सरकारी शिक्षक कीसे कहते है? Government Teacher कैसे बने? जानिए Government Teacher बनने से जुड़ी सभी जानकारी हिंदी में

आज हम जानेंगे सरकारी शिक्षक (Government Teacher) कैसे बने पूरी जानकारी (How To Become Government Teacher In Hindi) के बारे में क्योंकि किसी भी कंट्री के लिए शिक्षा तरक्की के मार्ग का संकेत देती है। एजुकेशन के इंपॉर्टेंस को समझते हुए इंडियन गवर्नमेंट ने साल 2010 में Right to Education Act को लागू किया था, जिसके अंतर्गत 6 साल से लेकर 14 साल तक के बच्चों को फ्री में शिक्षा प्रदान की जाती है। इंडिया में एजुकेशन प्रदान करने के लिए प्राथमिक लेवल, उच्च प्राथमिक लेवल और माध्यमिक लेवल तथा यूनिवर्सिटी लेवल मे एजुकेशन को विभाजित किया गया है।

यह अधिकार प्राथमिक लेवल, उच्च प्राथमिक लेवल पर लागू होता है। आज के इस लेख में जानेंगे कि Government Teacher Kaise Bane, सरकारी शिक्षक बनने के लिए क्या करे, Government Teacher Meaning In Hindi, Government Teacher Kise Kahte Hai, सरकारी शिक्षक बनने का तरीका, Government Teacher Kaise Bante Hain, आदि की सारी जानकारीयां विस्तार में जानने को मिलेंगी, इसलिये पोस्ट को लास्ट तक जरूर पढे़ं।

सरकारी शिक्षक क्या होता है? – What is Government Teacher Information in Hindi?

विषय-सूची

Government Teacher Kaise Bane
Government Teacher Kaise Bane

Government Teacher अर्थात एक ऐसा व्यक्ति जो सरकार की तरफ से विद्यार्थियों को पढ़ाने का काम करता है। इनकी नौकरी सरकारी नौकरी होती है और इन्हें अच्छी खासी सैलरी महीने के तौर पर प्राप्त होती है। सरकारी टीचर बनने के लिए हमारे भारत में हर साल लाखों विद्यार्थी प्रयत्न करते हैं, जिनमें से कइयों को सफलता मिलती है तो कईयों को निराशा मिलती है। सरकारी टीचर बनकर व्यक्ति अपना ज्ञान तो बांट ही सकता है, साथ ही एक अच्छी इनकम सैलरी के तौर पर प्राप्त कर सकता है।

सरकारी शिक्षक बनने के लिए योग्यता – Eligibility to Become a Government Teacher

  • किसी भी विषय में अभ्यर्थी के पास ग्रेजुएशन की डिग्री कम से कम 60% अंकों के साथ होनी चाहिए।
  • बीटीसी या dl.ed किया हुआ होना चाहिए।

सरकारी शिक्षक बनने के लिए आयु सीमा – Age Limit to Become Government Teacher

जब Teachers की Vacancy निकलती है,तब वहां पर अलग-अलग कैटेगरी के लिए अलग-अलग उम्र सीमा निर्धारित की जाती है। सामान्य तौर पर सरकारी टीचर बनने के लिए सामान्य वर्ग के उम्मीदवार की कम से कम उम्र 21 साल और अधिक से अधिक उम्र 28 साल होती है, वहीं अनुसूचित जाति और अनुसूचित जनजाति के लोगों को उम्र सीमा में 5 साल और ओबीसी समुदाय को उम्र सीमा में 3 साल की छूट दी जाती है।

