NSS क्या है? NSS का उद्देश्य, फायदे, प्रतीक चिन्ह और गतिविधियां क्या है? NSS कैसे Join करें?

आज हम जानेंगे National Service Scheme की पूरी जानकारी (NSS in Hindi) के बारे में क्योंकि अगर किसी व्यक्ति को NSS में जाना होता है तो उसे स्कूल से ही इसमें शामिल हो जाना पड़ता है। बता दे कि इंडिया में ऐसी कई संस्थाएं हैं, जो बिना एक रुपए लिए हुए मुफ्त में लोगों की सेवा करती हैं, जो कि अलग-अलग प्रकार की सेवा होती हैं। जो भी व्यक्ति एनएसएस में शामिल होता है, वह समाज में रहने वाले अन्य लोगों के साथ मिलकर के कई सामाजिक काम करते हैं।

जैसे कि वह पर्यावरण का संरक्षण करते हैं, समय-समय पर सफाई का काम भी करते हैं, लोगों को फ्री में एजुकेशन देने का काम करते हैं, इमरजेंसी की अवस्था में भी परेशानी को झेल रहे लोगों के साथ कंधे से कंधा मिलाकर खड़े रहते हैं। आज के इस लेख में जानेंगे कि NSS Kya Hota Hai, सोनोग्राफी टेस्ट क्या है, History of NSS in Hindi, आदि की सारी जानकारीयां विस्तार में जानने को मिलेंगी, इसलिये पोस्ट को लास्ट तक जरूर पढे़ं।

एनएसएस क्या है? – What is NSS (National Service Scheme) in Hindi

Contents show
Nss In Hindi
Nss In Hindi

बता दें कि NSS का Full Form National Service Scheme होता है। शुद्ध हिंदी में इसका मतलब निकाला जाए तो इसका अर्थ राष्ट्रीय सेवा योजना होता है। बता दें कि राष्ट्रीय सेवा योजना इंडियन मिनिस्ट्री के युवा और स्पोर्ट डिपार्टमेंट के द्वारा चलाई जाने वाली एक स्कीम है। इसे इसलिए चालू किया गया है ताकि स्कूल में पढ़ने वाले विद्यार्थियों को कम समय में ही राष्ट्र के प्रति अपनी जिम्मेदारियों का पता चले और वह राष्ट्र के प्रति अपनी जिम्मेदारियों को निभाए, साथ ही साथ लोगों के सुख दुख में शामिल हो और सामाजिक कार्य में भी बढ़ चढ़कर हिस्सा लें।

एनएसएस का उद्देश्य क्या है? – Purpose of NSS

समाज के सभी वर्गों के साथ मिलकर के NSS (National Service Scheme) काम करने का इच्छुक है। यह अपने कामों के द्वारा समाज में रहने वाले शिक्षित लोगों और अशिक्षित लोगों की दूरी को खत्म करने के लिए भी प्रयत्नशील है। इसके साथ ही इसका उद्देश्य है कि वह भारत के लोगों की बातों को जाने और समझे और उनकी समस्याओं को दूर करने का प्रयास करें, साथ ही नए लोगों को अपने साथ जोड़े।

ये भी पढ़ें : गैस सब्सिडी क्या होता है? गैस सब्सिडी कैसे चेक करें?

एनएसएस का इतिहास क्या है? – History of NSS in Hindi

जब साल 1969 में नेशनल सर्विस स्कीम को सेंट्रल गवर्नमेंट ने चालू किया था, तब इसके साथ तकरीबन 36 अलग-अलग इंडिया की यूनिवर्सिटी को अटैच किया गया था, जिसके अंतर्गत तकरीबन 40000 से भी ज्यादा विद्यार्थी इसमें शामिल हुए थे और तब से ही यह कारवां लगातार बढ़ता जा रहा है। वर्तमान की बात करें तो वर्तमान में NSS (National Service Scheme) में शामिल लोगों की संख्या 4 करोड से भी ज्यादा हो गई है।

