शिक्षाकरियर

प्रेस रिपोर्टर क्या होता है? प्रेस रिपोर्टर कैसे बने? जानिए प्रेस रिपोर्टर बनने से जुड़ी सभी जानकारी हिन्दी में

आज हम जानेंगे प्रेस रिपोर्टर कैसे बने पूरी जानकारी (Press Reporter in Hindi) के बारे में क्योंकि हमें जब भी समाचार सुनने की इच्छा होती है तो तुरंत हम अपना टीवी खोल लेते हैं क्योंकि हमें पता है कि टीवी पर बहुत सारे न्यूज़ चैनल है जिस पर हम समाचार देख सकते हैं परंतु क्या आपने कभी सोचा है कि जो समाचार टीवी पर हमें दिखाया जाता है आखिर टीवी वालों को वह समाचार कहां से प्राप्त होता है।

बता दे कि वह समाचार उन्हें प्रेस रिपोर्टर देते हैं। प्रेस रिपोर्टर की जॉब हमारे इंडिया में एक चैलेंजिंग जॉब मानी जाती है। इस जॉब को वही लोग कर सकते हैं जो निडर होते हैं, क्योंकि प्रेस रिपोर्टर का काम होता है नई नई खबरें लाना फिर चाहे वह खबर किसी की हत्या से संबंधित हो या फिर किसी भी प्रकार की धोखाधड़ी संबंधित हो या फिर किसी भी राजनेता से संबंधित हो।

प्रेस रिपोर्टर क्या होता है? – What is Press Reporter in Hindi?

Contents show
Press Reporter In Hindi
Press Reporter In Hindi

जिस प्रकार पत्रकार लोग समाचार पेपर को यहां वहां से खबरें ढूंढ कर के देते हैं, उसी प्रकार एक प्रेस रिपोर्टर उस चैनल को अलग-अलग तरीके से खबर इकट्ठा करके देता है जिस चैनल के लिए वह काम करता है अथवा करती है। प्रेस रिपोर्टर जैसे ही कोई खबर प्राप्त होती है वह तुरंत ही उस खबर की सत्यता की जांच करता है और उसके बाद आवश्यक सबूत इकट्ठा करके उस खबर को अपने न्यूज़ चैनल तक पहुंचाने का काम करता है।

हालांकि कुछ प्रेस रिपोर्टर स्वतंत्र तौर पर भी काम करते हैं, परंतु अधिकतर Press Reporter किसी ना किसी चैनल या फिर अखबार के साथ जुड़े हुए होते हैं। इनके द्वारा दी गई खबरों को सबसे पहले चैनल के द्वारा चेक किया जाता है कि वह सत्य है अथवा नहीं और उसके बाद चैनल उसे अपने चैनल पर दिखाता है और इस प्रकार प्रेस रिपोर्टर के द्वारा दी गई खबर सबसे पहले चैनल के पास पहुंचती है और चैनल के द्वारा वह खबर इंडिया के सभी लोगों को प्राप्त होती है।

प्रेस रिपोर्टर का मतलब क्या है?

हिंदी भाषा में प्रेस रिपोर्टर को न्यूज़ रिपोर्टर भी कहा जाता है, जिनका मुख्य काम होता है खबरों को इकट्ठा करके अपने चैनल को देना या फिर अपने समाचार पेपर को देना। आपने देखा होगा कि अक्सर टीवी में टीवी स्टूडियो में बैठा हुआ जर्नलिस्ट दूर किसी जगह पर स्थित एक ऐसे व्यक्ति से लगातार बात करता है जिसके सामने कैमरा होता है और उसके हाथ में एक माइक होता है और वह टीवी पर बैठे हुए जर्नलिस्ट्स को उसके एरिया के आसपास की खबरें देता है। बस वही होता है प्रेस रिपोर्टर।

ये भी पढ़ें : आईएएस टॉपर क्या होता है? IAS Topper कैसे बने?

Press Reporter की नौकरी इसलिए भी चैलेंजिंग मानी जाती है, क्योंकि इसमें काम करने का समय तय नहीं होता है, क्योंकि अगर प्रेस रिपोर्टर जहां रहता है, अगर उसके आसपास कोई ऐसी घटना घट जाती है जिसे टीवी पर दिखाना आवश्यक होता है तो प्रेस रिपोर्टर को उस घटना को कवर करना होता है फिर चाहे दिन हो या फिर रात।

प्रेस रिपोर्टर बनने के लिए शैक्षणिक योग्यता

  • 55 परसेंट अंकों के साथ 12वीं क्लास पास (इंडिया के किसी भी सर्टिफाइड बोर्ड से)
  • अंग्रेजी भाषा पर अच्छी पकड़
  • आपके पास जर्नलिज्म अथवा मास कम्युनिकेशन की बैचलर डिग्री होनी चाहिए।
  • मीडिया और प्रोडक्शन के बारे में आपको जानकारी होनी चाहिए।