डीएलएड या बीटीसी में प्रवेश – Admission in D.El.Ed. or BTC

सरकारी टीचर बनने के लिए गवर्नमेंट के द्वारा  डीएलएड अथवा बीटीसी कोर्स का संचालन किया जाता है। भविष्य में गवर्नमेंट इस कोर्स को बदलकर इंटीग्रेटेड टीचर एजुकेशन प्रोग्राम (4) साल के नाम से संचालित करने की योजना पर काम कर रही है। अभी तक D.El.Ed. के कोर्स में एडमिशन हाई स्कूल, इंटरमीडिएट और ग्रेजुएशन में प्राप्त अंकों के प्रतिशत को जोड़कर बनाई गई मेरिट लिस्ट के आधार पर दिया जाता था। इस प्रकार जिन विद्यार्थियों के अंक अच्छे होते थे उन्हें D.El.Ed. के कोर्स में एडमिशन प्राप्त हो जाता था।

डीएलएड/बीटीसी के पाठ्यक्रम – D.El.Ed./BTC Syllabus

D.El.Ed./BTC का पाठ्यक्रम निम्नानुसार है।

1. पहला सेमेस्टर

  • child development and learning
  • Science
  • Computer
  • Art/Music/Physical Education

इंटर्नशिप

  • principles of teaching learning
  • social studies
  • Sanskrit
  • Hindi
  • mathematics

2. दूसरा सेमेस्टर

  • Present Indian Society and Elementary • Education
  • Hindi
  • English
  • socially productive work
  • Art/Music/Physical Education

इंटर्नशिप

  • Innovative efforts in elementary •education
  • social study
  • Science
  • mathematics

3. तीसरा सेमेस्टर

  • Educational Assessment, Action Research and Innovation
  • inclusive education
  • computer education
  • Art and Music Teaching
  • physical education and health education
  • an internship
  • science teaching
  • math teaching
  • social studies teaching
  • Hindi teaching
  • Sanskrit Teaching
  • Urdu teaching

4. चौथा सेमेस्टर

  • Developing language reading/writing and mathematical ability at the elementary level
  • Educational Management and Administration
  • Science Teaching
  • Mathematics Teaching
  • Social Studies Teaching
  • Hindi Teaching
  • English Teaching
  • Peace Education and Sustainable Development
  • Art and Music Teaching
  • physical education and health education
  • an internship

बीटीसी या डीएलएड के बाद क्या करें? – What to do after BTC or DELED?

अच्छे अंकों के साथ बीटीसी या डीएलएड को पास करने के बाद हर साल गवर्नमेंट के द्वारा teacher eligibility test का आयोजन करवाया जाता है। स्टेट गवर्नमेंट के द्वारा आयोजित teacher eligibility test को TET कहा जाता है। जिस तरह यूपीटेट और सेंट्रल गवर्नमेंट के द्वारा करवाई जाने वाली टीचर एलिजिबिलिटी टेस्ट को CTET कहा जाता है।

आप चाहे तो दोनों एग्जाम में शामिल हो सकते हैं या फिर आप स्टेट के द्वारा आयोजित करवाई जाने वाली यूपी टेट की परीक्षा को पास कर सकते हैं, अगर आप UP TET की परीक्षा को पास करते हैं तो आप अपने स्टेट के अंदर ही गवर्नमेंट टीचर के पद पर तैनात हो सकते हैं। और अगर आप CTET यानी की Central Teacher Eligibility Test को पास करते हैं तो आप सेंट्रल गवर्नमेंट के द्वारा संचालित स्कूल में पूरे इंडिया में कहीं पर भी गवर्नमेंट टीचर की पोस्ट पा सकते हैं।

सरकारी शिक्षक भर्ती परीक्षा – Government Teacher Recruitment Exam

जब स्टेट या फिर सेंट्रल गवर्नमेंट में टीचरों की कमी होती है,तो उसी टाइम स्टेट या फिर सेंट्रल गवर्नमेंट के द्वारा टीचर भर्ती का नोटिफिकेशन जारी किया जाता है, जिसके बाद इच्छुक अभ्यर्थी ऑनलाइन फॉर्म भरते हैं। इसके बाद एक निश्चित डेट पर शिक्षकों की भर्ती की परीक्षा का आयोजन होता है, उसमें अभ्यर्थी शामिल होते हैं जिसमें वे अपना बेस्ट परफॉर्मेंस देते हैं।