बता दें कि यह इंडियन गवर्नमेंट के द्वारा चलाई जाने वाली एक पब्लिक सर्विस कार्यक्रम है। साल 1969 में जिस दिन इसे चालू किया गया था, उस दिन गांधी जी की शताब्दी का अवसर था। इसमें शामिल होने वाले लोग सामाजिक कार्यों को करते हैं और इमरजेंसी की अवस्था में बिना किसी लोभ लालच के लोगों की सेवा करने के लिए हमेशा तत्पर रहते हैं। बता दें कि, इसका सिद्धांत है हम नहीं बल्कि आप, जिसका अर्थ होता है कि हम आपकी सेवा के लिए हमेशा उपलब्ध हैं।

एनएसएस स्काउट गाइड क्या है? – NSS Scout Guide

बता दें कि यह ऐसे गाइड होते हैं, जिनका अधिकतर इस्तेमाल इलेक्शन कमिशन चुनावों के दरमियान अलग-अलग बूथों पर सर्विस देने के लिए करता है। जिनका सिलेक्शन इलेक्शन के दरमियान स्वयंसेवक के तौर पर होता है, उनकी उम्र 18 साल से कम होती है। एनएसएस स्काउट गाइड के जिन व्यक्तियों की ड्यूटी चुनाव में लगाई जाती है, उनके खाने पीने की व्यवस्था और रहने की व्यवस्था सब प्रशासन ही मैनेज करता है।

एनएसएस प्रमाणपत्र के फायदे – Benefits of NSS Certificate in Hindi

  • पर्सनैलिटी डिवेलप होती है।
  • इंसेंटिव मिलती है।
  • एडमिशन में वरीयता मिलती है।
  • एडवेंचर प्रोग्राम में शामिल होने का मौका मिलता है।
  • राज्य और स्टेट लेवल के प्रोग्राम में जाने का मौका मिलता है।
  • लीडरशिप क्वालिटी डिवेलप होती है।
  • नए लोगों से बातचीत करने का मौका मिलता है।
  • सेल्फ कॉन्फिडेंस बढ़ता है।
  • कौशल की बढ़ोतरी होती है।
  • भारत के लोगों को नजदीक से जानने का मौका मिलता है।
  • अलग-अलग सेमिनार में भाग लेने का मौका मिलता है।
  • 26 जनवरी पर भी आमंत्रित किया जाता है।

राष्ट्रीय एकता शिविर का उद्देश्य क्या है? – What are the aims of national integration camp (NIC)

भारत में हर राज्य की अपनी अपनी संस्कृति है और हर राज्य का अपना अपना पहनावा है। लोग एक दूसरे के राज्य के पहनावे के बारे में समझे और एक दूसरे के राज्य की संस्कृति के बारे में जाने, इसी उद्देश्य को लेकर के राष्ट्रीय एकता शिविर को हर साल आयोजित किया जाता है।

ये भी पढ़ें : Rajasthan SSO ID क्या है? एसएसओ आईडी कैसे देखें?

इसमें अलग-अलग राज्यों के लोग एक जगह पर इकट्ठा होते हैं। आमतौर पर राष्ट्रीय एकता शिविर में 20 साल से लेकर के 25 साल के बीच के लड़के और लड़कियां इकट्ठा होते हैं। इस शिविर में वह भारत के अलग-अलग राज्यों की वेशभूषा, धर्म और संस्कृति के बारे में जानकारी इकट्ठा करते हैं।

एनएसएस का प्रतीक चिन्ह क्या है? – Symbol of NSS

Symbol Of Nss
Symbol Of Nss

उड़ीसा राज्य में स्थित कोणार्क के सूर्य मंदिर को NSS ने अपना प्रतीक चिह्न यानी कि लोगों बनाया हुआ है, जो विद्यार्थियों को राष्ट्र के प्रति निष्ठावान होने के लिए प्रवेश करता है। NSS लोगो में मौजूद लाल रंग वालंटियर को ऊर्जावान होने का आह्वान करता है और गहरा नीला रंग ब्रह्मांड को दर्शाता है।

एनएसएस में कौन सी गतिविधियां होती हैं? – Activities of NSS

NSS कौन सी गतिविधियां करता है, उसकी जानकारी नीचे आपके सामने पेश की जा रही है।

1. राष्ट्रीय एकता शिविर : यह टोटल 7 दिनों का होता है जिसमें अलग-अलग राज्यों से लोग आते हैं और इसे हर साल आयोजित किया जाता है