प्रेस रिपोर्टर कैसे बने? – How to become Press Reporter in Hindi

अगर आपको नई नई चीजों के बारे में जानने का शौक है तो आपको Press Reporter अवश्य बनना चाहिए। इसके साथ ही आप अपने आप को खतरो का खिलाडी समझते हैं तो यह नौकरी आपके लिए सबसे बेस्ट नौकरी साबित हो सकती है। नीचे आप यह जानेंगे कि प्रेस रिपोर्टर बनने की प्रक्रिया क्या है।

1. 12वीं क्लास पास करें

12वीं क्लास ही वह समय होता है जब आपके प्रेस रिपोर्टर बनने का सफर चालू होता है। यह सफर तभी पूरा होता है जब आप 12वीं क्लास को 55% अंकों के साथ पास कर लेते हैं। यहां पर आपके लिए यह जानना आवश्यक है कि 12वीं क्लास को आप किसी भी स्ट्रीम से पास कर सकते हैं फिर चाहे वह साइंस स्ट्रीम हो अथवा कॉमर्स या फिर आर्ट।

2. जर्नलिज्म अथवा मास कम्युनिकेशन की बैचलर डिग्री पूरी करें

12वीं क्लास को पास करने के बाद प्रेस रिपोर्टर बनने के लिए आपको जर्नलिज्म या फिर मास कम्युनिकेशन यानी कि बैचलर डिग्री को कंप्लीट करनी होगी और इसके लिए आपको किसी ऐसे कॉलेज में एडमिशन लेना होगा, जो यह कोर्स ऑफर करते हैं।

ये भी पढ़ें : एडवोकेट क्या होता है? Advocate कैसे बने?

सामान्य तौर पर यह कोर्स 2 साल से लेकर 3 साल तक के होते हैं। आप चाहे तो 12वीं क्लास को पास करने के बाद मास कम्युनिकेशन का डिप्लोमा कोर्स भी कर सकते हैं। यह कोर्स इसलिए आवश्यक होते हैं, क्योंकि अगर आपके पास इन कोर्स की डिग्री रहेगी तो आपको प्रेस रिपोर्टर की नौकरी मिलने में आसानी होगी।

3. इंटर्नशिप कंप्लीट करें

यह आपके ऊपर डिपेंड करता है कि आप बैचलर डिग्री मास कम्युनिकेशन या फिर जर्नलिज्म में हासिल करने के बाद इंटर्नशिप करना चाहते हैं अथवा नहीं। हालांकि अगर आप इसे कर लेते हैं तो आपके पास बढ़िया एक्सपीरियंस प्राप्त हो जाता है, जो आपको जल्दी से प्रेस रिपोर्टर की नौकरी दिलवा सकता है।

4. नौकरी के लिए अप्लाई करें और नौकरी ज्वाइन करें

डिग्री हासिल कर लेने के बाद बारी आती है प्रेस रिपोर्टर की नौकरी के लिए अप्लाई करने की। इसके लिए आपको यह ध्यान देना है कि कब टीवी चैनल के द्वारा प्रेस रिपोर्टर की जॉब के लिए वैकेंसी बाहर निकाली जा रही है। जैसे ही वैकेंसी बाहर निकले वैसे ही आपको वैकेंसी में अप्लाई कर देना है। अगर सब कुछ बढ़िया रहा तो आपको Press Reporter की नौकरी मिल जाएगी। इसके अलावा आप डायरेक्ट टीवी चैनल में जाकर के भी प्रेस रिपोर्टर की नौकरी के बारे में पता कर सकते हैं।

प्रेस रिपोर्टर बनने के लिए कोर्स – Course to become Press Reporter

कुछ बढ़िया प्रेस रिपोर्टर बनने के लिए आवश्यक कोर्स नीचे आपको बताए जा रहे हैं जिसे आप करके इस फील्ड में जा सकते हैं।

  • डिप्लोमा इन जर्नलिज्म: 1 साल
  • पीजीटी इन जर्नलिज्म: 1 साल
  • डिप्लोमा इन जर्नलिज्म एंड मास कम्युनिकेशन: 2 साल
  • पीजी डिप्लोमा इन रेडियो एंड टीवी जर्नलिज्म: 1 साल
  • b.a. इन जर्नलिज्म: 3 साल
  • पीजी डिप्लोमा इन प्रिंट एंड ब्रॉडकास्ट जर्नलिज्म: 1 साल
  • बैचलर ऑफ जर्नलिज्म: 3 साल
  • पीजी डिप्लोमा इन एक्टिंग: 1 साल
  • बीए इन कन्वर्जेंट जर्नलिज्म: 3 साल
  • पीजी डिप्लोमा इन डायरेक्शन एंड स्क्रीनप्ले राइटिंग: 1 साल
  • पीजी डिप्लोमा इन एडिटिंग, साउंड रिकॉर्डिंग एंड डिजाइन: 1 साल
  • बीए इन मास मीडिया: 3 साल
  • m.a. इन जर्नलिज्म एंड कम्युनिकेशन: 2 साल
  • b.a. इन जर्नलिज्म एंड कम्युनिकेशन स्टडी: 3 साल

