ज्ञान

Hanuman Chalisa Aarthi in Hindi – श्री हनुमान चालीसा : जय हनुमान ज्ञान गुन सागर

Hanuman Chalisa Aarthi in Hindi? एक बार फिर से Supportinga Anain पर आपका स्वागत है| आज हम hanuman chalisa in hindi के बारे में जानेंगे| यहाँ पर हम श्री हनुमान चालीसा का दोहा और चौपाई दोनों जानेंगे| कई लोगो का यह भी मानना है की हनुमान चालीसा से भूत पिचास भाग जाते है|  आप सभी जानते ही होंगे की हमारे भारत में धर्म को बहुत माना जाता है|

ऐसे में आपको हनुमान चालीसा याद न हो तो अपने आप में ही ख़राब है| इस लिए आज हम hanuman chalisa hindi में जानेंगे| जिसे जान कर आप भी श्री हनुमान चालीसा को पढ़ कर जुबानी याद कर सकते है| और फिर कभी भी कही भी आप किसी को भी जुवानी hanuman chalisa hindi में सुना सकते है| तो आये जानते है|

Hanuman Chalisa in Hindi

Hanuman Chalisa in Hindi

सभी सवालों का हल किया गया है:- hanuman chalisa, hanuman chalisa lyrics, hanuman chalisa pdf, hanuman chalisa hindi, hariharan shree hanuman chalisa, hanuman chalisa in hindi, hanuman chalisa written, shri hanuman chalisa, shree hanuman chalisa, jai hanuman chalisa, hanuman chalisa mp3

Hanuman Chalisa in Hindi – Hanuman Chalisa Lyrics

दोहा :

श्रीगुरु चरन सरोज रज, निज मनु मुकुरु सुधारि।
बरनऊं रघुबर बिमल जसु, जो दायकु फल चारि।।
बुद्धिहीन तनु जानिके, सुमिरौं पवन-कुमार।
बल बुद्धि बिद्या देहु मोहिं, हरहु कलेस बिकार।।

चौपाई :

जय हनुमान ज्ञान गुन सागर।
जय कपीस तिहुं लोक उजागर।

रामदूत अतुलित बल धामा।
अंजनि-पुत्र पवनसुत नामा।

महाबीर बिक्रम बजरंगी।
कुमति निवार सुमति के संगी।

कंचन बरन बिराज सुबेसा।
कानन कुंडल कुंचित केसा।

हाथ बज्र औ ध्वजा बिराजै।
कांधे मूंज जनेऊ साजै।

संकर सुवन केसरीनंदन।
तेज प्रताप महा जग बन्दन।

विद्यावान गुनी अति चातुर।
राम काज करिबे को आतुर।

प्रभु चरित्र सुनिबे को रसिया।
राम लखन सीता मन बसिया।

सूक्ष्म रूप धरि सियहिं दिखावा।
बिकट रूप धरि लंक जरावा।

भीम रूप धरि असुर संहारे।
रामचंद्र के काज संवारे।

लाय सजीवन लखन जियाये।
श्रीरघुबीर हरषि उर लाये।

रघुपति कीन्ही बहुत बड़ाई।
तुम मम प्रिय भरतहि सम भाई।

सहस बदन तुम्हरो जस गावैं।
अस कहि श्रीपति कंठ लगावैं।

सनकादिक ब्रह्मादि मुनीसा।
नारद सारद सहित अहीसा।

जम कुबेर दिगपाल जहां ते।
कबि कोबिद कहि सके कहां ते।

तुम उपकार सुग्रीवहिं कीन्हा।
राम मिलाय राज पद दीन्हा।

तुम्हरो मंत्र बिभीषन माना।
लंकेस्वर भए सब जग जाना।

जुग सहस्र जोजन पर भानू।
लील्यो ताहि मधुर फल जानू।

प्रभु मुद्रिका मेलि मुख माहीं।
जलधि लांघि गये अचरज नाहीं।

दुर्गम काज जगत के जेते।
सुगम अनुग्रह तुम्हरे तेते।

राम दुआरे तुम रखवारे।
होत न आज्ञा बिनु पैसारे।

सब सुख लहै तुम्हारी सरना।
तुम रक्षक काहू को डर ना।

आपन तेज सम्हारो आपै।
तीनों लोक हांक तें कांपै।

भूत पिसाच निकट नहिं आवै।
महाबीर जब नाम सुनावै।

नासै रोग हरै सब पीरा।
जपत निरंतर हनुमत बीरा।

संकट तें हनुमान छुड़ावै।
मन क्रम बचन ध्यान जो लावै।

सब पर राम तपस्वी राजा।
तिन के काज सकल तुम साजा|

और मनोरथ जो कोई लावै।
सोइ अमित जीवन फल पावै।

चारों जुग परताप तुम्हारा।
है परसिद्ध जगत उजियारा।

साधु-संत के तुम रखवारे।
असुर निकंदन राम दुलारे।

अष्ट सिद्धि नौ निधि के दाता।
अस बर दीन जानकी माता।

राम रसायन तुम्हरे पासा।
सदा रहो रघुपति के दासा।

तुम्हरे भजन राम को पावै।
जनम-जनम के दुख बिसरावै।

अन्तकाल रघुबर पुर जाई।
जहां जन्म हरि-भक्त कहाई।

और देवता चित्त न धरई।
हनुमत सेइ सर्ब सुख करई।

संकट कटै मिटै सब पीरा।
जो सुमिरै हनुमत बलबीरा।

जै जै जै हनुमान गोसाईं।
कृपा करहु गुरुदेव की नाईं।

जो सत बार पाठ करकोई।
छूटहि बंदि महा सुख होई।

जो यह पढ़ै हनुमान चालीसा।
होय सिद्धि साखी गौरीसा।

तुलसीदास सदा हरि चेरा
कीजै नाथ हृदय मंह डेरा।

दोहा :

पवन तनय संकट हरन, मंगल मूरति रूप।
राम लखन सीता सहित, हृदय बसहु सुर भूप।

Hanuman Chalisa Video in Hindi

YouTube video

इसे भी पढ़ें :-

निष्कर्ष

आज हमने hanuman chalisa lyrics, shri hanuman chalisa in hindi के बारे में जाना| उम्मीद है आपको hanuman chalisa in hindi को पढ़ कर अच्छ महसूस होगा और जब कभी भूत पिचास से डर तो hanuman chalisa in hindi में पढ़ने से भूत पिचास भाग जायेंगे| अगर अभी भी hanuman chalisa in hindi से जुड़ा कोई दिक्कत आरहा हो तो हमे निचे comment box में comment कर पूछ सकते है|

आपको हमारा यह लेख कैसा लगा?
Ainain
मैं supportingainain ब्लॉग का संस्थापक और एक पेशेवर ब्लॉगर हूं। यहाँ पर मैं नियमित रूप से अपने पाठकों के लिए उपयोगी और मददगार जानकारी साझा करता हूं। ❤️ Contact us via Email - ainain6971@gmail.com

कॉलेज और यूनिवर्सिटी में क्या अंतर है? What is the difference between college and university in Hindi

Previous article

डॉ राजेंद्र प्रसाद जीवन परिचय? Dr Rajendra Prasad Biography In Hindi?

Next article

Comments

Leave a reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may also like