इसके बाद प्राप्त अंकों के आधार पर एक मेरिट लिस्ट बनाई जाती है। उसमें जिन उम्मीदवार के नाम आते हैं उनका सिलेक्शन टीचर की पोस्ट के तौर पर किया जाता है। उसके बाद उन्हें ट्रेनिंग पर भेज दिया जाता है। ट्रेनिंग पूरी होने के बाद उन्हें टीचर के पोस्ट पर उस एरिया में पोस्टिंग दे दी जाती है, जहां पर जगह खाली होती है।

सरकारी टीचर की सैलरी – Government Teacher Salary

उत्तर प्रदेश में सरकारी टीचर को महीने की सैलरी के तौर पर ₹36000 से लेकर ₹38000 प्राप्त हो रहे हैं। विभिन्न राज्यों में यह सैलरी कार्य अनुभव के आधार पर अलग अलग हो सकती है।

सरकारी शिक्षक बनने के फायदे – Benefits of Becoming a Government Teacher

जो व्यक्ति सरकारी टीचर बन जाता है, उसे इसके कई फायदे होते हैं।एक तो उसे अच्छी खासी तनख्वाह प्राप्त होती है और अगर व्यक्ति के अच्छे अंक होते हैं तो उसे अपने घर के आस-पास भी पढ़ाने के लिए स्कूल मिल जाता है। सरकारी टीचर बन जाने के बाद व्यक्ति को समाज में मान सम्मान की प्राप्ति भी होती है। इसके अलावा उसके लिए अच्छे-अच्छे घरों से शादी के रिश्ते भी आने लगते हैं।

सरकारी शिक्षक बनने के लिए कौशल – Skills to Become a Government Teacher

सरकारी टीचर बनने के लिए व्यक्ति को पढ़ाई में पूरा ध्यान लगाना पड़ता है और उसे हमेशा मेहनत करने के लिए तैयार रहना पड़ता है। सरकारी टीचर बनने के लिए व्यक्ति को विषयों की अच्छी समझ होनी चाहिए। उसके अंदर प्रॉब्लम सॉल्विंग का गुण होना चाहिए। अपनी मंजिल को प्राप्त करने का जुनून होना चाहिए। पढ़ने के प्रति लगन होनी चाहिए।

सरकारी शिक्षक का करियर स्कोप – Career Scope of Government Teacher

सरकारी टीचर नौकरी में रहते हुए तो लोगों को अपना ज्ञान बांट कर कमाई कर ही सकते हैं।इसके अलावा वह खाली समय में चाहे तो ट्यूशन पढ़ाकर भी अपनी एक्स्ट्रा इनकम कर सकते हैं या फिर वह अपना कोचिंग इंस्टिट्यूट भी चला सकते हैं अथवा वह युटुब पर एजुकेशनल चैनल स्टार्ट कर सकते हैं और वहां पर अपने ज्ञान को लोगों के साथ बांट कर Youtube पर मोनेटाइजेशन करके भी पैसे कमा सकते हैं।

सरकारी शिक्षक कैसे बने? – How to Become a Government Teacher?

सरकारी टीचर बनने के लिए आपको कुछ प्रक्रियाओं का पालन करना होता है और धीरे-धीरे अपने कदम आगे बढ़ाने होते हैं। नीचे हम आपको सरकारी टीचर बनने की प्रोसेस क्या है,इसकी इंफॉर्मेशन प्रदान कर रहे हैं।

