Best Computer Course list for job जॉब के लिए कौन से कंप्यूटर कोर्स करें?

Best Computer Courses? अच्छी Job पाने के लिए Best Computer Courses List, जैसा की आप जानते ही है कंप्यूटर हमारे जीवन से जुडा़ एक अभिन्न आविष्कार के रूफ में साबित होता है। किसी भी निजी विभाग से लेकर सरकारी विभागों में कंप्यूटर का पूर्ण उपभोग किया जाता है।

Best Computer Courses for job
Computer Courses

फॉटोशॉप सीखे- Learn Photoshop in Hindi

विषय-सूची

Photoshop को एक अद्भुत कला समझने वालो के लिये इस पोस्ट में Learn Photoshop in Hindi से जुडी़ जरूरी बाते जरूर काम आने वाली साबित होगी। यह एक जटिल प्रक्रिया होती है। मगर यदि एक बार कोई फोटोशॉप को सीख लेतख है तो वह मिनटों में बारीकी से फोटोशॉप कर सकता है।

Photoshop किसी प्रकार का जादू नहीं बल्कि एक रचनात्मक क्रिया हैं ।

Photoshop के User Interface में grey color का हिस्सा उसका work-space होता है। Grey Area के Left Side में Image से जुडे़ हुये काफी सारे Tool होते हैं

किसी भी Tool का चुनाव करने पर उस Tool से संबंधित विकल्प ऊपर की पट्टी पर Display हो जायेंगे। ऊपर दी गयी Menu Bar में कुछ Menu विकल्प जैसे कि File, Image, Layer, Select etc. दिखायी देते हैं।

File Menu में File से जुडी़ सभी विकल्प जैसे File Open, File Close. File Save As करना इत्यादि होते हैं। इसी तरीके से भी Edit Menu में File Edit और अन्य सभी मेन्यू भी इसी तरह होते हैं।

जब किसी इमेज़ पर काम करते है तो File Menu के आगे अंकित मेन्यू भी Enable हो जाते हैं, तब तक वो सभी Disable ही रहते हैं।

 

सबसे पहले Work-space में Photo Open करें (Ctrl+O)

 

Photoshop Tool-

Lasso ToolPhoto Cutting करने के लिये Lasso tool को काम में लेते है।

Zoom ToolPhoto Cutting के लिये Image Zooming करने के लिये

Polygon Lasso Tool– इसके द्वारा Background Layer Cut कर सकते है। अथवा इस टूल से किसी भी हिस्से को कितनी भी बार क्लिक कर select ad cut कर सकते हैं।

Zoom Tool में भी तीन विकल्प प्रदर्शित होते हैं

  • Actual Pixels
  • Fit on Screen
  • Print Size

 

Photoshop के बाद या दौरान

Ctrl+C द्वारा इमेज़ Cut किया जा सकता है और

Ctrl+V द्वारा उस इमेज़ को Paste कर सकते है।

 

इस प्रकार इमेज़ को Edit कर और Photoshop कर कट पेस्ट के द्वारा अपनी इमेज़ मनचाहे बैकग्राउण्ड पर Paste कर सकते हैं।

कंप्यूटर हार्डवेयर कोर्स- Computer Hardware Course

कंप्यूटर हार्डवेयर क्या है? और इसमें क्या होता है? जैसे प्रश्नों के बारे में आपको यह पोस्ट पढ़कर जानने को मिलेगा। कंप्यूटर के वे भौतिक भाग जिन्हें हम देख और स्पर्श कर सकते हैं जैसे; Processor, Ram, CPU, Monitor, Mouse आदि हार्डवेयर हैं। इन Hardware की सहायता से हम Computer का निर्माण करते हैं।

वर्तमान में Computer जितना तेजी से लोगों की डेस्क पर पहुंच रहा है, उतनी ही तेजी से उसका उपभोग भी हो रहा है। कंप्यूटर के उपभोग के कारण उसके हार्डवेयर पार्ट्स की Servicing और Re-paring करने के लिये इंजीनियरों की आवश्यकता होती है, जिन्हें Hardware Course in Hindi का पूरा ज्ञान आना चाहिये, इन्हें Hardware Engineer कहते हैं।

