ठेकेदार क्या होता है? Thekedar कैसे बने? जानिए Thekedar बनने से जुड़ी सभी जानकारी हिंदी में

आज हम जानेंगे ठेकेदार (Thekedar) कैसे बने पूरी जानकारी (How To Become Contractor Details In Hindi) के बारे में क्योंकि खुद गवर्नमेंट के पास इतना टाइम नहीं होता है कि वह हर गांव में या फिर हर शहर में रोड या फिर रास्ते का निर्माण करें,इसीलिए गवर्नमेंट अखबारों के माध्यम से टेंडर की प्रक्रिया निकालती है और फिर टेंडर के माध्यम से विभिन्न ठेकेदारों को टेंडर को भरने के लिए आमंत्रण देती है, जिसके बाद बहुत सारे ठेकेदार गवर्नमेंट टेंडर को भरते हैं और उसमें से जिस ठेकेदार को टेंडर प्राप्त होता है,उसे ही रोड, इमारत का ठेका दिया जाता है।

इसके बाद गवर्नमेंट का आदेश पाने के बाद ठेकेदार अपना काम स्टार्ट कर देता है। आज के इस लेख में जानेंगे कि Thekedar Kaise Bane, ठेकेदार बनने के लिए क्या करे, Contractor Meaning In Hindi, Thekedar Kya Hota Hai, ठेकेदार बनने का तरीका, Thekedar Kaise Bante Hain, आदि की सारी जानकारीयां विस्तार में जानने को मिलेंगी, इसलिये पोस्ट को लास्ट तक जरूर पढे़ं।

ठेकेदार किसे कहते हैं? – What is Contractor Information in Hindi?

Contractor Kaise Bane
Contractor Kaise Bane

ठेकेदार उस कंपनी को कहा जाता है, जो किसी इमारत या फिर रोड का ठेका प्राप्त होने के बाद उसे बनवाने का काम करता है या फिर उसकी रिपेयरिंग करवाने का काम करता है। ठेकेदार प्राइवेट कंपनी या फिर लोगों का भी ठेका लेता है और गवर्नमेंट कंपनी का भी ठेका लेता है।

ठेकेदार कैसे बने? – How to Become Contractor?

ठेकेदार बनने के लिए ज्यादा मेहनत करने की आवश्यकता नहीं होती है,हां पर इसमें आपको काम की जिम्मेदारी अवश्य लेनी पड़ती है,क्योंकि जब आपको किसी चीज का ठेका मिलता है,तो इसका मतलब यह होता है कि आपको पूरी जिम्मेदारी के साथ उस काम को पूरा करना है या फिर अपने लेबर के द्वारा उस काम को समय पर पूरा करवाने की कोशिश करनी है। अगर आप ठेकेदारी की फील्ड में अच्छा काम करते हैं और गुणवत्तापूर्ण निर्माण करवाते हैं, तो आपको आगे चलकर बड़ी-बड़ी कंपनियों के और गवर्नमेंट कंपनियों के ठेके भी मिल सकते हैं,जिन्हें पूरा करके आप काफी अच्छा फायदा कमा सकते हैं।

ठेकेदार बनने के लिए योग्यता – Qualification to Become Contractor

  • 10वीं पास
  • 12वीं पास
  • ग्रेजुएट
  • सिविल डिप्लोमा होल्डर
  • सिविल इंजीनियर

ठेकेदार कितने प्रकार के होते हैं? – Types of Contractors

देखा जाए तो ठेकेदार मुख्य तौर पर चार प्रकार के होते हैं, जो निम्नानुसार हैं

  • ए ग्रेड ठेकेदार
  • बी ग्रेड ठेकेदार
  • सी ग्रेड ठेकेदार
  • डी ग्रेड ठेकेदार

ठेकेदार के प्रकार में जो 1 ग्रेड के ठेकेदार होते हैं,यह सबसे ऊंची पोस्ट मानी जाती है। इनके अंदर ही दूसरे ठेकेदार आते हैं जो ए ग्रेड ठेकेदार से नीचे होते हैं‌। ऐसे व्यक्ति जो ठेकेदार बनना चाहते हैं या फिर ठेकेदारी करना चाहते हैं, उन्हें सबसे पहले D ग्रेड लाइसेंस के लिए आवेदन करना पड़ता है। डी ग्रेड लाइसेंस प्राप्त होने के बाद कुछ सालों तक काम करने के बाद उन्हें फिर सी ग्रेड लाइसेंस, बी ग्रेड लाइसेंस और उसके बाद ए ग्रेड लाइसेंस के लिए अप्लाई करना होता है।

ठेकेदार बनने के लिए क्या जरूरी है? – What is Required to Become Contractor?