1. 12वीं कक्षा पास करें

अगर आपको गवर्नमेंट टीचर या फिर सरकारी टीचर बनना है, तो आपको 12वीं कक्षा को अच्छे अंकों के साथ पास करना पड़ेगा। 12वीं कक्षा में आप चाहे कोई भी विषय ले सकते हैं,क्योंकि सरकारी टीचर बनने के लिए विषय की बाध्यता नहीं है। हालांकि आपको उन्हीं सब्जेक्ट का चुनाव करना चाहिए, जिसके अंदर आपको रूचि हो और जिसे पढ़ने में आपका मन लगता हो, ताकि आप अपनी स्टडी अच्छे से कर पाए और आगे चलकर सरकारी टीचर बनने के बाद विद्यार्थियों को भी अपने ज्ञान से प्रकाशमान कर पाए।

2. ग्रेजुएशन पूरी करें

12वीं कक्षा को अच्छे अंकों के साथ पास करने के बाद आपको डीएलएड या फिर बीटीसी के कोर्स में एडमिशन लेना है और इन कोर्स की अच्छे से पढ़ाई करनी है। याद रखिए आपको आगे चलकर नए स्टूडेंट को भी पढ़ाना है,इसीलिए आपको अपने विषय की पूरी जानकारी प्राप्त करनी है और मन लगाकर अपनी पढ़ाई करनी है।

3. CTET/TET एंट्रेंस एग्जाम क्लियर करे

जैसे ही आप डीएलएड या फिर बीटीसी कोर्स की पढ़ाई कंप्लीट कर लेते हैं, तो उसके बाद आपको एक एंट्रेंस एग्जाम को पास करना होगा जिसे टीचर एबिलिटी टेस्ट कहा जाता है। अगर आप टीचर एबिलिटी टेस्ट को पास करते हैं तो आपको अपने राज्य में नौकरी प्राप्त होगी और अगर आप केंद्र सरकार के किसी स्कूल में नौकरी प्राप्त करना चाहते हैं, तो आपको CTET की एंट्रेंस एग्जाम को देना होगा।

अपनी पसंद की एंट्रेंस एग्जाम को देने के बाद आपको अच्छे अंकों के साथ उसे पास करना होगा। एंट्रेंस एग्जाम देने के बाद एक मेरिट लिस्ट कमेटी की तरफ से बनाई जाती है और उसमें जिसके अंक जितने ज्यादा होते हैं, उन्हें गवर्नमेंट टीचर की पोस्ट के लिए सिलेक्ट कर लिया जाता है।

4. ट्रेनिंग कंप्लीट करें

मेरिट लिस्ट में सिलेक्शन होने के बाद अभ्यर्थी को ट्रेनिंग के लिए भेज दिया जाता है, जहां पर उसे अनुभवी शिक्षकों के द्वारा स्कूलों में ट्रेनिंग प्रदान की जाती है।

5. पद ग्रहण करें

ट्रेनिंग कंप्लीट करने के बाद अभ्यर्थी को स्कूलों में पढ़ाने के लिए नियुक्ति प्रदान कर दी जाती है।इस प्रकार अभ्यर्थी सरकारी टीचर अथवा गवर्नमेंट शिक्षक बनने में कामयाब हो जाता है।

निष्कर्ष

आशा करते हैं कि आपको Government Teacher Details In Hindi की पूरी जानकारी प्राप्त हो चुकी होगी। अगर फिर भी आपके मन में Government Teacher Kaise Bane (How To Become Government Teacher In Hindi) और सरकारी शिक्षक कैसे बने? को लेकर कोई सवाल हो तो, आप बेझिझक Comment Section में Comment कर पूछ सकते हैं।

अगर यह जानकारी पसंद आया हो तो, जरूर इसे Share कर दीजिए ताकि Government Teacher Kya Hota Hai बारे में सबको जानकारी प्राप्त हो।

About Ainain

government teacherमैं इस ब्लॉग का संस्थापक और एक पेशेवर ब्लॉगर हूं। यहाँ पर मैं नियमित रूप से अपने पाठकों के लिए उपयोगी और मददगार जानकारी साझा करता हूं। ❤️

Leave a Comment

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.