2. साहसिक कार्यक्रम : हर साल आयोजित होने वाले इस कार्यक्रम में 1500 से भी अधिक राष्ट्रीय सेवा योजना के वालंटियर पार्टिसिपेट करते हैं। इसमें 50 परसेंट संख्या लड़कों की होती है और 50 परसेंट संख्या लड़कियों की होती है।

3. गणतंत्र दिवस परेड शिविर : गणतंत्र दिवस के मौके पर परेड करने के लिए NSS का एक दल गणतंत्र दिवस परेड शिविर में जाता है, जो कि नई दिल्ली में होती है।

4. राष्ट्रीय युवा महोत्सव : 12 से 16 जनवरी को हर साल स्पोर्ट्स मिनिस्ट्री के द्वारा इसका आयोजन देश के अलग-अलग राज्यों में होता है।

NSS कैसे ज्वाइन करें? – How to Join NSS in Hindi

बता दें कि जब आप अपने स्कूल की पढ़ाई कर रहे होते हैं, तभी आप NSS में शामिल हो सकते हैं। इसमें शामिल होना है अथवा नहीं, यह पूरी तरह से आपकी इच्छा के ऊपर डिपेंड करता है। अगर आपको इसमें शामिल होना है, तो आपको अपने स्कूल के प्रिंसिपल से बात करनी होगी। वह आपके नाम को NSS के हेड के पास भेज देंगे।

ये भी पढ़ें : प्रधानमंत्री आवास योजना में अपना नाम कैसे देखें?

इसके बाद NSS का हेड आपको एक फॉर्म देगा, जिसमें जो भी जानकारी मांगी गई है, उसे आप को बिल्कुल सही सही भरना है। फोरम की जानकारियों को भर लेने के बाद आपको फोरम को NSS हेड को दे देना है। इसके बाद आपका सिलेक्शन NSS वालंटियर के पद पर हो जाता है। जब आप यह पद प्राप्त कर लेते हैं तो उसके बाद 2 साल के अंदर ही कम से कम 240 घंटे आपको समाज सेवा में काम करना होता है।

ताकि NSS के हेड यह देख सके कि आप समाज के लोगों के साथ किस प्रकार का व्यवहार करते हैं और क्या आप समाज के लोगों की सेवा कर पाने में सक्षम है अथवा नहीं।जब आप अच्छा काम करने लगते हैं तो आपको NSS की तरफ से एक सर्टिफिकेट भी मिलता है, जो विभिन्न कामों के लिए आप इस्तेमाल कर सकते हैं।

NSS (National Service Scheme) से संबंधित अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न

राष्ट्रीय सेवा योजना के जनक कौन थे?

मोहम्मद नईम

राष्ट्रीय सेवा योजना का कार्य क्षेत्र कहां तक है?

समग्र भारत

राष्ट्रीय सेवा योजना के प्रेरणा पुरुष कौन हैं?

स्वामी विवेकानंद

राष्ट्रीय सेवा योजना का मोटो क्या है?

मैं नहीं बल्कि आप

राष्ट्रीय सेवा योजना की राष्ट्रीय वेबसाइट क्या है?

http://nss.nic.in/intro.asp

राष्ट्रीय सेवा योजना का मुख्यालय कहां है?

नई दिल्ली

NSS की स्थापना कब हुई थी?

28 अगस्त 1959

निष्कर्ष

आशा है आपको NSS क्या होता है के बारे में पूरी जानकारी मिल गई होगी। अगर अभी भी आपके मन में nss kya hota hai (What is NSS (National Service Scheme) in Hindi) और एनएसएस से कैसे जुड़ें? को लेकर आपका कोई सवाल है तो आप बेझिझक कमेंट सेक्शन में कमेंट करके पूछ सकते हैं। अगर आपको यह जानकारी अच्छी लगी हो तो इसे शेयर जरूर करें ताकि सभी को nss ka gathan kab hua में जानकारी मिल सके।

आपको हमारा यह लेख कैसा लगा?

1 thought on “NSS क्या है? NSS का उद्देश्य, फायदे, प्रतीक चिन्ह और गतिविधियां क्या है? NSS कैसे Join करें?”

  1. Sir ..
    Me ek hauose wife hu or upsc ki pripretion kr rhi hu mujhse nss joined krna he to kya kr sakti hu ya nhi
    🙏

    Reply

Leave a Comment