझक कमेंट सेक्शन में कमेंट करके पूछ सकते हैं। अगर आपको यह जानकारी अच्छी लगी हो तो इसे शेयर जरूर करें ताकि सभी को ip address kya hai में जानकारी मिल सके।

आपको हमारा यह लेख कैसा लगा?

मैं supportingainain ब्लॉग का संस्थापक और एक पेशेवर ब्लॉगर हूं। यहाँ पर मैं नियमित रूप से अपने पाठकों के लिए उपयोगी और मददगार जानकारी साझा करता हूं। ❤️ Contact us via Email - [email protected]

Leave a Comment