 

Curriculum for Computer Hardware Course

  • Computer की Hardware संरचना के बारे में सीखें
  • Microprocessor संरचना के बारे में सीखें
  • Computer Memory के बारे में सीखें
  • Motherboard के बारे में सीखें
  • Computer Power Supply (SMPS) के बारे में सीखें
  • Hard Disk Drive (HDD) के बारे में सीखें
  • How to Assemble A Computer के बारे में सीखें
  • How to Setup BIOS/CMOS
  • Keyboard, Mouse, Printer के बारे में सीखें
  • Hardware Troubleshooting (हार्डवेयर ट्रबलशूटिंग)

 

बेसिक कंप्यूटर कोर्स- Basic Computer Courses

बेसिक अर्थात् किसी भी चीज को उसके न्यूनतम या सामान्य स्तर पर जानना होती है। इसी प्रकार Basic Computer Courses में कंप्यूटर से जुडी़ सामान्य जानकारियां सिखायी जाती है। इसके लिये विभिन्न कोर्सेज़- Diploma in Computer Application (DCA) जैसे कोर्सेज़ होते हैं। अनेक संस्थाओं द्वारा विभिन्न कोर्सेज़ चलाये जा रहे हैं मगर सभी में Basic Knowledge ही होती है।

Basic Computer Courses में History Of Computer, Computer का Introduction से लेकर Software & Hardware, Windows Overview 7,8,10 तक के बारे में सभी जानकारी दी जाती हैं।

बेसिक कंप्यूटर कोर्स कोई भी व्यक्ति सीख सकता है, बस उसे बेसिक़ अंग्रेजी पढ़ना आना चाहिये। यदि आप कम से कम 10वीं अथवा 12वीं क्लास की योग्यता रखते हैं, तो आपके लिये यह आसान होगा। और यदि आप ग्रेजुएट स्तर की पढा़ई किये है तो, भी यह कोर्स करने के लिये आप सक्षम होंगे।

बेसिक कंप्यूटर कोर्स  करने के बाद संस्था द्वारा एक सर्टिफिकेट दिया जाता है। यह सर्टिफिकेट नौकरी के वक्त दस्तावेजीकरण करवाते समय काम आता है, किंतु यह सरकारी नौकरी में तो कम काम मे आता है मगर प्राईवेट नौकरी में Documents के साथ लगाना होता है।

 

एक्सेल का बेसिक कोर्स- Microsoft Excel Basic & Advanced Course

आपको कंप्यूटर चलाना तो आता है मगर इंटरनेक की सुविधा कैसे ली जाये और किस प्रकार Computer में Search Engine पर काम किया जाता है यह सभी जानकारी आपको माइक्रोसोफ्ट एक्सेल बेसिक & एडवांस्ड कोर्स में सिखायी जाती है।

जिसके अंतर्गत इंटरनेट चलाना– Browser( Mozilla Firefox, Chrome, Internet Explorer etc.) को किस प्रकार चलाया जाता है। Surfing, File Downloading, Uploading, Google इत्यादि के बारे में जानकारी दी जाती है।

 

एम. एस. वर्ड का बेसिक कोर्स – Microsoft Word Basic & Advanced

MS Word को ‘Word’ नाम से भी जाना जाता है, जो एक Word Processor है। Ms word Office का एक भाग होता है। Word द्वारा किसी भी Document को Create, Edit,Open,Save as, Formatting, Share, Paragraphing, Table बनाने एवं Print आदि करने का कार्य करता है। MS Word अपने पहले संस्करण MS Word 2007 से ही अब तक सर्वाधिक प्रचलन में है।