ठेकेदार बनने के लिए और ठेकेदारी प्राप्त करने के लिए आपका पढ़ा लिखा होना बहुत ही आवश्यक होता है,क्योंकि वर्तमान के टाइम में ठेकेदारी में जो जिम्मेदारियां ठेकेदार को दी जाती हैं, वह ऐसा व्यक्ति ही समय पर पूरी कर सकता है जो पढ़ा लिखा हो और जिसके पास ठेकेदारी के बारे में अच्छी जानकारी हो। इसके साथ ही ऐसा व्यक्ति ही ठेकेदार बन सकता है जिसके खिलाफ किसी भी पुलिस थाने में किसी भी प्रकार की FIR या फिर कानूनी कार्रवाई दर्ज ना हो, क्योंकि ठेका उसी व्यक्ति को दिया जाता है, जिसका कोई क्रिमिनल रिकॉर्ड नहीं होता है।

जो भी व्यक्ति ठेकेदार बनना चाहता है, उसे यह पता होना चाहिए कि ठेकेदार बनकर किस फील्ड में कैसे काम किया या फिर करवाया जाता है। आपकी जानकारी के लिए बता दें कि, ठेकेदार जो काम करता है या फिर करवाता है,बाद में उसकी चेकिंग अच्छे क्वालिटी इंजीनियर या फिर अधिकारी के द्वारा होती है,इसलिए जो भी व्यक्ति ठेकेदार बनता है उसे प्राप्त ठेके को समय पर और क्वालिटी के साथ पूरा करने की कोशिश करनी चाहिए। ताकि उसे आगे चलकर और ठेके प्राप्त हो सके और वह एक बड़ा ठेकेदार बन सके।

एक ठेकेदार बनने के लिए कौशल – Skills to Become a Contractor

ऐसा व्यक्ति जो ठेकेदार बनना चाहता है उसके लिए ठेकेदार बनने के लिए कुछ आवश्यक स्किल निर्धारित किए गए हैं, जो इस प्रकार हैं।

  • टेक्निकल क्षमता का होना उस व्यक्ति के अंदर आवश्यक है,जो ठेकेदार बनना चाहता है या फिर ठेकेदारी करना चाहता है।
  • ठेकेदार बनने की इच्छा रखने वाले व्यक्ति के अंदर ठेकेदारी के काम को समय पर करने की या फिर निपटाने की क्षमता होनी चाहिए।
  • जो भी व्यक्ति ठेकेदार बनना चाहता है,उसके अंदर वातावरण और दिए गए टाइम के अनुसार काम करने का हुनर होना चाहिए।
  • ठेकेदार को हेल्थ, सिक्योरिटी और निर्माण से संबंधित पूरी इंफॉर्मेशन होनी चाहिए।
  • किसी भी प्रॉब्लम का आसानी से सॉल्यूशन निकालने का हुनर भी ठेकेदार के अंदर होना चाहिए।
  • ठेकेदार के अंदर सभी प्रकार के काम को पूरी जिम्मेदारी के साथ और लगन के साथ करने या फिर करवाने का गुण होना चाहिए।
  • ठेकेदार के बातचीत करने की कला अच्छी होनी चाहिए, क्योंकि अक्सर उसे लेबर के द्वारा काम करवाना पड़ता है, ऐसे में अगर उसकी बातचीत करने की कला अच्छी होगी, तो लेबर के साथ उसका सामंजस्य अच्छा बैठेगा।

ठेकेदारी का लाइसेंस कैसे प्राप्त होता है? – How to get Contracting License?

अलग-अलग इंस्टिट्यूट के द्वारा ठेकेदार का लाइसेंस देने के लिए अलग-अलग कानून बनाए गए होते हैं। डी ग्रेड ठेकेदार के लिए फोरम के साथ पान कार्ड नंबर और TEN नंबर की आवश्यकता होती है। इसके अलावा नीचे दिए गए डॉक्यूमेंट की भी आवश्यकता होती है,ठेकेदारी का लाइसेंस प्राप्त करने के लिए।

  • टिन नंबर
  • कम से कम 5 शपथ पत्र
  • ₹5000 रजिस्ट्रेशन फीस
  • आधार कार्ड तथा अन्य जरूरी डॉक्यूमेंट

ऊपर जो डॉक्यूमेंट दिए हैं,उन्हें जमा करने के बाद ठेकेदार का लाइसेंस बनकर रेडी हो जाता है और लाइसेंस प्राप्त करने के बाद वह ठेकेदारी का काम ले सकता है और ठेकेदार का काम स्टार्ट कर सकता है।

ठेकेदार बनने के फायदे – Benefits of Becoming Contractor

ठेकेदार बनने के एडवांटेज के बारे में बात की जाए तो जो व्यक्ति ठेकेदार बन जाता है, वह इस फील्ड में काफी अच्छा फायदा कमा सकता है,example के लिए जैसा आप जानते हैं कि, किसी भी कंपनी के पास इतना समय नहीं होता है कि, वह खुद जाकर रोड या फिर इमारतों का निर्माण करें। इसीलिए वह टेंडर की प्रक्रिया अपनाकर किसी व्यक्ति को या फिर कंपनी को रोड़ या फिर इमारत का ठेका दे देती है, जिसके बाद उस रोड या फिर इमारत को तय समय में बनवाने की जिम्मेदारी ठेकेदार की हो जाती है।

ऐसे में कभी-कभी एक ठेकेदार को करोड़ों और अरबो का ठेका भी मिल जाता है, जिसके कारण वह काफी अच्छा फायदा कमा सकता है। ठेकेदार के लिए काम की कमी नहीं होती है, क्योंकि इंडिया एक विकासशील देश है इसीलिए यहां पर कोई ना कोई इमारत अथवा रोड बनता ही रहता है। ऐसे में उसे ठेकेदार बन कर फायदे ही फायदे होते हैं। अगर आप एक बार इस फील्ड में विश्वसनीय व्यक्ति बन जाते हैं, तो आपको अधिकतर कंपनियां ठेका देने लगती हैं।

ठेका कैसे प्राप्त किया जाता है? – How is the Contract Received?