प्रेस रिपोर्टर को मिलने वाली सुविधा – Facilities Available to Press Reporter

Press Reporter को मिलने वाली सुविधा हर न्यूज़ चैनल में अलग-अलग होती है। यहां तक कि अगर कोई प्रेस रिपोर्टर किसी अखबार के लिए काम करता है, तो उसे मिलने वाली सुविधा भी अलग-अलग होती है। जैसे कि एक प्रेस रिपोर्टर को किसी बड़े टीवी चैनल में महीने में अच्छी तनख्वाह मिलती है तो दूसरे प्रेस रिपोर्टर को किसी छोटे टीवी चैनल में महीने में थोड़ी सी कम तनख्वाह मिलती है।

ये भी पढ़ें : समाचार संवाददाता क्या होता है? News Reporter कैसे बने? 

हालांकि एक बात तो तय है कि अधिकतर प्रेस रिपोर्टर को सुविधा के तौर पर महीने में चार छुट्टियां संडे की अवश्य मिलती है। इसके अलावा राष्ट्रीय त्योहारों पर भी उन्हें छुट्टी दी जाती है। अच्छा काम करने पर उन्हें इंक्रीमेंट तथा बोनस भी प्राप्त होता है। इसके अलावा अगर वह अपने टीवी चैनल की तरफ से किसी जगह या फिर खबर की रिपोर्टिंग करने के लिए जाते हैं तो उनका सारा खर्चा उनका टीवी चैनल ही देता है।

प्रेस रिपोर्टर को माइक और कैमरा भी टीवी चैनल के द्वारा ही प्रोवाइड किया जाता है। इसके साथ ही उन्हें एक आई कार्ड भी दिया जाता है जो इस बात का प्रमाण होता है कि वह किसी स्पेसिफिक चैनल के लिए काम करते हैं और वह ऑथराइज प्रेस रिपोर्टर है। इससे उन्हें आसानी से किसी भी नेता का इंटरव्यू लेने में आसानी होती है या फिर किसी भी जगह या फिर घटना की रिपोर्टिंग करने में सरलता होती है।

प्रेस रिपोर्टर का वेतन – Salary of Press Reporter

अधिकतर न्यूज़पेपर कंपनी और टीवी चैनल कंपनी अच्छी तनख्वाह प्रेस रिपोर्टर को देते हैं। अगर एवरेज सैलेरी के बारे में बात की जाए तो एक प्रेस रिपोर्टर को स्टार्टिंग में ₹12000 से लेकर के ₹13000 की सैलरी प्राप्त होती है। हालांकि यह सैलरी इस बात पर भी डिपेंड करती है कि आखिर जो व्यक्ति प्रेस रिपोर्टर की नौकरी पर सिलेक्ट हो गया है उसे इस फील्ड में कितना एक्सपीरियंस है या फिर उसकी परफॉर्मेंस कैसी है।

इसके अलावा भी एक प्रेस रिपोर्टर को कई अन्य फैसिलिटी दी जाती है और जब काम करते करते उसे इस फील्ड में अच्छा एक्सपीरियंस मिल जाता है, तो परफॉर्मेंस के आधार पर और एक्सपीरियंस के आधार पर उसकी सैलरी बढ़ती है।

प्रेस रिपोर्टर के रूप में करियर के अवसर – Career Opportunities as a Press Reporter

बात की जाए अगर प्रेस रिपोर्टर की कैरियर अपॉर्चुनिटी के बारे में या फिर प्रेस रिपोर्टर की फ्यूचर स्कोप के बारे में तो इस फील्ड के अंदर काफी अच्छी कैरियर अपॉर्चुनिटी रहती है। इसे आप कुछ इस प्रकार से समझें कि अगर आपने किसी टीवी चैनल में प्रेस रिपोर्टर की नौकरी पा ली है तो धीरे-धीरे आप उस टीवी चैनल के लिए काम करते करते अच्छा एक्सपीरियंस भी इस फील्ड में हासिल कर लेते हैं।

ये भी पढ़ें : न्यूज़ एंकर किसे कहते है? News Anchor कैसे बने?