MS WORD की विंडो के मुख्य भाग निम्न हैं:
  • Office Button
  • Quick Access Toolbar
  • Title Bar
  • Ribbon
  • Menu bar
  • Ruler bar
  • Status bar
  • Scroll bar
  • Text area

 

विजु़अल इफेक्ट्स, एनीमेशन- VFX & Animation Course

VFX का अर्थ Visual Effects होता है। Visual Effects बनाम Animation की अगर बात करें तो,हमने फिल्मों या विज्ञापनों में बहुत से दृश्य ऐसे देखे होंगे जो असलियत से थोडा़ परे होते हैं, उन दश्य को Visual Effects और Animation का इस्तेमाल कर निर्देशित किया जाता है।

 

एनीमेशन क्या है?

यह जटिल प्रक्रिया है जिसके द्वारा छवियों का उपयोग दृश्य को गतिमान करने को एक क्रम में लाकर उन छवियों को सजीव करने का भ्रम पैदा करते किया जाता है।

 

एनीमेशन भी विभिन्न प्रकार के डाले जाते हैं;

  • पारंपरिक एनीमेशन
  • कंप्यूटर एनीमेशन- 2D एनीमेशन, 3D एनीमेशन
  • Stop Motion Animation

 

Visual Effects (VFX)

Visual Effects दृश्य को Imaginary बनाने और हेरफेर में काम आने वाली प्रक्रिया है। VFX एक फिल्म बनाने में सबसे महत्तवपूर्ण तत्वों में से एक है, आमतौर पर फिल्म निर्माण के समय पोस्ट प्रोडक्शन के समय VFX का उपयोग किया जाता है, यह मंहगा आउटपुट होता है।

 

इसकी प्रक्रिया चरणों में बंटी होती हैं;

  • मैट पैंटिंग
  • लाइव एक्शन इफेक्ट
  • डिजीटल एनिमेश

 

डीटीपी कोर्स- DTP Course- Desktop Publishing Course

DTP Print Media Publishing Course होता है। DTP एक डिजीटल टेक्नोलॉजी है जिसका उपयोग वर्तमान दौर में प्रकाशन के लिये किया जा रहा है। इसमें कंप्यूटर द्वारा टाईपिंग द्वारा पेज कम्पोजिंग कर लेज़र प्रिंट के माध्यम से छापा जाता है। अर्थात् सामान्य तरह से कहे तो, डेक्सटॉप कंप्यूटर की सहायता से पूरी तरह छापने योग्य दस्तावेजों को तैयार करना ही डेस्कटॉप पब्लीशिंग कहलाता है। इस कोर्स के द्वारा आप टुकडो़ में बंटी डाटा या सामग्री को आपस में जोड़कर एक पूर्ण दस्तावेज बनाना सीख सके हैं। डीटीपी के लिये Coral Draw एक महत्तवपूर्ण सॉफ्टवेयर है जिसकी मदद से आप दस्तावेज बना सकते है।

 

साईबर सुरक्षा और एथिकल हैकिंग कोर्स- Cyber Security and Ethical Hacking

Cyber Security एक प्रकार का सुरक्षा सिस्टम है जो कि इंटरनेट से जुडे़ हचये सिस्टमों के लिये होती है। इसमें हार्डवेयर, सोफ्टवेयर और डाटा को साईबर क्राईम से बचाने का भी काम किया जाता है। हमने अक्सर देखा या सुना होगा कि बडी़ कंपनियों या लोगों के सर्वर हैक कर लिये जाते हैं, उस परेशानी से बचने के लिये सिस्टम को साईबर सिक्योरिटी द्वारा सुरक्षित किया जाता है।

 

Ethical Hacking क्या है ?