कई लोगों के मन में यह क्वेश्चन आता है कि ठेकेदार बन जाने के बाद ठेका कैसे प्राप्त करें।देखिए यहां पर हम आपको बता दें कि, आपको दो प्रकार का ठेका प्राप्त हो सकता है।पहला प्राइवेट और दूसरा गवर्नमेंट। प्राइवेट ठेका आप अपने संपर्क से प्राप्त कर सकते हैं, यह ठेके आपको अपने रिश्तेदारों के द्वारा या फिर किसी दोस्त के द्वारा दिलवाए जाते हैं, वही गवर्नमेंट ठेका प्राप्त करने के लिए आपको गवर्नमेंट के द्वारा निकाले गए टेंडर को भरना पड़ता है।

यह प्रक्रिया ऑनलाइन होती है।इसके बाद एक निश्चित दिन पर बोली लगाई जाती है और जिस ठेकेदार की बोली टेंडर समिति को ठीक लगती है, उसे ठेका दे दिया जाता है, जिसके बाद ठेकेदार अपना काम स्टार्ट कर सकता है।

ठेकेदार का वेतन – Salary of a Contractor

जो व्यक्ति खुद से ही टेंडर या फिर ठेकेदारी लेता है, उसकी कोई भी सैलरी नहीं होती है, क्योंकि वह जो काम करवाता है उसी में से उसकी कमाई होती है। हालांकि कुछ ठेकेदार ऐसे होते हैं,जो किसी कंपनी के लिए काम करते हैं और ऐसे ठेकेदारों को कंपनी की तरफ से अच्छी सैलरी दी जाती है। कंपनी के लिए काम करने वाले ठेकेदारों को शुरुआत में महीने की सैलरी के तौर पर तकरीबन ₹40,000 से लेकर ₹60,000 तक दिए जाते हैं

और जैसे-जैसे उसका इस फील्ड में एक्सपीरियंस बढ़ता जाता है और वह जिम्मेदारी उठाने के काबिल हो जाता है, वैसे ही कंपनी उसकी पगार में बढ़ोतरी कर देती है। इस प्रकार अगर देखा जाए तो कुल मिलाकर किसी कंपनी के लिए काम करने वाला ठेकेदार महीने में ₹80,000 तक कमा लेता है।

ठेकेदारी का कैरियर की गुंजाइश – Career Scope of Contracting

ठेकेदारी का कैरियर स्कोप काफी अच्छा है। क्योंकि भारत एक बहुत बड़ा देश है इसीलिए अगर कोई व्यक्ति ठेकेदार है और वह अच्छा काम करवा पाने में सक्षम है, तो उसे काम की कभी भी कमी नहीं होगी, क्योंकि भारत अभी भी विकासशील देश की लिस्ट में आता है, और यहां पर अभी भी बहुत विकास होना है, ऐसे में ठेकेदार का करियर स्कोप काफी अच्छा है। कम से कम अगले 100 सालों तक इस फील्ड में कोई भी कमी नहीं आएगी, बल्कि यह फील्ड तेजी के साथ तरक्की ही करेगी।

निष्कर्ष

आशा करते हैं कि आपको Vampire Details In Hindi की पूरी जानकारी प्राप्त हो चुकी होगी। अगर फिर भी आपके मन में Thekedar Kaise Bane (How To Become Contractor In Hindi) और ठेकेदार कैसे बने? को लेकर कोई सवाल हो तो, आप बेझिझक Comment Section में Comment कर पूछ सकते हैं।

अगर यह जानकारी पसंद आया हो तो, जरूर इसे Share कर दीजिए ताकि Thekedar Kya Hota Hai बारे में सबको जानकारी प्राप्त हो।

About Ainain

ठेकेदारमैं इस ब्लॉग का संस्थापक और एक पेशेवर ब्लॉगर हूं। यहाँ पर मैं नियमित रूप से अपने पाठकों के लिए उपयोगी और मददगार जानकारी साझा करता हूं। ❤️

1 thought on “ठेकेदार क्या होता है? Thekedar कैसे बने? जानिए Thekedar बनने से जुड़ी सभी जानकारी हिंदी में”

  1. आपके बेवसाईट पर दी गई जानकारी बहुत ही महत्व पूर्ण एवं उपयोगी हैं

    Reply

Leave a Comment

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.