इस प्रकार अगर कभी वह कंपनी आपको नौकरी से निकाल देती है, तो आप तुरंत ही दूसरे टीवी चैनल में नौकरी के लिए अप्लाई कर सकते हैं। अब यहां पर बात यह है कि आपके पास पहले से ही एक्सपीरियंस है, तो आपको आसानी से दूसरा टीवी चैनल भी नौकरी पर रख लेगा। इसके अलावा आप चाहे तो अपना खुद का यूट्यूब चैनल भी चालू कर सकते हैं और उस पर भी पार्ट टाइम न्यूज़ रिपोर्टिंग के वीडियो अपलोड कर सकते हैं।

प्रेस रिपोर्टिंग करते करते आपके नेताओं से भी अच्छे संपर्क स्थापित हो जाते हैं, जो आपके लिए विभिन्न प्रकार से फायदेमंद साबित हो सकते हैं। जब आप थोड़ी ज्यादा उम्र के हो जाते हैं तब आपकी गिनती वरिष्ठ रिपोर्टर में होने लगती है।

इसके अलावा आप चाहे तो प्रेस रिपोर्टर का काम अच्छे से करते करते टीवी रिपोर्टर और उसके बाद स्टूडियो में जर्नलिस्ट की पोस्ट भी प्राप्त कर सकते हैं। इतना होने पर आपकी तनख्वाह भी बढ़ेगी और आपकी इज्जत भी बढ़ेगी।

प्रेस रिपोर्टर बनने के लिए कौशल – Skills to become Press Reporter

  • अपनी जनरल नॉलेज को बढ़ाएं।
  • इंफॉर्मेशन को इकट्ठा करने का गुण होना चाहिए और उसकी वेरिफिकेशन करने का टैलेंट भी होना चाहिए।
  • अंग्रेजी भाषा पर अच्छी पकड़ होनी चाहिए, साथ ही हिंदी भाषा की भी जानकारी होनी चाहिए।
  • बिना डरे हुए काम करने का जज्बा होना चाहिए।
  • किसी भी टाइम काम करने के लिए तैयार होना चाहिए।
  • शब्दों का चयन सही से करना आना चाहिए।
  • हमेशा आत्मविश्वास से भरपूर होना चाहिए।
  • आपके अंदर न्यूज़ को सही से प्रजेंट करने का गुण होना चाहिए।

प्रेस रिपोर्टर बनने के बारे में अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न

रिपोर्टर बनने के लिए क्या करना पड़ेगा?

सबसे पहले 12वीं कक्षा पास करें, फिर रिपोर्टिंग से संबंधित कोई भी कोर्स करें, फिर रिपोर्टर की नौकरी के लिए अप्लाई करें।

पत्रकारिता का कोर्स कितने साल का होता है?

पत्रकारिता के अलग-अलग कोर्स होते हैं जिनकी अवधि अलग-अलग होती है। इसमें किसी भी कोर्स को करने के लिए कम से कम 1 साल और अधिक से अधिक 3 या फिर 4 साल का टाइम लगता है।

प्रेस रिपोर्टर की सैलरी कितनी होती है?

हर टीवी चैनल या फिर अखबार में इनकी सैलरी अलग-अलग होती है।

मीडिया में जॉब कैसे करें?

मीडिया में जॉब करने के लिए आपको प्रेस रिपोर्टर या फिर मीडिया से संबंधित कोई कोर्स करना होगा और उसके बाद नौकरी के लिए अप्लाई करना होगा।

निष्कर्ष

आशा है आपको Press Reporter in Hindi के बारे में पूरी जानकारी मिल गई होगी। अगर अभी भी आपके मन में Press Reporter Kaise Bane (How to Become Press Reporter in Hindi) और प्रेस रिपोर्टर कैसे बने? को लेकर आपका कोई सवाल है तो आप बेझिझक कमेंट सेक्शन में कमेंट करके पूछ सकते हैं। अगर आपको यह जानकारी अच्छी लगी हो तो इसे शेयर जरूर करें ताकि सभी को Press Reporter Kya Hota Hai के बारे में जानकारी मिल सके।

स्वास्थ्य संबंधी जानकारी के लिए Hindi Advisor सबसे अच्छी वेबसाइट है।

4.7/5 - (3 votes)
Ainain
मैं supportingainain ब्लॉग का संस्थापक और एक पेशेवर ब्लॉगर हूं। यहाँ पर मैं नियमित रूप से अपने पाठकों के लिए उपयोगी और मददगार जानकारी साझा करता हूं। ❤️ Contact us via Email - ainain6971@gmail.com

एप डेवलपर क्या होता है? ऐप डेवलपर कैसे बने? जानिए App Developer से जुड़ी सभी जानकारी हिंदी में

Previous article

आधार कार्ड कैसे निकाले? आधार कार्ड निकालने के लिए क्या करें?

Next article

Comments

Leave a reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may also like