Hacker शब्द बहुत ही जाना पहचाना शब्द है मगर क्या इसका सही मतलब आपको पता है? Hacker का अर्थ कमियों को उजागर करने वाला होता है। हमने अक्सर सुना होगा लोगों की सोशल आईडीज़ हैक हो जाती है, जिससे उनके निजी डेटा को खतरा हो जाता है, ऐसी हैकिंग बैड या ब्लैक हैकिंग कहलाती है। एथिकल हैकिंग कोर्स में इंटरनेट से जुडी़ तमाम बारीक चीजों के बारे में बताया जाता है। इससे संबंधित कोर्स में Security Testing की कार्यप्रणाली, प्रीविलेज एस्कलेटिंग, पैनेट्रेशन टेस्टिंग हैकिंग,वेब सर्विस वायरस ऐंड व्रम आदि से संबंधित जानकारी दी जाती है। इस कोर्स को करने के लिये ग्रेजुएट होना जरूरी होता है।

 

प्रोग्रामिंग लैंग्वेज़ कोर्स- Programming Languages Course

कंप्यूटर भले ही इंसान द्वारा चलाया जाता है, मगर वह इंसानी भाषा नहीं समझ सकता है। कंप्यूटर एक मशीन है जिसको कमाण्ड देने के लिये मशीनी भाषा ही काम में आती है, उस भाषा को Programming Languages कहा जाता है। इस प्रकार के कोर्स में कंप्यूटर को कमाण्ड देने की विभिन्न Programming Languages है|

जैसे: FORTRON, ALGOL, COBOL, LOGO, PASCAL, Basic, C++, JAVA आदि… 

इस प्रोग्रामिंग लैग्वेज़ को सीख कर आप किसी भी अच्छी कंपनी में अच्छे सैलरी पैकेज पर नौकरी कर सकते है।

 

वेब डिजाइनिंग कोर्स- Web Designing Course

आजकल Web Designing के क्षेत्र में पैसा और कैरियर स्कोप की संभावना अधिक है। मगर यह वेब डिजाइनिंग क्या है? Website बनाने की प्रक्रिया को Web Designing कहा जाता है। इसमें Web Page, Content Production, Layout, Graphic Design जैसी कई चीजें सिखायी जाती हैं, जिसे Web Development Process भी कहा जाता है। Web Designer इसके लिये Software Tools और Language को उपयोग में लेता है। Web Designer के पास रचनात्मक गुण और टैक्निकल ऐबिलीटिज़ होनी चाहिये।

इस Web Designing को सीख कर आप किसी भी अच्छी कंपनी में अच्छे सैलरी पैकेज पर नौकरी कर सकते है। या फिर आप खुद freelancer बन कर किसी Client के लिए काम कर सकते है 

 

एनीमेशन और मल्टीमीडिया कोर्स- Animation & Multimedia Courses

मल्टीमीडिया और एनीमेशन एक उच्च केंद्रित और स्वतंत्र व्यावसायिक प्रशिक्षण योग्यता है जो विभिन्न क्षेत्रों में कैरियर के लिए छात्रों को तैयार करने के लिए डिज़ाइन की गई है।

 

Top Colleges For Multimedia and Animation

  • National Institute of Design (NID)
  • Lovely Professional University, Jalandhar
  • Loyola Academy Degree & PG College
  • Arena Animation, Mumbai

 

कंप्यूटर साइंस में डिप्लोमा- Diploma in Computer Science

कंप्यूटर विज्ञान डिप्लोमा कंप्यूटर से जुडी़ सभी चीजों के बारे में अध्ययन करने का कोर्स है। इसके अंतर्गत कंप्यूटर सिस्टम (हार्डवेयर), प्रोग्राम सिस्टम (सोफ्टवेयर), ऐल्गोरिदम्, थ्योरी, लॉजिक, डाटा structure और प्रोग्रामिंग लैंग्वेजेज़ जैसी चीजें सिखायी जाती हैं।

 

डाटा एंट्री ऑपरेटर कोर्स- Data Entry Operator Course

डाटा एंट्री ऑपरेटर कोर्स के अंतर्गत कंप्यूटर में डाटा एंट्री करने का काम सिखाया जाता है, जिन्हें Data Entry Operator कहते हैं, इसके लिये वह किसी भी प्रकार की Data Input Device को काम में ले सकता है

जैसे: Keyboard, Scanner, Bar-code Reader आदि।

Data Entry Operator के लिये न्यूनतम शैक्षिक योग्यता इंटरमीडिएट होती है,  टाईपिंग स्पीड बहुत अच्छी होनी चाहिये, भाषा का पूर्ण ज्ञान और कंप्यूटर का ज्ञान होना आवश्यक है।

 

कम्प्यूटरीकृत लेखा पाठ्यक्रम- Computerized Accounting Course

यह एक Software Program होता है, जिसके द्वारा एक कंपनी नेटवर्क सर्वर या इंटरनेट के माध्यम से दूरस्थ कम्प्यूटरीकृत सिस्टम  पर जानकारी प्राप्त कर सकती है या इकट्ठा कर सकती है। कम्प्यूटरीकृत लेखा कोर्स द्वारा Data Storage की Backup प्रणाली को सिखाया जाता है।

 

कंप्यूटर एडेड डिजा़इन और ड्राइंग कोर्स- COMPUTER AIDED DESIGN AND DRAWING COURSE (CADD)

यह एक प्रकार का सॉफ्टवेयर एप्लीकेशन होता है। जिसका उपयोग डिजाइन बनाने में किया जाता है। इसे 2d, 3d और Drafting के लिये काम में लिया जाता है। CADD यूज़र को एक ऐसा User Interface देता है जिसमें पहले से ही Design Layouts होते हैं।। इसके द्वारा हम लाईन, वृत्त, भुजायें आदि प्रकार की आकृतियां बना सकते हैं। इसके द्वारा पहले से बनायी गयी ड्राईंग में सुधार करके उसे फिर से बनाया जा सकता है।

 

डिजीटल मार्केटिंग कोर्स- Digital Marketing Course

इस कोर्स के अंतर्गत वस्तुओं और सेवाओं की डिजीटल साधनों से मार्केटिंग करने की प्रक्रिया को सिखाया जाता है जिसे Digital Marketing कहते है। आज का युग ऑनलाइन युग है Shopping से लेकर Ticket Booking, Recharge, Bill Payment आदि तक सब ऑनलाइन हो गया है। इंटरनेट के प्रति Users के इस रूझान की वजह से बिजनेस Digital Marketing की ओर जा रहे हैं। डिजीटल मार्केटिंग द्वारा यह आसानी से पता लगाया जाता है कि ग्राहक की उत्पाद से जुडीँ मांगे क्या हैं और कैसा Feedback मिल रहा है। डिजीटल मार्केटिंग द्वारा छोटे बिजनेस से लेकर बडे़ लेवल के बिजनेस तक का प्रमोशन करना बडा़ ही आसान हो चुका है।

 

सर्च इंजन ऑप्टिमाइजेशन कोर्स- Search Engine Optimization Course

किसी भी Blogger के मन में उठा पहला सवाल यही होता है- SEO क्या है?

SEO का full form Search Engine Optimization” होता है, यह एक प्रकार की तकनीक होती है, जिससे हम अपने वेबसाइट पेज को सर्च इंजन में टॉप पर ला सकते हैं। SEO की मदद से हम अपने Blog को सभी Search Engine जैसे गूगल,बिंग,याहू,इत्यादि पर No. 1 Position पर Rank करबा सकते है| 

इसकी मांग मार्किट में बहुत जादा है और Salary भी बहुत जादा होती है कम से कम 50000 हज़ार से सुरु होती है 

 

सोफ्टवेयर टेस्टिंग कोर्स- Software Testing Course

सोफ्टवेयर को कम्प्यूटर की आत्मा माना जाता है। जब सोफ्टवेयर तैयार किया जाता है तो, उसकी गुणवत्ता को परखने के लिये उसका परीक्षण किया जाता है, जिसे सोफ्टवेयर टेस्टर कहा जाता है, जिसके लिये संस्थानों द्वारा Software Testing Course कराया जाता है। जब सोफ्टवेयर इंजीनियर और डेवेलपर्स किसी सोफ्टवेयर को तैयार कर लेते हैं, और इसके बाद Software Tester का काम शुरू होता है।

आमतौर पर इसको दो हिस्सों में बांटा जाता है-

  1. मैनुअली टेस्टिंग
  2. ऑटोमेड टेस्टिंग

 

नेटवर्किंग कोर्स- Networking Course

वर्तमान में संपूर्ण विश्व एक परिवार की तरह बन चुका है मतलब कि आधुनिकीकरण के कारण एक व्यक्ति एक स्थान से दूसरे स्थान तक यात्रा करने या संपर्क करने में कंप्यूटर नेटवर्किंग द्वारा क्रांति आ गयी है। टेलीफोन, रेलवे, बैंकों जैसे क्षेत्रों की सभी कार्य प्रणालियां अब कंप्यूटर द्वारा संचालित होने लगी हैं।

कंप्यूटर से दूसरे कंप्यूटर में डाटा आदि ट्रांसफर करना Networking कहलाता है। Networking के सही तरह से संचालन करने के लिये कंप्यूटर नेटवर्किंग में विलक्षणी युवाओं की जरूरत होती है। कंप्यूटर नेटवर्किंग का कोर्स करने के बाद Network Engineer, Network Security Expert, Network Administrator, Technical Support Engineer ,System Analyser आदि पदों पर कैरियर बनाया जा सकता है।

 

Computer Networking में दो तरह के कोर्स होते हैं-

  1. National Networking
  2. International Networking

 

डेटाबेस एडमिनिस्ट्रेशन कोर्स- Database Administration Course

डेटा अर्थात् कंप्यूटर में संग्रहित आंकडो़ की प्रबंधन प्रक्रिया Database Administration Course के अंतर्गत सिखायी जाती है। डेटाबेस प्रशासन में डाटाओं को Organize करते हुये इकट्ठा करना बताया जाता है। Database Administration संगठनात्मक मानकों के अनुसार डेटा की गुणवत्ता निश्चित करने के लिये की गयी गतिविधियाओं के प्रबंधन की प्रक्रिया है।

 

डेटा एनालिस्ट, डोमेन एनालिस्ट कोर्स- Data Analyst, Domain Analyst Course

डाटा से जानकारी निकालने की प्रक्रिया Data Analysis कहलाती है जिसे Data Analyst द्वारा किया जाता है। Data Analyst Course में डाटा सेट स्थापित करना, प्रोसेसिंग के लिये डाटा तैयार करना, मॉडलों को लागू करना, प्रमुख निष्कर्षों की पहचान करना और रिपोर्ट तैयार करने जैसे चरण सिखाये जाते हैं।

Domain Analyst Course के अंतर्गत किसी डॉमेन से संबंधित सॉफ्टवेयर सिस्टम से जुडी़ चरणों के बारे में जानकारी देते हैं।

 

इनफॉर्मेशन सिक्योरिटी कोर्स- Information Security Course

Computer, Data और नेटवर्क को खराब और Unauthorized Access से सुरक्षित रखने के लिये एक तकनीकी प्रक्रिया सिखायी जाती है, जो Information Security Course के अंतर्गत आती है।

 

Conclusion

यह पोस्ट Best Computer Courses for job- जॉब के लिए कौन से कंप्यूटर कोर्स करें? को पढँकर आपको यह तो पता चल गया होगा कि कैरियर बनाने के लिये युवाओं के पास ढे़रों विकल्प मौजूद है। यह कंप्यूटर से जुडी़ तकनीकी पोस्ट को पढ़कर आपको अपने कैरियर में चुनाव के लिये Different Computer Courses in Hindi के बारे में पर्याप्त जानकारी मिल गयी होगी। अगर आपके मन में कुछ सवाल है Job के लिए Best Computer Courses List के प्रति आप हमे निचे comment box में comment कर के जरुर बताये

Leave a Comment

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.